Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

कौन हैं नास्त्रेदमस और क्या हैं उनकी भविष्यवाणियां ?


कौन हैं नास्त्रेदमस और क्या हैं उनकी भविष्यवाणियां ? (अशोक कुमार शर्मा की पुस्तक नास्त्रेदमस की संपूर्ण भविष्यवाणियां )(डायमंड पाकेट बुक्स) 12 FACTS;- 1-नास्त्रेदमस (Nostradamus) फ्रांस के एक 16वीं ( 1503 -1566) सदी के भविष्यवक्ता थे। नास्त्रेदमस केवल भविष्यवक्ता ही नही, डॉक्टर और शिक्षक भी थे। ये प्लेग जैसी बिमारियों का इलाज करते थे। इन्होने ने अपनी कविताओ के द्वारा भविष्य में होने वाली घटनाओ का वर्णन किया था।इसके बावजूद , बीसवीं शताब्दी में नास्त्रेदमस की कथित भविष्यवाणियाँ आम लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय हो गईं और कई प्रमुख विश्व घटनाओं की भविष्यवाणी का श्रेय उन्हें दिया गया।डायना की मौत, एडोल्फ हिटलर का उदय, परमाणु बम, द्वितीय विश्व युद्ध और 9/11 के हमले जैसे अनेक सटीक भविष्यवाणी करने वाले नोस्ट्राडेमस (Nostradamus) ने साल 2019 के बारे में भी भविष्यवाणी की थी। 2-फ्रांस में 16वीं शताब्दी (1503-1566) में जन्मे नोस्ट्राडेमस ने 400 साल पहले ही आने वाली 20 शताब्दियों की भविष्यवाणी कर दी थी। हैं। नास्त्रेदमस का जन्म 14दिसम्बर 1503 को फ्रांस के एक छोटे से गांव सेंट रेमी में हुआ। उनका नाम मिशेल दि नास्त्रेदमस था बचपन से ही उनकी अध्ययन में खास दिलचस्पी रही और उन्होनें लैटिन, यूनानी और हीब्रू भाषाओं के अलावा गणित, शरीर विज्ञान एवं ज्योतिष शास्त्र जैसे गूढ विषयों पर विशेष महारत हासिल कर ली। 3-नास्त्रेदमस का जन्म 14दिसम्बर 1503 को फ्रांस के एक छोटे से गांव सेंट रेमी में हुआ। उनका नाम मिशेल दि नास्त्रेदमस था बचपन से ही उनकी अध्ययन में खास दिलचस्पी रही और उन्होनें लैटिन, यूनानी और हीब्रू भाषाओं के अलावा गणित, शरीर विज्ञान एवं ज्योतिष शास्त्र जैसे गूढ विषयों पर विशेष महारत हासिल कर ली।नास्त्रेदमस ने किशोरावस्था से ही भविष्यवाणियां करना शुरू कर दी थी। ज्योतिष में उनकी बढती दिलचस्पी ने माता-पिता को चिंता में डाल दिया क्योंकि उस समय कट्टरपंथी ईसाई इस विद्या को अच्छी नजर से नहीं देखते थे। ज्योतिष से उनका ध्यान हटाने के लिए उन्हे चिकित्सा विज्ञान पढने मांट पेलियर भेज दिया गया जिसके बाद तीन वर्ष की पढाई पूरी कर नास्त्रेदमस चिकित्सक बन गए। 4-23 अक्टूबर 1529 को उन्होने मांट पोलियर से ही डॉक्टरेट की उपाधि ली और उसी विश्वविद्यालय में शिक्षक बन गए। पहली पत्नी के देहांत के बाद 1547 में यूरोप जाकर उन्होने ऐन से दूसरी शादी कर ली। इस दौरान उन्होनें भविष्यवक्ता के रूप में खास नाम कमाया।एक किंवदंती के अनुसार एक बार नास्त्रेदमस अपने मित्र के साथ इटली की स