Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

क्या एलिमेंटल नॉलेज के बिना ध्यान की स्टेज जानना संभव नहीं है?कैसे है ध्यान में होने वाले अनुभव ?

क्या हैं त्रिगुण अथार्त तीन ELEMENT(FIRE,WATER,AIR) ?-

07 FACTS;-

1-प्रकृति त्रिगुणमयी हैं। हमारे त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश ... तीनो प्रकृति के तीन गुणों (FIRE,WATER,AIR) का प्रतिनिधित्व करते हैं।वे सी क्यूब हैं ;अथार्त CREATOR,CARING और CONCLUSIVE... ब्रह्मा...FIRE ELEMENT(रजोगुण/

पित्त); विष्णु ..WATER ELEMENT(तमस/कफ ) और महेश... AIR ELEMENT( सत्वगुण/वात)का प्रतिनिधित्व करते हैं।और वे तीनो हीं अर्धनारीश्वर हैं।

2-संसार में WATER-CONTENT 70% है अथार्त WATER-ELEMENT के 70% लोग है।AIR CONTENT 28 % है अथार्त AIR -ELEMENT के 28% लोग है।FIRE CONTENT 2% है अथार्त FIRE -ELEMENT के 2% लोग है।

3-इस तत्वज्ञान से ये सिद्ध होता है....

1-ब्रह्मा;- FIRE ELEMENT/ FUTURE/रजस ,

2-विष्णु;- WATER-ELEMENT/ PAST/तमस

3-महेश;- AIR ELEMENT /PRESENT /सत्वगुण का प्रतिनिधित्व करते हैं।

4-त्रिगुण ..जो वर्तमान में हैं, वही भविष्य में है,जो भविष्य में है, वही भूत में भी हैं।ये तीनों ही काल एक दूसरे के विरोधी हैं ,परन्तु आत्मतत्व स्वरुप से एक ही हैं।आकाश, वायु, अग्रि, जल और पृथ्वी, यह पंच महाभूत सारे ब्रह्माण्ड को तो बनाते ही हैं हमारे शरीर की भी रचना करते हैं। आकाश और पृथ्वी तो प्रत्येक प्राणी के आधारभूत तत्व हैं;जिसके असंतुलन से एक सामान्य व्यक्ति होना ही संभव नहीं हैं।इसके बाद मुख्य रूप से तीन गुण प्रत्येक व्यक्ति में हैं।दो गुणों से कोई भी व्यक्ति बन नहीं सकता।एक गुण के साथ किसी व्यक्ति के अस्तित्व की कोई संभावना नहीं है। उन तीनों का जोड़ ही आपको शरीर और मन देता है।जैसे बिना तीन रेखाओं के कोई त्रिकोण न बन सकेगा, वैसे ही बिना तीन गुणों के कोई व्यक्तित्व न बन सकेगा। उसमें एक भी गुण कम होगा, तो व्यक्तित्व बिखर जाएगा।

5-अगर कोई व्यक्ति कितना ही सत्व-प्रधान हो, तो सत्व-प्रधान का इतना ही अर्थ है कि सत्व प्रमुख है, बाकी दो गुण सत्व के नीचे छिप गए हैं, दब गए हैं। लेकिन वे दो गुण मौजूद हैं और उनकी छाया सत्वगुण पर पड़ती रहेगी।प्रधानता उनकी नहीं है, वे गौण हैं।मनुष्य में तीनों प्रकार के त्रिगुण / त्रिदोष होते हैं किन्तु दो प्रधान दोषों के आधार पर उन्हें द्विंदज मान लिया जाता है।आपमें कोई भी गुण प्रकट हो, तब भी दो मौजूद होते हैं।

6-त्रिगुण / त्रिदोष... के अलग-अलग संयोजन हमारे शरीर में वात पित्त और कफ के रूप में रहते हैं।इस प्रकार संसार में केवल 6 प्रकार के मनुष्य होते हैं...

6-1-WATER-FIRE(कफ-पित्त)

6-2-WATER- AIR,(कफ-वात)

6-3-AIR- FIRE(वात-पित्त)

6-4-AIR-WATER(वात-कफ)

6-5-FIRE-AIR( पित्त-वात),

6-6-FIRE-WATER(पित्त-कफ) 7-त्रिगुण/त्रिदोष मानव शरीर की उत्पत्ति के कारक भी हैं।असंतुलन की स्थिति में AIR CONTENT (वात) बढऩे से 80, FIRE CONTENT(पित्त ) से 40 और WATER-CONTENT(कफ )से 20 किस्म की बीमारियां हो सकती हैं।प्रत्येक व्यक्ति के शरीर में उसकी प्रकृति के अनुसार निश्चित अनुपात में AIR/FIRE/WATER-CONTENT रहेगे। इनमें से एक की शरीर में प्रधानता उस व्यक्ति का प्रकृति तय करती है।

क्या हैं एलिमेंटल नॉलेज?-

21 FACTS;-

1-आपने भी चित्र में तीन बंदर की मूर्तियां देखी होंगी। एक बंदर आंख पर हाथ लगाए बैठा है, एक कान पर हाथ लगाए बैठा है, एक मुंह पर हाथ लगाए बैठा है। वास्तव में यह तीन बंदर तीन एलिमेंट का प्रतीक है। जो बंदर आंख बंद किए हुए हैं वह फायर एलिमेंट ;जो मुंह बंद किए हुए हैं। वह वाटर एलिमेंट और जो कान बंद किए हुए हैं वह एयर एलिमेंट हैं।तीनों एलिमेंट के अपने-अपने कार्य हैं।

2-जो भी थोड़ा सा मन को समझते हैं, वे समझते हैं कि आदमी का मन बंदर है।डार्विन तो बहुत बाद में समझा कि आदमी बंदर से ही पैदा हुआ है।लेकिन मन को समझने वाले सदा से ही जानते रहे हैं कि आदमी का मन बिलकुल बंदर है।आपने बंदर को उछलते -कूदते, बेचैन हालत में देखा होंगा। आपका मन पूरे वक्त उससे ज्यादा बेचैन हालत में, उससे ज्यादा उछलता कूदता है ।

3-अगर आपके मन का कोई इंतजाम हो सके और आपकी खोपड़ी में कुछ खिड़कियां बनाई जा सकें, और बाहर से लोग देखें तो बहुत हैरान हो जाएंगे

कि यह भीतर आदमी क्या कर रहा है!हम तो देखते थे कि पद्यासन लगाए शांत बैठा है, भीतर तो यह बड़ी यात्राएं कर रहा है, बड़ी छलांगें मार रहा है।और यह भीतर चल रहा है। यह भीतर आदमी का मन 'बंदर' है।

4-उन मूर्तियों के अर्थ की जो व्याख्या है वह आपके लिए उपयोगी होगी। समान्यतः व्याख्या है कि,जो यह बंदर कान पर हाथ लगाए बैठा है, तो अर्थ है कि बुरी बात मत सुनो। मुंह पर हाथ लगाए बैठा है, तो बुरी बात मत बोलो। आंख पर हाथ लगाए बैठा है,तो बुरी बात मत देखो। वह मत देखो जिसे देखने की कोई अनिवार्यता नहीं है।

5-लेकिन इससे गलत कोई व्याख्या नहीं हो सकती। क्योंकि जो आदमी बुरी बात मत देखो, ऐसा सोचकर आंख पर हाथ रखेगा, उसे पहले तो बुरी बात देखनी पड़ेगी। नहीं तो पता नहीं चलेगा कि यह बुरी बात हो रही है,

मत देखो।तो तब तक आपने देख ही ली।और बुरी बात की एक खराबी है कि आंख अगर थोड़ी देख ले और फिर आंख बंद की तो भीतर दिखाई पड़ती है।तब वह बहुत मुश्किल में पड़ जाएगा।

6-बुरी बात मत सुनो, सुन लोगे तभी पता चलेगा कि बुरी है। फिर कान बंद कर लेना, तो अब वह बाहर भी न जा सकेगी।अब वह भीतर घूमेगी।और यह तो बड़ी कमजोरी है कि बुरी बात सुनने से इतनी घबडाहट हो। अगर बुरी बात सुनने से आप बुरे हो जाते हैं, तो बिना सुने आप पक्के बुरे हैं। इस तरह बचाव न होगा।नहीं, यह मतलब नहीं है।

7-वास्तव में, हम कैसे अजीब काम कर रहे हैं। रास्ते पर चले जा रहे हैं, तो दंतमंजन का विज्ञापन है वह भी पढ़ रहे हैं, सिगरेट का विज्ञापन है वह भी पढ़ रहे हैं, साबुन का विज्ञापन है वह भी पढ़ रहे हैं। जैसे पढ़ाई—लिखाई आपकी इसीलिए हुई थी।सब पढ़े जा रहे हैं , खोपड़ी में कुछ भी कचरा डाला जा रहा है।

8-मतलब यह है, देखो ही मत, जब तक भीतर देखने की कोई जरूरत न हो जाए। सुनो ही मत, जब तक भीतर सुनना अनिवार्य न हो जाए। बोलो ही मत, जब तक भीतर बोलना लनिवार्य न हो। यह बाहर से संबंधित नहीं है।आप अपने इतने भी मालिक नहीं है कि ,अपनी आंख के भी कि कचरे को भीतर न जाने दें। अनिवार्य हो उसे देखें, तो आपकी आंख का जादू बढ़ जाएगा। देखने की दृष्टि बदल जाएगी। क्षमता और शक्ति आ जाएगी।

अनिवार्य हो उसे सुनें, तो आप सुन पाएंगे।जितना कम देख सकें,जितना कम सुनें, जितना कम बोलें, उतना ध्यान में गहराई आ जाएगी।

9-हमारे तीन शरीर है...स्थूल, सूक्ष्म, कारण।अपने एलिमेंट को जानना

अथार्त अपने स्थूल शरीर, अपने कॉन्शसनेस को जानना।इसके बाद

अपने एलिमेंट के आराध्य को जानना अथार्त अपने सबकॉन्शियस को, अपनी आत्मा को जानना।इसके बाद अपने आराध्य के आराध्य को जानना

अथार्त परमात्मा को जानना ,सुपरकॉन्शियस को जानना।उदाहरण के लिए

यदि आप वाटर एलिमेंट है ;तो सबसे पहले ध्यान में आपको फीलिंग/अनुभूतियां होंगी क्योकि यह आपका एलिमेंट है।

10-इसके बाद वाटर एलिमेंट का आराध्य है ; फायर एलिमेंट।तो आपको दृश्य आने लगेंगे।फायर एलिमेंट का आराध्य है...एयर एलिमेंट।तो ध्यान

में,सबसे अंत में आपको साउंड आने लगेगा।अर्थात आप अपने सुपरकॉन्शियस, परमात्मा से जुड़ जाएंगे।तो सबसे पहले स्वयं को जाने। फिर अपनी आत्मा को जाने! और इसके बाद परमात्मा को जाने।यदि आप

फायर एलिमेंट है;तो पहले ध्यान में दृश्य आएंगे।फायर एलिमेंट का आराध्य है...एयर एलिमेंट।तो आपको साउंड सुनाई पड़ेंगे।एयर एलिमेंट का आराध्य है वाटर एलिमेंट! तो अंत में आपको अनुभूतियां होंगी।

11-इसी प्रकार यदि आप एयर एलिमेंट है तो ध्यान में सबसे पहले साउंड

आएगा।क्योकि यह आपका एलिमेंट है।इसके बाद एयर एलिमेंट का आराध्य है...वाटर एलिमेंट ; तो आपको अनुभूतियां होंगी।और वाटर एलिमेंट का आराध्य है....फायर एलिमेंट।तो अंत में आपको दृश्य आने शुरु होंगे।दृश्य, साउंड और फिलिंग्स...ध्यान में यह तीनों चलते रहते हैं।परंतु

आपका फोकस एक चीज में नहीं होता है।तो पहले आप अपने एलिमेंट का काम करें ; फिर अपने एलिमेंट के आराध्य का।इसके बाद आराध्य के आराध्य का।इस प्रकार से हमें अपने तीनों एलिमेंट के 33% पूर्ण करने

है।तब एक परसेंट में वह सातवां एलिमेंट आता है;जिसकी कोई व्याख्या नहीं की जा सकती।

12-हमारी फिजिकल बॉडी ही सिनेमा हॉल की स्क्रीन है।चाहे कितने भी

करोड़ों की पिक्चर हो;लेकिन उसका डिस्प्ले सफेद स्क्रीन में ही होता है।

इस प्रकार सफेद स्क्रीन है हमारी कॉन्शसनेस और हमारी फिजिकल/ स्थूल बॉडी।डिस्प्ले होने वाली फिल्म है हमारी सबकॉन्शसनेस,सूक्ष्म शरीर/ सटल बॉडी।और फिल्म का डायरेक्टर

है..सुपरकॉन्शसनेस ,कारण शरीर।जब तक हमारी कॉन्शसनेस स्टेट सही/

फिट नहीं है।तब तक सबकॉन्शसनेस सफेद स्क्रीन पर डिस्प्ले नहीं हो सकती।और सुपरकॉन्शसनेस तो बिल्कुल ही नहीं हो सकती।तो सबसे पहले हमें अपनी कॉन्शसनेस सही करनी है।अथार्त अपने इष्ट की साधना करनी है।

13-जब हमारी कॉशसनेस सही हो जाए।तब अपने इष्ट के आराध्य की साधना करनी है।अथार्त आत्मा का ज्ञान करना है;आत्मज्ञानी बनना है।

और जब सबकॉन्शसनेस का भी ज्ञान हो जाए;तब अपने आराध्य के आराध्य की साधना करनी है।अथार्त परमात्मा का ज्ञान करना है; ब्रह्मज्ञानी बनना है।ध्यान में जब हमारी कॉन्शसनेस सही होती है।तो यह पहली स्टेज

है;तब जो अंदर होता है वह बाहर दिखने लगता है;यह दूसरी स्टेज है।यह डिस्प्ले भी हमारी फिजिकल बॉडी में होता है।तब हम अपने एलिमेंट में खड़े हो जाते हैं।इसके बाद जब हम सबकॉन्शसनेस का ज्ञान करते हैं ;तो यह तीसरी स्टेज है।और तब अपनी हम आत्मा में खड़े हो जाते हैं..चौथी स्टेज।यह डिस्प्ले भी हमारी फिजिकल बॉडी में ही होता है।

14-पांचवी स्टेज है..जब हम अपनी सुपरकॉन्शियस का ज्ञान करते हैं और हम ब्रह्मज्ञानी बन जाते हैं ...छठी स्टेज।तो पहला स्टेप है अपनी कॉन्शसनेस में खड़े होना/ अपने एलिमेंट में खड़े होना। दूसरा स्टेप है आत्मज्ञानी होना।तीसरा स्टेप है ब्रह्मज्ञानी होना।और सभी डिस्प्ले हमारी कॉन्शसनेस में ही दिखते है। यहां पर हम सभी एलिमेंट के हिसाब से लिखेंगे कि उसकी कॉन्शसनेस सबकॉन्शसनेस और सुपरकॉन्शसनेस क्या है? साथ में हम पंचप्राण और चक्रों के एलिमेंट के बारे में भी जानेंगे...

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

सात प्रकार के शरीर>>>सात चक्र>>>पांच प्राण>>>चक्रों के एलिमेंट

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-स्थूल शरीर-फिजिकलबॉडी>>मूलाधार चक्र>> अपान>>वाटर-फायर एलिमेंट

2-सूक्ष्म/भाव /आकाश शरीर- इथरिकबॉडी>>स्वाधिष्ठान चक्र>>व्यान>>वाटर-एयर एलिमेंट

3-कारण शरीर-एस्ट्रल बॉडी>>>मणिपुर चक्र>>> समान>>>फायर-वाटर एलिमेंट

4-मानस शरीर-मेन्टल बॉडी>>>अनाहत चक्र>>>प्राण>>>फायर-एयर एलिमेंट

5-आत्मिक शरीर-स्प्रिचुअल बॉडी>>>विशुद्ध चक्र>>>उदान>>>एयर-वाटर एलिमेंट

6-ब्रह्म शरीर -कॉस्मिक बॉडी>>>आज्ञा चक्र>>>.......>>>एयर-फायर एलिमेंट

7-निर्वाण शरीर-बॉडीलेस बॉडी>>>सहस्त्रार चक्र.......>>>बियॉन्ड एलिमेंट

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

तीन एलिमेंट >>>उनके इष्ट >>> इष्ट के आराध्य>>> आराध्य के आराध्य

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-एयर एलिमेंट;-

भगवान महेश/माता सरस्वती>>>भगवान विष्णु/माता काली>>>माता लक्ष्मी/माता कामाख्या

2-फायर एलिमेंट;-

माता लक्ष्मी/माता कामाख्या>>>भगवान विष्णु/माता काली/ हनुमान>>>भगवान महेश/माता सरस्वती

3-वाटर एलिमेंट;-

भगवान विष्णु/माता काली/ हनुमान>>>माता लक्ष्मी/माता कामाख्या>>>भगवान महेश/माता सरस्वती

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

15-इस दुनिया में ईश्वर सभी प्राणियों में एलिमेंट के रूप में विद्यमान है।

हर प्राणी में एलिमेंट के छह प्रकार विद्यमान है;परंतु एक एलिमेंट का डोमिनेन्स है।ईश्वर को प्रत्यक्ष रूप से देखना बहुत कठिन है।परंतु आप न केवल अपने परिवार में बल्कि इस पूरे संसार में उसे प्रत्यक्ष रूप से देख सकते हैं।एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति के लिए उसकी कॉशसनेस ही जीवात्मा है।वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसके लिए आत्मा अथार्त सबकॉन्शियसनेस है;और फायर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसके लिए

सुपरकॉन्शियसनेस अथार्त परमात्मा है।

16-इसी प्रकार वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति के लिए वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी जीवात्मा अथार्त कॉन्शसनेस है।फायर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी आत्मा है।और एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसका परमात्मा है।इसी प्रकार से एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति के लिए एयर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी कॉन्शसनेस है।फायर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसकी आत्मा है।और वाटर एलिमेंट डोमिनेटेड व्यक्ति उसके लिए परमात्मा है।

17-जब हमारा अपनी कॉन्शसनेस के डोमिनेटेड एलिमेंट व्यक्ति से व्यवहार अच्छा हो जाता है।तब हम संसार की Known चीजें के बारे में जान जाते हैं।जब हमारा व्यवहार हमारी आत्मा के डोमिनेटेड एलिमेंट व्यक्ति से व्यवहार सिद्ध हो जाता है ;तब हम Unknown चीजों , इस संसार के रहस्य के बारे में जान जाते हैं और जब हमारा व्यवहार परमात्मा के डोमिनेटेड एलिमेंट व्यक्ति से व्यवहार सिद्ध हो जाता है ;तब हम इस सम्पूर्ण ब्रह्मांड/Whole Cosmos के बारे में जान जाते हैं। ''नोन, अननोन और होल'';जीवात्मा, आत्मा और परमात्मा।

18-वास्तव में,जब हम अपने कॉन्शसनेस के इष्ट की सिद्धि करते हैं तो संसार में भी हमें हमारी कॉशसनेस को बढ़ाने वाले व्यक्ति से सिद्धि हो जाती है।जब हम अपने कॉशसनेस को सिद्ध कर लें ;तब अपनी आत्मा को जानने का प्रयास करें।इसके लिए हमें अपने आत्मा वाले एलिमेंट के इष्ट से सिद्धि करनी होगी और जब वह सिद्धि तब होगी ;तब संसार में हमें हमारी सबकॉशसनेस को बढ़ाने वाले व्यक्ति से भी सिद्धि हो जाती है और हम आत्मज्ञानी बन जाते हैं।तब हमें परमात्मा वाले इष्ट की सिद्धि करनी चाहिए।जब वह सिद्धि होगी ;तब हमें संसार में भी कोई परमात्मा के एलिमेंट वाला व्यक्ति मिल जाएगा ;जो हमें ब्रह्मज्ञानी बना देगा।

19-इस प्रकार जब हम तीनों सर्किल को पूरा कर लेते हैं तो संसार के सर्किल से बाहर हो जाते हैं।इसके बाद हमारा जन्म हमारी इच्छा के अनुसार होता है ;हम मुक्त हो जाते हैं ।लेकिन जब तक हमारा यह सर्किल नहीं पूरा होता;तब तक हमें बार-बार बंधकर/ चैन्ड होकर आना पड़ता है। यह चेन है;इस चेन को पूरा करने पर ही हम सर्किल को पार कर पाते हैं। इसके बिना ना हम स्वयं में खड़े हो पाते हैं, ना आत्मज्ञानी बन पाते हैं और ना ही ब्रह्मज्ञानी बन पाते हैं।इष्ट की सिद्धि ही हमें संसार में उन प्राणियों से मुलाकात कराती है ;जो हमारे सर्किल को पूरा कर देते हैं।

20-तो सबसे पहले अपनी कॉन्शसनेस को सिद्ध करने वाला व्यक्ति

समाज में सम्मानित ही होगा।इसके बाद ही उसे आत्मज्ञानी बनने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि आत्मा और परमात्मा दोनों ही कॉन्शसनेस

की स्क्रीन पर ही डिस्प्ले होते हैं। ईश्वर ने यह संसार बहुत ही सुंदर तरीके से बनाया हैं ;परंतु हमने इसे बदसूरत बना दिया। एलिमेंटल नॉलेज के द्वारा हम पुनः इस संसार को खूबसूरत बना सकते हैं।हमारे परिवार में ही कोई हमारी कॉशसनेस है ,तो कोई हमारी सबकॉशसनेस और कोई सुपरकॉशसनेस।

21-परंतु हम उन्हें पहचान ही नहीं पाते और ईश्वर की भक्ति करते रहते हैं। यदि हम एलिमेंट्स में ईश्वर को नहीं देख पाए तो फिर कहां देख पाएंगे, जरूरत है इस ज्ञान को संरक्षित करने की ...एक नई दुनिया बनाने की।

हम अपनी कॉन्शसनेस,सबकॉन्शसनेस और सुपरकॉन्शसनेस के बिना अधूरे हैं। तीनों के बिना हम पूर्ण नहीं हो सकते; सर्किल को पार नहीं कर सकते।और यह सब हमें अपने परिवार, अपने मित्रों के साथ ;इसी संसार में मिलेगा ;क्योकि ईश्वर एलिमेंट्स के रूप में प्रत्यक्ष विद्यमान है।

ध्यान में होने वाले अनुभव ;-

04 FACTS;- 1-दो शरीरों का अनुभव होना :- अनाहत चक्र (हृदय में स्थित चक्र) के जाग्रत होने पर, स्थूल शरीर में अहम भावना का नाश होने पर दो शरीरों का अनुभव होता ही है। कई बार साधकों को लगता है जैसे उनके शरीर के छिद्रों से गर्म वायु निकर कर एक स्थान पर एकत्र हुई और एक शरीर का रूप धारण कर लिया जो बहुत शक्तिशाली है। उस समय यह स्थूल शरीर जड़ पदार्थ की भांति क्रियाहीन हो जाता है। इस दूसरे शरीर को सूक्ष्म शरीर या मनोमय शरीर कहते हैं। कभी-कभी ऐसा लगता है कि वह सूक्ष्म शरीर हवा में तैर रहा है और वह शरीर हमारे स्थूल शरीर की नाभी से एक पतले तंतु से जुड़ा हुआ है। . 1-1-कभी ऐसा भी अनुभव अनुभव हो सकता है कि यह सूक्ष्म शरीर हमारे स्थूल शरीर से बाहर निकल गया मतलब जीवात्मा हमारे शरीर से बाहर निकल गई और अब स्थूल शरीर नहीं रहेगा, उसकी मृत्यु हो जायेगी। ऐसा विचार आते ही हम उस सूक्ष्म शरीर को वापस स्थूल शरीर में लाने की कोशिश करते हैं परन्तु यह बहुत मुश्किल कार्य मालूम देता है। "स्थूल शरीर मैं ही हूँ" ऐसी भावना करने से व ईश्वर का स्मरण करने से वह सूक्ष्म शरीर शीघ्र ही स्थूल शरीर में पुनः प्रवेश कर जाता है। कई बार संतों की कथाओं में हम सुनते हैं कि वे संत एक साथ एक ही समय दो जगह देखे गए हैं, ऐसा उस सूक्ष्म शरीर के द्वारा ही संभव होता है। उस सूक्ष्म शरीर के लिए कोई आवरण-बाधा नहीं है, वह सब जगह आ जा सकता है। 2-दिव्य ज्योति दिखना :- सूर्य के सामान दिव्य तेज का पुंज या दिव्य ज्योति दिखाई देना एक सामान्य अनुभव है। यह कुण्डलिनी जागने व परमात्मा के अत्यंत निकट पहुँच जाने पर होता है। उस तेज को सहन करना कठिन होता है। लगता है कि आँखें चौंधिया गईं हैं और इसका अभ्यास न होने से ध्यान भंग हो जाता है। वह तेज पुंज आत्मा व उसका प्रकाश है। इसको देखने का नित्य अभ्यास करना चाहिए। समाधि के निकट पहुँच जाने पर ही इसका अनुभव होता है।

ध्यान में कभी ऐसे लगता है जैसे पूरी पृथ्वी गोद में रखी हुई है या शरीर की लम्बाई बदती जा रही है और अनंत हो गई है, या शरीर के नीचे का हिस्सा लम्बा होता जा रहा है और पूरी पृथ्वी में व्याप्त हो गया है, शरीर के कुछ अंग जैसे गर्दन का पूरा पीछे की और घूम जाना, शरीर का रूई की तरह हल्का लगना, ये सब ध्यान के समय कुण्डलिनी जागरण के कारण अलग-अलग चक्रों की प्रतिभाएं प्रकट होने के कारण होता है। परन्तु साधक को इनका उपयोग नहीं करना चाहिए, केवल परमात्मा की प्राप्ति को ही लक्ष्य मानकर ध्यान करते रहना चाहिए। इन प्रतिभाओं पर ध्यान न देने से ये पुनः अंतर्मुखी हो जाती हैं. 2-1-कभी-कभी साधक का पूरा का पूरा शरीर एक दिशा विशेष में घूम जाता है या एक दिशा विशेष में ही मुंह करके बैठने पर ही बहुत अच्छा ध्यान लगता है अन्य किसी दिशा में नहीं लगता। यदि अन्य किसी दिशा में मुंह करके बैठें भी, तो शरीर ध्यान में अपने आप उस दिशा विशेष में घूम जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपके ईष्ट देव या गुरु का निवास उस दिशा में होता है जहाँ से वे आपको सन्देश भेजते हैं। कभी-कभी किसी मंत्र विशेष का जप करते हुए भी ऐसा महसूस हो सकता है क्योंकि उस मंत्र देवता का निवास उस दिशा में होता है, और मंत्र जप से उत्पन्न तरंगें उस देवता तक उसी दिशा में प्रवाहित होती हैं, फिर वहां एकत्र होकर पुष्ट (प्रबल) हो जाती हैं और इसी से उस दिशा में खिंचाव महसूस होता है। 3-संसार (दृश्य) व शरीर का अत्यंत अभाव का अनुभव :- साधना की उच्च स्थिति में ध्यान जब सहस्रार चक्र पर या शरीर के बाहर स्थित चक्रों में लगता है तो इस संसार (दृश्य) व शरीर के अत्यंत अभाव का अनुभव होता है। यानी एक शून्य का सा अनुभव होता है। उस समय हम संसार को पूरी तरह भूल जाते हैं (ठीक वैसे ही जैसे सोते समय भूल जाते हैं)। सामान्यतया इस अनुभव के बाद जब साधक का चित्त वापस नीचे लौटता है तो वह पुनः संसार को देखकर घबरा जाता है, क्योंकि उसे यह ज्ञान नहीं होता कि उसने यह क्या देखा है? 3-1-वास्तव में इसे आत्मबोध कहते हैं. यह समाधि की ही प्रारम्भिक अवस्था है अतः साधक घबराएं नहीं, बल्कि धीरे-धीरे इसका अभ्यास करें। यहाँ अभी द्वैत भाव शेष रहता है व साधक के मन में एक द्वंद्व पैदा होता है। वह दो नावों में पैर रखने जैसी स्थिति में होता है, इस संसार को पूरी तरह अभी छोड़ा नहीं और परमात्मा की प्राप्ति अभी हुई नहीं जो कि उसे अभीष्ट है। इस स्थिति में आकर सांसारिक कार्य करने से उसे बहुत क्लेश होता है क्योंकि वह परवैराग्य को प्राप्त हो चुका होता है और भोग उसे रोग के सामान लगते हैं, परन्तु समाधी का अभी पूर्ण अभ्यास नहीं है। 3-2-इसलिए साधक को चाहिए कि वह धैर्य रखें व धीरे-धीरे समाधी का अभ्यास करता रहे और यथासंभव सांसारिक कार्यों को भी यह मानकर कि गुण ही गुणों में बरत रहे हैं, करता रहे और ईश्वर पर पूर्ण विश्वास रखे। साथ ही इस समय उसे तत्त्वज्ञान की भी आवश्यकता होती है जिससे उसके मन के समस्त द्वंद्व शीघ्र शांत हो जाएँ। इसके लिए योगवाशिष्ठ (महारामायण) नामक ग्रन्थ का विशेष रूप से अध्ययन व अभ्यास करें। उसमें बताई गई युक्तियों "जिस प्रकार समुद्र में जल ही तरंग है, सुवर्ण ही कड़ा/कुंडल है, मिट्टी ही मिट्टी की सेना है, ठीक उसी प्रकार ईश्वर ही यह जगत है." का बारम्बार चिंतन करता रहे तो उसे शीघ्र ही परमात्मबोध होता है, सारा संसार ईश्वर का रूप प्रतीत होने लगता है और मन पूर्ण शांत हो जाता है। चलते-फिरते उठते बैठते यह महसूस होना कि सब कुछ रुका हुआ है, शांत है, "मैं नहीं चल रहा हूँ, यह शरीर चल रहा है", यह सब आत्मबोध के लक्षण हैं यानि परमात्मा के अत्यंत निकट पहुँच जाने पर यह अनुभव होता है।

3-3-कई साधकों को किसी व्यक्ति की केवल आवाज सुनकर उसका चेहरा, रंग, कद, आदि का प्रत्यक्ष दर्शन हो जाता है और जब वह व्यक्ति सामने आता है तो वह साधक कह उठता है कि, "अरे! यही चेहरा, यही कद-काठी तो मैंने आवाज सुनकर देखी थी, यह कैसे संभव हुआ कि मैं उसे देख सका?" वास्तव में धारणा के प्रबल होने से, जिस व्यक्ति की ध्वनि सुनी है, साधक का मन या चित्त उस व्यक्ति की भावना का अनुसरण करता हुआ उस तक पहुँचता है और उस व्यक्ति का चित्र प्रतिक्रिया रूप उसके मन पर अंकित हो जाता है। इसे दिव्य दर्शन भी कहते हैं। 3-4-आँखें बंद होने पर भी बाहर का सब कुछ दिखाई देना, दीवार-दरवाजे आदि के पार भी देख सकना, बहुत दूर स्थित जगहों को भी देख लेना, भूत-भविष्य की घटनाओं को भी देख लेना,यह सब आज्ञा चक्र (तीसरी आँख) के खुलने पर अनुभव होता है। अपने संपर्क में आने वाले व्यक्तियों के मन की बात जान लेना या दूर स्थित व्यक्ति क्या कर रहा है (दु:खी है, रो रहा है, आनंद मना रहा है, हमें याद कर रहा है, कही जा रहा है या आ रहा है वगैरह) इसका अभ्यास हो जाना और सत्यता जांचने के लिए उस व्यक्ति से उस समय बात करने पर उस आभास का सही निकलना, यह सब दूसरों के साथ अपने चित्त को जोड़ देने पर होता है।यह साधना में ब