Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

गणपति साधना का क्या महत्व है?


गणपति साधना का महत्व;-

07 FACTS;-

1-साधना के जरिए ईश्वर की कृपा प्राप्ति और साक्षात्कार के मुमुक्षुओं के लिए गणेश उपासना नितान्त अनिवार्य है। इसके बगैर न तो जीवन में और न ही साधना में कोई सफल हो सकता है। समस्त मांगलिक कार्यों के उद्घाटक एवं ऋद्धि-सिद्धि के अधिष्ठाता भगवान गणेश का महत्व वैदिक एवं पौराणिक काल से सर्वोपरि रहा है।भारतीय संस्कृति में गणेश ही एकमात्र ऐसे देवता हैं जो सर्वप्रथम पूजे जाते हैं। उन्हें ‘गणपति-गणनायक’ की पदवी प्राप्त है। ‘ग’ का अर्थ है- जीवात्मा, ‘ण’ का अर्थ है- मुक्तिदशा में ले जाना तथा ‘पति’ का अर्थ है- आदि और अंत से रहित परमात्मदशा में लीन होने तक की कृपा करने वाले देव।

2-'रुद्रयामल तंत्र' में साधना-मार्ग पर बढ़ने वाले साधकों के निमित्त महागणपति साधना नितांत आवश्यक मानी गई है। महागणपति की साधना इष्टसिद्धि, विघ्ननाश एवं द्रव्य प्राप्ति के लिए अत्यंत उपयोगी कही गई है। शास्त्रों में गणपति का सूक्ष्म रूप ‘ओंकार’ है तथा स्वास्तिक चिन्ह को गणपति का प्रतीक माना जाता है अर्थात स्वास्तिक उनका प्रतिरूप है। चूंकि ‘ग’ बीजाक्षर है, अतः यह समूचे स्वास्तिक चिन्ह का संक्षिप्त रूप है। इस प्रकार गणेश जी की मूर्ति अथवा चित्र तथा स्वस्तिक अथवा ‘ग’ बीज- किसी की भी पूजा की जाए, वह गणपति की ही पूजा होगी और उसका पूर्ण फल प्राप्त होगा।

3-गणपति साधना के तीन माध्यम हैं- मूर्ति (प्रतिमा या चित्र), यंत्र और मंत्र।श्रीमहागणपति मन्त्र में गणपति का ” गं ” बीज है और ” ग्लौं ” बीज भी है । गं बीज गणपति तत्व जागृत करता है और ग्लौं बीज …भूमि-वराह का कारक होने से वो जागतिक विश्व विस्तार का प्रतीक है।गणपति साधना

अत्यंत महत्वपूर्ण है।ये एकमेव ऐसी श्रेष्ठ साधना है जो आपको भौतिक कर्मो से मुक्ति देने में सक्षम है। क्योंकि बाकी कोई देवता कर्म नष्ट नही करते ।

साधक को आगे की साधना के पथ पर आरोहण करने के लिए , साधक के जो कुलदोष पितृदोष है ,गणपति उसका निवारण करते हैं।जिससे कुल-पितरो के आशीर्वाद मिलते हैं; बिना इनके आशीर्वाद कोई साधना आगे नही बढ़ती हैं ।

4-श्रीमहागणपति साधना में बहुत सारे साधको को प्रथमतः शरीर के हड्डियों के सन्धियों , जोड़ो में सामान्य दर्द होता हैं ,आलस्य निद्रा भी आनी शुरू होती हैं , एक जड़त्व आना शुरू होता है ,अतः साधना में ये लक्षण शुरू होना आवश्यक हैं।क्योंकि , मनुष्य के शरीर की संधि जोड़ो में ही कुल-पितृदोष की नकारात्मक ऊर्जा समायी रहती हैं ;जिसको वो खींचना शुरू करते हैं।बहुत कम साधको को इसमे हवा में तैरने जैसे अनुभव आते हैं;या चैतन्यता का अनुभव होता हैं ।

5-श्रीमहागणपति को तीन नेत्र है ,ये त्रैलोक्य ज्ञान आधिष्ठता रूप में दिखते

है ,जैसे दसमहाविद्या और शिव।हात में अनार है , ये अनार अनेकों ब्रम्हांडो को अपने अंदर दाने दाने की तरह लेकर अपनी प्रतिष्ठा दिखाता है।मस्तक पर जो चन्द्रचूड़ामनी है वो 16 कलाओ युक्त है।दोनों कनपटियों से झरने

वाले मद जल को पीने वाले भुंगो को वो अपने लंबे कान हिलाये ,दूर कर रहे हैं ।सूंड में अमृतकलश है , जो आपको मनचाहा वरदान तथा अमरत्व

देने योग्य है।ये सब चिन्ह श्रीमहागणपति की उच्चतम श्रेष्ठता दिखाते है।

6-गणेशजी की कृपा प्राप्ति के लिए इच्छुक व्यक्ति को चाहिए कि वह गणेशजी के किसी भी छोटे से मंत्र या स्तोत्र का अधिक से अधिक जप करे तथा मूलाधार चक्र में गणेशजी के विराजमान होने का स्मरण हमेशा बनाए रखे। इससे कुछ ही दिन में गणेशजी की कृपा का स्वतः अनुभव होने

लगेगा।गणेश प्रतिमाओं का दर्शन विभिन्न मुद्राओं में होता है लेकिन प्रमुख तौर पर वाम एवं दक्षिण सूण्ड वाले गणेश से आमजन परिचित हैं। इनमें सात्विक और सामान्य उपासना की दृष्टि से वाम सूण्ड वाले गणेश और तामसिक एवं असाधारण साधनाओं के लिए दांयी सूण्ड वाले गणेश की पूजा का विधान रहा है।

7-तत्काल सिद्धि प्राप्ति के लिए श्वेतार्क गणपति की साधना भी लाभप्रद है। ऐसी मान्यता है कि रवि पुष्य नक्षत्रा में सफेद आक की जड़ से बनी गणेश

प्रतिमा सद्य फलदायी है।देश में गणेश उपासना के कई-कई रंग देखे जा सकते हैं। यहां की प्राचीन एवं च