Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

क्या एलिमेंटल नॉलेज के बिना स्वयं को जानना संभव नहीं है?क्या प्रत्येक डोमिनेटेड एलिमेंट के इष्ट औ


क्या हैं एलिमेंटल नॉलेज?-

27 FACTS;-

1-हमारे तीन शरीर है...स्थूल, सूक्ष्म, कारण।अपने एलिमेंट को जानना

अथार्त अपने स्थूल शरीर, अपने कॉन्शसनेस को जानना।इसके बाद

अपने एलिमेंट के आराध्य को जानना अथार्त अपने सबकॉन्शियस को, अपनी आत्मा को जानना।इसके बाद अपने आराध्य के आराध्य को जाननाअथार्त परमात्मा को जानना ,

सुपरकॉन्शियस को जानना।उदाहरण के लिए यदि आप वाटर एलिमेंट है ;तो सबसे पहले ध्यान में आपको फीलिंग/अनुभूतियां होंगी क्योकि यह आपका एलिमेंट है।

2-इसके बाद वाटर एलिमेंट का आराध्य है ; फायर एलिमेंट।तो आपको दृश्य आने लगेंगे।फायर एलिमेंट का आराध्य है...एयर एलिमेंट।तो ध्यान में,सबसे अंत मेंआपको साउंड आने

लगेगा।अर्थात आप अपने सुपरकॉन्शियस, परमात्मा से जुड़ जाएंगे।तो सबसे पहले स्वयं को

जाने। फिर अपनी आत्मा को जाने! और इसके बाद परमात्मा को जाने।यदि आप फायर एलिमेंट है;तो पहले ध्यान में दृश्य आएंगे।फायर एलिमेंट का आराध्य है...एयर एलिमेंट।तो आपको साउंड सुनाई पड़ेंगे।एयर एलिमेंट का आराध्य है वाटर एलिमेंट! तो अंत में आपको अनुभूतियां होंगी।

3-इसी प्रकार यदि आप एयर एलिमेंट है तो ध्यान में सबसे पहले साउंड

आएगा।क्योकि यह आपका एलिमेंट है।इसके बाद एयर एलिमेंट का आराध्य है...वाटर एलिमेंट ; तो आपको अनुभूतियां होंगी।और वाटर एलिमेंट का आराध्य है....फायर एलिमेंट।तो अंत में आपको दृश्य आने शुरु होंगे।दृश्य, साउंड और फिलिंग्स...ध्यान में यह तीनों चलते

रहते हैं।परंतु आपका फोकस एक चीज में नहीं होता है।तो पहले आप अपने एलिमेंट का काम करें ; फिर अपने एलिमेंट के आराध्य का।इसके बाद आराध्य के आराध्य का।इस प्रकार

से हमें अपने तीनों एलिमेंट के 33% पूर्ण करने है।तब एक परसेंट में वह सातवां एलिमेंट आता है;जिसकी कोई व्याख्या नहीं की जा सकती।

4-हमारी फिजिकल बॉडी ही सिनेमा हॉल की स्क्रीन है।चाहे कितने करोड़ों की पिक्चर

हो;लेकिन उसका डिस्प्ले सफेद स्क्रीन में ही होता है।इस प्रकार सफेद स्क्रीन है हमारी कॉन्शसनेस और हमारी फिजिकल/ स्थूल बॉडी..।डिस्प्ले होने वाली फिल्म है हमारी सबकॉन्शसनेस,सूक्ष्म शरीर/ सटल बॉडीऔर फिल्म का डायरेक्टर है..सुपरकॉन्शसनेस ,

कारण शरीर।जब तक हमारी कॉन्शसनेस स्टेट सही/फिट नहीं है।तब तकसबकॉन्शसनेस सफेद स्क्रीन पर डिस्प्ले नहीं हो सकती।और सुपरकॉन्शसनेस तो बिल्कुल ही नहीं हो सकती।तो सबसे पहले हमें अपनी कॉन्शसनेस सही करनी है।अथार्त अपने इष्ट की साधना करनी है।

5-जब हमारी कॉशसनेस सही हो जाए;तब अपने इष्ट के आराध्य की साधना करनी है।अथार्त

आत्मा का ज्ञान करना है;आत्मज्ञानी बनना है।और जब सबकॉन्शसनेस का भी ज्ञान हो जाए;तब अपने आराध्य के आराध्य की साधना करनी है।अथार्त परमात्मा का ज्ञान करना है;

ब्रह्मज्ञानी बनना है।ध्यान में जब हमारी कॉन्शसनेस सही होती है।तो यह पहली स्टेज है;तब जो अंदर होता है वह बाहर दिखने लगता है;यह दूसरी स्टेज है।यह डिस्प्ले भी हमारी फिजिकल बॉडी में होता है।तब हम अपने एलिमेंट में खड़े हो जाते हैं।इसके बाद जब हम सबकॉन्शसनेस का ज्ञान करते हैं ;तो यह तीसरी स्टेज है।और तब अपनी हम आत्मा में खड़े हो जाते हैं..चौथी स्टेज।यह डिस्प्ले भी हमारी फिजिकल बॉडी में ही होता है।

6-पांचवी स्टेज है..जब हम अपनी सुपरकॉन्शियस का ज्ञान करते हैं और हम ब्रह्मज्ञानी बन जाते हैं ...छठी स्टेज।तो पहला स्टेप है अपनी कॉन्शसनेस में खड़े होना/ अपने एलिमेंट में खड़े होना। दूसरा स्टेप है आत्मज्ञानी होना।तीसरा स्टेप है ब्रह्मज्ञानी होना।और सभी डिस्प्ले हमारी कॉन्शसनेस में ही दिखते है। यहां पर हम सभी एलिमेंट के हिसाब से लिखेंगे कि उसकी कॉन्शसनेस, सबकॉन्शसनेस और सुपरकॉन्शसनेस क्या है? साथ में हम पंचप्राण चक्रों के एलिमेंट, वाणी, ब्रेनवेव और 5 कोश के बारे में भी जानेंगे...

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

सात चक्र>>>>>वाणी के प्रकार >>>>>ब्रेनवेव>>>>>पांच-कोश

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-मूलाधार चक्र>>अपरा वाणी >>गामा वेव>>अन्नमय कोश..स्थूल शरीर

2-स्वाधिष्ठान चक्र>>परावाणी >>बीटा वेव>>प्राणमय कोश..सूक्ष्म शरीर

3-मणिपुर चक्र>>पश्यन्ति वाणी >>अल्फ़ा वेव>>

4-अनाहत चक्र>>मध्यमा वाणी >>थीटा वेव>>मनोमय कोश..सूक्ष्म शरीर

5-विशुद्ध चक्र>>वैखरी वाणी >>डेल्टा वेव>>विज्ञानमय कोश (अन्तर्ज्ञान से बना)

6-आज्ञा चक्र>>>आनंदमय कोश...कारणशरीर

7-सहस्त्रार चक्र>>>.

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

सात प्रकार के शरीर>>>सात चक्र>>>पांच प्राण>>>चक्रों के एलिमेंट

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-स्थूल शरीर-फिजिकलबॉडी>>मूलाधार चक्र>> अपान>>वाटर-फायर एलिमेंट

2-भाव शरीर(इमोशन बॉडी)>>स्वाधिष्ठान चक्र>>व्यान>>वाटर-एयर एलिमेंट

3-कारण शरीर-एस्ट्रल बॉडी>>मणिपुर चक्र>>> समान>>फायर-वाटर एलिमेंट

4-मानस शरीर-मेन्टल बॉडी>>अनाहत चक्र>>>प्राण>>फायर-एयर एलिमेंट

5-आत्मिक शरीर-स्प्रिचुअल बॉडी>>विशुद्ध चक्र>>>उदान>>एयर-वाटर एलिमेंट

6-ब्रह्म शरीर -कॉस्मिक बॉडी>>आज्ञा चक्र>>>.......>>एयर-फायर एलिमेंट

7-निर्वाण शरीर-बॉडीलेस बॉडी>>सहस्त्रार चक्र.......>>बियॉन्ड एलिमेंट

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

//////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

तीन एलिमेंट >>>उनके इष्ट >>> इष्ट के आराध्य>>> आराध्य के आराध्य

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-एयर एलिमेंट;-

>>>भगवान महेश/माता सरस्वती

>>>भगवान विष्णु/माता काली/गणेश/हनुमान

>>>माता लक्ष्मी/माता पार्वती, कामाख्या

2-फायर एलिमेंट;-

>>>माता लक्ष्मी/माता पार्वती ,कामाख्या

>>>भगवान विष्णु/माता काली/ गणेश/हनुमान

>>>भगवान महेश/माता सरस्वती

3-वाटर एलिमेंट;-

>>>भगवान विष्णु/माता काली/ हनुमान

>>>माता लक्ष्मी/माता पार्वती,कामाख्या

>>>भगवान महेश/माता सरस्वती

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

7-इस दुनिया में ईश्वर सभी प्राणियों में एलिमेंट के रूप में विद्यमान है।

हर प्राणी में एलिमेंट के छह प्रकार विद्यमान है;परंतु एक एलिमेंट का डोमिनेन्स है।ईश्वर को प्रत्यक्ष रूप से देखना बहुत कठिन है।परंतु आप न केवल अपने परिवार में ,बल्कि इस पूरे संसार में उसे प्रत्यक्ष रूप से देख सकते हैं।एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति के लिए उसकी कॉशसनेस ही जीवात्मा है।वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसके लिए आत्मा अथार्त

सबकॉन्शियसनेस है;और फायर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसके लिए सुपरकॉन्शियसनेस अथार्त परमात्मा है।

8-इसी प्रकार वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति के लिए वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी जीवात्मा अथार्त कॉन्शसनेस है।फायर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी आत्मा है।और एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसका परमात्मा है।इसी प्रकार से एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति के लिए एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी कॉन्शसनेस है।फायर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी आत्मा है।और वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसके लिए परमात्मा है।

9-जब हमारा अपनी कॉन्शसनेस के डोमिनेटेड एलिमेंट व्यक्ति से व्यवहार अच्छा हो जाता है।तब हम संसार की Known चीजें के बारे में जान जाते हैं।जब हमारा व्यवहार हमारी आत्मा के डोमिनेटेड एलिमेंट व्यक्ति से व्यवहार सिद्ध हो जाता है ;तब हम Unknown चीजों , इस संसार के रहस्य के बारे में जान जाते हैं और जब हमारा व्यवहार परमात्मा के डोमिनेटेड एलिमेंट व्यक्ति से व्यवहार सिद्ध हो जाता है ;तब हम इस सम्पूर्ण ब्रह्मांड/Whole Cosmos के बारे में जान जाते हैं। ''नोन, अननोन और होल'';जीवात्मा, आत्मा और परमात्मा।

10-वास्तव में,जब हम अपने कॉन्शसनेस के इष्ट की सिद्धि करते हैं तो संसार में भी हमें हमारी कॉशसनेस को बढ़ाने वाले व्यक्ति से सिद्धि हो जाती है।जब हम अपने कॉशसनेस को सिद्ध कर लें ;तब अपनी आत्मा को जानने का प्रयास करें।इसके लिए हमें अपने आत्मा वाले एलिमेंट के इष्ट से सिद्धि करनी होगी और जब वह सिद्धि तब होगी ;तब संसार में हमें हमारी सबकॉशसनेस को बढ़ाने वाले व्यक्ति से भी सिद्धि हो जाती है और हम आत्मज्ञानी बन जाते हैं।तब हमें परमात्मा वाले इष्ट की सिद्धि करनी चाहिए।जब वह सिद्धि होगी ;तब हमें संसार में भी कोई परमात्मा के एलिमेंट वाला व्यक्ति मिल जाएगा ;जो हमें ब्रह्मज्ञानी बना देगा।

11-इस प्रकार जब हम तीनों सर्किल को पूरा कर लेते हैं तो संसार के सर्किल से बाहर हो जाते हैं।इसके बाद हमारा जन्म हमारी इच्छा के अनुसार होता है ;हम मुक्त हो जाते हैं ।लेकिन जब तक हमारा यह सर्किल नहीं पूरा होता;तब तक हमें बार-बार बंधकर/ चैन्ड होकर आना पड़ता है।यह चेन है;इस चेन को पूरा करने पर ही हम सर्किल को पार कर पाते हैं।इसके बिना ना हम स्वयं में खड़े हो पाते हैं, ना आत्मज्ञानी बन पाते हैं और ना ही ब्रह्मज्ञानी बन पाते हैं।इष्ट की सिद्धि ही हमें संसार में उन प्राणियों से मुलाकात कराती है ;जो हमारे सर्किल को पूरा कर देते हैं।

12-तो सबसे पहले अपनी कॉन्शसनेस को सिद्ध करने वाला व्यक्ति समाज में सम्मानित ही

होगा।इसके बाद ही उसे आत्मज्ञानी बनने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि आत्मा और परमात्मा दोनों ही कॉन्शसनेस की स्क्रीन पर ही डिस्प्ले होते हैं। ईश्वर ने यह संसार बहुत ही सुंदर तरीके से बनाया हैं ;परंतु हमने इसे बदसूरत बना दिया। एलिमेंटल नॉलेज के द्वारा हम पुनः इस संसार को खूबसूरत बना सकते हैं।हमारे परिवार में ही कोई हमारी कॉशसनेस है ,तो कोई हमारी सबकॉशसनेस और कोई सुपरकॉशसनेस।

13-परंतु हम उन्हें पहचान ही नहीं पाते और ईश्वर की भक्ति करते रहते हैं। यदि हम एलिमेंट्स में ईश्वर को नहीं देख पाए तो फिर कहां देख पाएंगे, जरूरत है इस ज्ञान को संरक्षित

करने की ...एक नई दुनिया बनाने की।हम अपनी कॉन्शसनेस,सबकॉन्शसनेस और सुपरकॉन्शसनेस के बिना अधूरे हैं। तीनों के बिना हम पूर्ण नहीं हो सकते; सर्किल को पार नहीं कर सकते।और यह सब हमें अपने परिवार, अपने मित्रों के साथ ;इसी संसार में मिलेगा ;क्योकि ईश्वर एलिमेंट्स के रूप में प्रत्यक्ष विद्यमान है।

14-क्या है सर्किल का रहस्य?...एक बिग सर्किल में कुछ भी छोटा बड़ा नहीं होता; केवल एक परिक्रमा होती है।त्रिदेव/ त्रिदेवी तीन एलिमेंट का प्रतीक है ;उनमें कोई छोटा- बड़ा नहीं है और सबको यह सर्किल पूरा करना पड़ता है।सर्किल जहां से शुरू होता है वहीं से पूरा होता

है।उदाहरण के लिए श्रीहरि वाटर एलिमेंट है परंतु जब भी वह अवतार लेते हैं तो अपने आराध्य का अवतार लेते हैं अथार्त फायर एलिमेंट का।महेश एयर एलिमेंट है परंतु जब भी वह अवतार लेते हैं तो अपने आराध्य का अवतार लेते हैं अथार्त वाटर एलिमेंट। उसी प्रकार से ब्रह्मा फायर एलिमेंट है परंतु जब भी वह अवतार लेते हैं तो अपने आराध्य का अवतार लेते हैं अथार्त एयर एलिमेंट।गुरु द्रोणाचार्य; एयर एलिमेंट ब्रह्मा के ही अवतार माने जाते हैं।

15-तो इस प्रकार इस संसार में सभी लोग सर्किल में जहां से शुरू करते हैं, हमें उसी पॉइंट पर वापस जाना होता है। जैसे कि वाटर एलिमेंट का सुपरकॉन्शियस है..एयर एलिमेंट। इसका अर्थ है कि उसका बिगिनिंग पॉइंट एयर एलिमेंट है;इसीलिए उसने वाटर एलिमेंट के रूप में जन्म लिया है।उसेअपने एलिमेंट को मेंटेन करते हुए फायर एलिमेंट को साधना है। उसे आत्मज्ञानी बनना है और इसके बाद ब्रह्मज्ञानी बनकर वापस अपने एयर एलिमेंट में जाना है।

16-इसी प्रकार फायर एलिमेंट का बिगिनिंग पॉइंट है...वाटर एलिमेंट।

जन्म लिया फायर एलिमेंट के रूप में ;विकास करना है एयर एलिमेंट का। उसे आत्मज्ञानी बनना है और ब्रह्मज्ञानी बनकर वापस अपने वाटर एलिमेंट में जाना है। इसी प्रकार एयर एलिमेंट का बिगिनिंग पॉइंट है ...फायर एलिमेंट ;जन्म लिया एयर एलिमेंट का और वाटर एलिमेंट को साधना है;आत्मज्ञानी बनना है।इसके बाद ब्रह्मज्ञानी बनकर वापस अपने फायर एलिमेंट में जाना है। इस प्रकार त्रिदेव में या तीनों एलिमेंट में कोई भी छोटा बड़ा नहीं है। सब

एक सर्किल में है और सभी को वह सर्किल पूरा करना है।जो हमारा बिगिनिंग पॉइंट है;वापस वही पहुंचना है। यही है सर्किल का रहस्य।

17-भगवत गीता में श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि पहले तुम स्वयं को जानो

और उसी के अनुरूप कार्य करो।उनका कहने का अर्थ है कि पहले अपने डोमिनेटेड एलिमेंट को जानो; इसके बाद उसी के अनुसार कार्य करो।यही बात हम लोगों पर भी लागू होती है।सबसे पहले हम लोग अपने डोमिनेटेड एलिमेंट को जाने; इसके बाद सुनिश्चित/डिसाइड करें कि हमें किस इष्ट की साधना करनी है?स्वयं श्रीकृष्ण फायर डोमिनेटेड एलिमेंट है। वह गोल्डन कलर के वस्त्र धारण करते हैं।अपना फायर मेंटेन रखते हैं।बांसुरी बजाकर ,नृत्य करके,मोर पंख लगाकर एयर एलिमेंट का सिंबल देते हैं।और महाभारत युद्ध में सारथी बनकर अपना सुपरकॉन्शसनेस/ वाटर एलिमेंट को सिद्ध करते हैं ;इसलिए वह पूर्ण परमात्मा है।

18-ज्यादातर यह होता है कि सभी लोग बहुत सारी साधना/पूजा किया करते हैं और परेशान रहते हैं।कारण यह है कि एक छोटे बच्चे को यदि हम हाई स्कूल की किताब पढ़ने के लिए दे दे तो आप समझ सकते हैं कि क्या होगा?ना तो वह बच्चा अपना कोर्स पूरा कर पाएगा और ना ही हाईस्कूल की किताब को समझ पाएगा और उसका दिमाग घूम जाएगा/बर्स्ट हो जाएगा।कॉन्शसनेस की साधना.. बेसिक साधना है;सबकॉन्शसनेस की साधना हाई स्कूल है और सुपरकॉन्शसनेस की साधना इंटर है।यदि हम बेसिक पूरा किए बिना ही हाई स्कूल करने लगेंगे तो हमारा जीवन दूभर हो जाएगा।दिमाग हमारा साथ नहीं देगा और हम संसार में सम्मान भी नहीं पा सकेगे।

19-इसलिए सबसे पहले हम अपने कॉन्शसनेस के इष्ट को साधे।इसके पहले हमें हाईस्कूल की किताब नहीं देखनी है।वरना सब हॉचपॉच हो जाएगा।तो सबसे पहले हम अपना बेसिक कंप्लीट करें ;जो हमें हाई स्कूल करने का आधार देगा।हमें सर्किल में तीनों पॉइंट स्कोर करने है;परंतु बेसिक सबसे पहले..वरना सब अधूरा हो जाएगा।तो मेरी सलाह यह है कि जो लोग ऐसी गलती कर रहे हैंअथार्त बिना बेसिक को कंप्लीट किए ही हाई स्कूल, इंटर की किताबें पढ़ रहे हैं;अपनी गलती सुधार ले , जिससे उनका जीवन बदल जाए।इसका अर्थ यह नहीं है कि अपने तीनों इष्ट का सम्मान ना करें। सम्मान करना अलग बात है।एक छोटा बच्चा भी हाई स्कूल की किताब का सम्मान ही करता है क्योंकि आगे उसकी मंजिल वही है।परंतु सम्मान करने का अर्थ यह नहीं है कि उसको पढ़ना शुरू कर दे।यही बात हमें भी समझनी है।

20-इस प्रकार फायर एलिमेंट का सर्किल है कि वह पहले धन कमाए ,लाभ कमाएं,क्रिएशन करें। फिर दूसरा पॉइंट है कि ज्ञान अर्जित करें और तीसरा पॉइंट है कि उस ज्ञान से पालन करें।सबसे पहले क्रिएशन ,फिर ज्ञान और फिर पालन।वाटर एलिमेंट के लिए है कि वह सबसे पहले धन संचित करें।इसके बाद उस संचित धन से अधिक धन कमाए और फिर ज्ञान करें।एयर एलिमेंट के लिए है कि वह पहले ज्ञान करें ;फिर ज्ञान का संचय करेंऔर फिर उस ज्ञान से धन कमाए। 21-अब इसमें एक समस्या होती है कि जो विद्यार्थी जस्ट पास होते हैं या जो 40% से पास होते हैं तो वह हाई स्कूल में आकर फेल हो जाते है।इसका अर्थ हैं कि जिसका आधार या कॉन्शसनेस की साधना कमजोर है ;वह सबकॉन्शियसनेस में आकर फेल हो जाएगा। परंतु कुछ लोग ऐसे भी होते हैं ; जो सबकॉन्शियस में फेल होने के बाद पुनः कॉन्शसनेस को पकड़

लेते हैं।और कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो हाई स्कूल पास होने के बाद पुनः बेसिक को मजबूत करते रहते हैं।इसका एक ही कारण है; और वह यह है कि उनका बेसिक कमजोर रह जाता है।उन्होंने अपना जूनियर हाई स्कूल कम परसेंटेज से पास किया होता है। जिसके कारण हाई स्कूल करने के बाद वह पुनः अपना जूनियर हाई स्कूल कंप्लीट करने लगते हैं।और केवल आत्मज्ञानी ही बने रहते हैं।उनका ब्रह्मज्ञान का रास्ता अधूरा ही रहता है।

22-उदाहरण के लिए रावण फायर एलिमेंट था। उसने ब्रह्मा जी से वरदान लेकर अपनी कॉन्शसनेस मजबूत की।इसके बाद उसने भगवान शिव से वरदान लेकर अपनी सबकॉन्शसनेस मजबूत की।परंतु इसके बाद वह पालनहार नहीं बन सका और पुनः अपनी बेसिक में लौट गया अथार्त फायर एलिमेंट(लाभ /क्रिएशन) का काम करने लगा।उसने ना विष्णु की साधना की और ना ही पालनहार हो पाया।इसलिए रावण केवल आत्मज्ञानी रह गया।और जिसके सर्किल में दो पॉइंट ही पूरे होते हैं ; वह कभी भी भटक सकता है।इसलिए हमें भी यह ध्यान रखना है कि हम अपनी कॉन्शियस को मजबूती से पकड़े।तभी सबकॉन्शियस की तरफ बढे।

23-फायर एलिमेंट के कुछ गुरु भी ऐसा ही कर देते हैं।वे थोड़ी सी क्रिएशन करते हैं। इसके बाद ज्ञान करते हैं। लेकिन ज्ञान करने के बाद पुनः बेसिक मजबूत करने लगते हैं।कारण वही है ,उनकी बेसिक कॉन्सेप्ट मजबूत नहीं थी ,अधूरी थी।इसलिए ज्ञान करने के बाद वह पुनः कॉन्शियस मजबूत करने लगे ;जबकि उन्हें वाटर की तरह बढ़ना चाहिए था ,पालन करना चाहिए था और वह केवल आत्मज्ञानी ही रह जाते हैं ;ब्रह्मज्ञानी नहीं हो पाते।

24-इस ब्रह्मांड में एलिमेंट के तीन सर्किल सभी को पूरे करने पड़ते हैं।चाहे वह देव, दानव , मानव या कोई अन्य हो।उदाहरण के लिए हम सभी जानते हैं कि एक प्रतियोगिता में प्रथम पूज्य घोषित करने के लिए भगवान महादेव ने यह घोषणा की थी कि जो पृथ्वी के तीन चक्कर लगा लेगा वह प्रथम पूज्य बन जाएगा। इसमें कार्तिकेय अपने वाहन मयूर (एयर एलिमेंट) के साथ; इंद्र अपने वाहन एरावत के साथ; सूर्य देव अपने वाहन सात घोड़ों के साथ(फायर एलिमेंट);वरुण देव अपने वाहन मगरमच्छ (वाटर एलिमेंट) के साथ। पवन देव अपने वाहन हिरण (एयर एलिमेंट) के साथ और गणेश जी अपने वाहन मूषक के साथ थे। इंद्रदेव के लिए उनका वाहन एरावत वाटर एलिमेंट अथार्त सुपरकॉन्शियस का वाहन था और वह सबसे ज्यादा परेशान थे।

25-कार्तिकेय (फायर एलिमेंट)अपनी सबकॉन्शसनेस स्टेट के वाहन पर सवार है अथार्त आत्मज्ञानी है।जबकि अन्य सभी देवता अपनी-अपनी कॉन्शसनेस के वाहन पर सवार है । केवल गणेश ही अपने सुपरकॉन्शियसनेस के वाहन अथार्त एयर एलिमेंट पर सवार है। तो इस प्रकार सभी देवता अपनी कॉन्शियसनेस स्टेट में, और कार्तिकेय अपनी सबकॉन्शसनेस स्टेट में है। केवल गणेश सुपरकॉन्शियसनेस स्टेट में है ।पृथ्वी की तीन परिक्रमा का मतलब ..तीनों सर्किल की तीन परिक्रमा से है; जो हम सभी को लगानी है।गणेश ब्रह्मज्ञानी है , इसलिए उन्हें प्रथम पूज्य घोषित किया गया।गणेश वाटर क्लेन(Clan)से हैं। सर्वप्रथम उन्होंने देवताओं को दंड दिया और अपनी कॉन्शियसनेस मजबूत की।इसके बाद उन्होंने अपनी माता को प्रसन्न किया। यानीअपनी आत्मा फायर एलिमेंट को प्रसन्न किया।अंत में शिव द्वारा शीश कटने के बाद वह ज्ञान की तरफ मुड़ गए अथार्त एयर एलिमेंट। इस प्रकार उन्होंने अपनी तीनों परिक्रमा पूरी कर ली।

26-इस पूरे ब्रह्मांड में तीन क्लेन है...शिव क्लेन अथार्त एयर एलिमेंट; विष्णु क्लेन अथार्त वाटर एलिमेंट और ब्रह्मा क्लेन अथार्त फायर एलिमेंट।इस ब्रह्मांड में सभी आत्माएं इन्हीं तीनों क्लेन से ही आई है।और सबकी वापसी भी वहीं पर होनी है ;लेकिन तब तक नहीं हो सकती; जब तक हम अपनी तीन परिक्रमा नहीं पूरी कर लेते।उदाहरण के लिए अगर हम शिव क्लेन से हैं ;तो हमारी यात्रा वाटर से शुरू होगी;फिर फायर में स्विच करनी होगी। और अंत में एयर में स्विच करके वापिस शिव क्लेन में जाना होगा।

27-इसी प्रकार अन्य सभी की भी यात्राएं है।वास्तव में ब्रह्म ज्ञानी बनने के बाद अर्थात इंटर पूरा करने के बाद हमारे सामने पूरे ब्रह्मांड रूपी यूनिवर्सिटी खुल जाती है। हम इच्छाधारी हो जाते हैं कि ब्रह्मांड की किस यूनिवर्सिटी में प्रवेश करना चाहते हैं ।परंतु यहां भी परसेंटेज का मतलब है। 99% वाले को ही हावर्ड यूनिवर्सिटी मिलती है;40% वाले को तो लोअर लेवल की ही यूनिवर्सिटी मिलेगी।इसलिए हम ध्यान रखें कि अपनी कॉन्शसनेस से सुपरकॉन्शसनेस की यात्रा अच्छे परसेंटेज से करें।

क्या प्रत्येक एलिमेंट का भोजन भी अलग -अलग होता है -

02 FACTS;-

1-वास्तव में ,प्रत्येक एलिमेंट का भोजन भी अलग अलग होता है।''फैटी फूड पर्याप्त मात्रा में दो या तीन बार'' है ..वाटर एलिमेंट के लिए। ''ड्राई फूड..कम मात्रा में बार-बार'' है.. एयर एलिमेंट के लिए।''हॉट एंड बिटर फूड इन फिक्स टाइम'' है..फायर एलिमेंट के लिए।अब हमें इस बात को समझना पड़ेगा। यदि हम अपनी कॉशसनेस को ही बनाए रखना चाहते हैं तो हम अपने एलिमेंट का ही फूड खाएं। यदि हम अपनी आत्मा की तरफ बढ़ना चाहते हैं तो अपनी सबकॉन्शियस का भी फूड ले।

2-और जब हम इस लायक बन जाएं अथार्त आत्मज्ञानी हो जाएं।तब हम सुपरकॉन्शसनेस का फूड भी ले सकते हैं।उदाहरण के लिए वाटर एलिमेंट फैटी फूड खा सकता है परंतु इससे उसका तमस बढ़ता ही जाएगा।अपनी आत्मा के नजदीक पहुंचने के लिए उसको सबकॉन्शियस का अथार्त फायर एलिमेंट का फूड भी लेना चाहिए...संतुलित मात्रा में।यह

बात हम नीचे दिए हुए चार्ट से समझ सकते हैं...

//////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-वाटर एलिमेंट>>>

''फैटी फ़ूड पर्याप्त मात्रा में दो या तीन बार''...कॉन्शियसनेस बढाने के लिए

''हॉट एंड बिटर फूड, इन फिक्स टाइम;कम मात्रा में'... सबकॉन्शियसनेस बढाने के लिए

''ड्राई उबला ,बिना फ्राय फूड..कम मात्रा में, कभी-कभी ,इन फिक्स टाइम ''... सुपरकॉन्शियसनेस बढाने के लिए

2-एयर एलिमेंट>>>

''ड्राई,उबला ,बिना फ्राय फ़ूड ..कम मात्रा में बार-बार''... कॉन्शियसनेस बढाने के लिए

''फैटी फ़ूड कम मात्रा में ''... सबकॉन्शियस बढाने के लिए

''हॉट एंड बिटर फ़ूड, कभी-कभी '... सुपरकॉन्शियसनेस बढाने के लिए

3-फायर एलिमेंट>>>

''हॉट एंड बिटर फ़ूड इन फिक्स टाइम'' ...कॉन्शियसनेस बढाने के लिए

''ड्राई उबला ,बिना फ्राय फ़ूड..कम मात्रा में ''... सबकॉन्शियसनेस बढाने के लिए

''फैटी फ़ूड ,कभी-कभी ''...सुपरकॉन्शियसनेस बढाने के लिए

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

NOTE;-सबकॉन्शियस का फूड संतुलित मात्रा में लेना चाहिए...परन्तु आत्मज्ञानी बनने से

पहले सुपरकॉन्शियसनेस का फूड लेना फेटल /जानलेवा हो सकता हैं।

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

फैटी फ़ूड लिस्ट;-

13 FACTS;-

1-बादाम;-

बादाम में काफी मात्रा में हेल्दी फैट (Healthy Fat), एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant),

विटामिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं।28 gm बादाम में लगभग 150 कैलोरी होती हैं और 14 gm फैट पाया जाता है जिसमें 9 gm मोनोअनसेचुरेटेड (Monounsaturated) या

हेल्दी फैट होता है।बादाम खाने से मैग्नीशियम की मात्रा बढ़ती है और ब्लड शुगर लेवल में भी

काफी सुधार होता है।मस्तिष्क की कोशिकाएं (Mind Cells) भी मजबूत होती हैं, जिससे किसी भी दिमागी काम या फिर सोचने-समझने की क्षमता (Cognitive

Functions) में सुधार होता है।रिसर्च के मुताबिक, लो