Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

क्या है सात लोक , सात धातुऔर मनुष्य के सात शरीरों का रहस्य ?PART-02




क्या है स्थूल से सूक्ष्म,सूक्ष्म से अति सूक्ष्म तथा अति सूक्ष्म से महा सूक्ष्म?-

07 FACTS;-

1-अध्यात्म शास्त्र में 14 लोकों का वर्णन है। इन्हें किसी ग्रह नक्षत्र में अवस्थित अथवा अधर में लटका हुआ स्थान नहीं माना जाना चाहिए, वरन् स्थूलता से सूक्ष्मता की गहराई में प्रवेश करते हुए उपलब्ध होने वाली स्थिति भर माना जाना चाहिए।

पुराणों अनुसार सात लोक को मूलत: दो लोक में विभाजित किया गया हैं- कृतक लोक और 2.अकृतक लोक। कृतक लोक में ही प्रलय और उत्पत्ति का चक्र चलता रहता है जबकि अकृतक लोक समय और स्थान से शून्य है।

(A) कृतक लोक :

कृतक त्रैलोक्य जिसे त्रिभुवन या मृत्युलोक भी कहते हैं। इसके बारे में पुराणों की धारणा है कि यह नश्वर है, कृष्ण इसे परिवर्तनशील मानते हैं। इसकी एक निश्‍चित आयु है। उक्त त्रैलोक्य के नाम हैं- भूलोक, भुवर्लोक, स्वर्गलोक। यही लोक पाँच तत्वों से निर्मित है- आकाश, अग्नि, वायु, जल और जड़। इन्हीं पाँच तत्वों को वेद क्रमश: जड़, प्राण, मन, विज्ञान और आनंदमय कोष कहते हैं।

(1)भूलोक : जितनी दूर तक सूर्य, चंद्रमा आदि का प्रकाश जाता है, वह पृथ्वी लोक कहलाता है, लेकिन भूलोक से तात्पर्य जिस भी ग्रह पर पैदल चला जा सकता है।

(2)भुवर्लोक : पृथ्वी और सूर्य के बीच के स्थान को भुवर्लोक कहते हैं। इसमें सभी ग्रह-नक्षत्रों का मंडल है।

(3)स्वर्गलोक : सूर्य और ध्रुव के बीच जो चौदह लाख योजन का अन्तर है, उसे स्वर्गलोक कहते हैं। इसी के बीच में सप्तर्षि का मंडल है।

(B) अकृतक लोक :

जन, तप और सत्य लोक तीनों अकृतक लोक कहलाते हैं।अकृतक त्रैलोक्य अर्थात जो नश्वर नहीं है अनश्वर है। जिसे मनुष्य स्वयं के सद्‍कर्मों से ही अर्जित कर सकता है। कृतक और अकृतक लोक के बीच स्थित है 'महर्लोक' जो कल्प के अंत के प्रलय में केवल जनशून्य हो जाता है, लेकिन नष्ट नहीं होता। इसीलिए इसे कृतकाकृतक लोक कहते हैं। 'महर्लोक' जनशून्य अवस्था में रहता है जहा आत्माएं स्थिर रहती हैं, यहीं पर महाप्रलय के दौरान सृष्टि भस्म के रूप में विद्यमान रहती है।यह लोक त्रैलोक्य और ब्रह्मलोक के बीच स्थित है।इस प्रकार उपरी या ऊर्ध्व सात लोक हैं जिसमें से तीन लोक 1.भू लोक (धरती), 2.भुवर्लोक (वायु/राक्षस तथा भूत पिशाच) 3.स्वर्लोक (अंतरिक्ष/ ध्रुवलोक) में ही प्रलय होता है, जबकि 4.महर्लोक (आदित्य लोक), 5.जनलोक(चन्द्रलोक) , 6.तपलोक(नक्षत्र लोक) और 7.सत्यलोक- (ब्रह्मा धाम)...उक्त 4 लोक प्रलय से अछूते रहते हैं।

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

चक्रों के नाम>>> सम्बंधित >>> तत्व>>>> प्रतीक चिह्न >>>स्थित>>>लोक>>>देवता>>>प्राप्ति

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

1-मूलाधार चक्र;- भौतिक>पृथ्वीतत्व>7 सूंडों वाला एक हाथी>जननेन्द्रिय और गुदा के बीच स्थित>भूः लोक(प्रथ्वी) >ब्रह्मा - शक्ति डाकिनी>Pure Concept

2-स्वाधिष्ठान चक्र;-प्राणाधार>जलतत्व>मगरमच्छ >उपस्थ में स्थित>भुवः लोक (वायु/राक्षस तथा भूत पिशाच)>विष्णु -शक्ति राकिनी>Faith

3-मणिपूर चक्र;-काम या विद्युत केंद्र>अग्नितत्व,>मेढ़ा >नाभिमंडल में स्थित>स्वः लोक/अन्तरिक्ष/ ध्रुवलोक>रूद्र - शक्ति लाकिनी>Devotion

4-अनाहद चक्र;-आदित्य केन्द्र >वायुतत्व,>हिरण>हृदय के पास स्थित>महर्लोक /आदित्य लोक >रुद्र -काकिनी शक्ति>Love

5-विशुद्धि चक्र;-चंद्र केन्द्र>आकाशतत्व> एक सफेद हाथी>कंठकूप में स्थित> जनः लोक/ चन्द्र लोक >सदाशिव -शक्ति शाकिनी>Surrender

6-आज्ञा चक्र;- नक्षत्र केन्द्र >प्रकाशतत्व >एक श्वेत शिवलिंगम् /शुद्ध मानव और दैवीय गुण>भ्रमध्य में स्थित >तपः लोक/ नक्षत्रलोक >ज्ञानदाता शिव -शक्ति हाकिनी >Solution

7-बिन्दु चक्र;-ब्रह्मा केन्द्र>दैवीय गुण>सिर के शीर्ष भाग पर केशों के गुच्छे के नीचे स्थित>सत्य लोक(ब्रह्मा धाम)

8-सहस्त्रार चक्र;-दिव्‍य>शिवतत्व>दैवीय>मस्तिष्क के शिखर पर स्थित/"ब्रह्म रन्ध्र” में स्थित>निर्गुण ब्रह्म ...कई विद्वान इसे चक्र नहीं मानते क्योंकि इसमें ईड़ा और पिंगला का प्रभाव नहीं पड़ता।

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

2-सात अधोलोक है ...यहाँ सूर्य का प्रकाश नही जाता, अतः काल दिन या रात में विभाजित नही है जिसके फलस्वरूप काल से उत्पन्न भय नही रहता |

2-1.अतल - मय दानव का पुत्र बल नाम का असुर जिसने 64 प्रकार की माया रच रखी है |

2-2.वितल - स्वर्ण खानों के स्वामी भगवान् शिव अपने गणों, भूतों, तथा ऐसे ही अन्य जीवों के साथ रहते है और माता भवानी के साथ विहार करते हैं |

2-3.सुतल - महाराज विरोचन के पुत्र महाराज बलि आज भी श्री भगवान् की आराधना करते हुए निवास करते हैं तथा भगवान् महाराज बलि के द्वार पर गदा धारण किये खड़े रहते हैं |

2-4.तलातल - यह मय दानव द्वारा शासित है जो समस्त मायावियों के स्वामी के रूप में विख्यात है |

2-5.महातल - यह सदैव क्रुद्ध रहने वाले अनेक फनों वाले कद्रू की सर्प-संतानों का आवास है जिनमे कुहक, तक्षक, कालिय तथा सुषेण प्रमुख हैं |

2-6.रसातल - यहाँ दिति तथा दनु के आसुरी पुत्रों का निवास है, ये पणि, निवात-कवच, कालेय तथा हिरण्य-पुरवासी कहलाते हैं | ये देवताओं के शत्रु हैं और सर्पों के भांति बिलों में रहते हैं |

2-7.पाताल – यहाँ अनेक आसुरी सर्प तथा नागलोक के स्वामी रहते हैं, जिनमे वासुकी प्रमुख है | जिनमे से कुछ के पांच, सात, दस, सौ और अन्यों के हजार फण होते हैं | इन फणों में बहुमूल्य मणियाँ सुशोभित हैं जिनसे अत्यन्त तेज प्रकाश निकलता है | पाताल लोक के मूल में भगवान् अनन्त अथवा संकर्षण निवास करते हैं, जो सदैव दिव्य पद पर आसीन हैं तथा इस सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड को धारण किये रहते हैं | भगवान् अनन्त सभी बद्धजीवों के अहं तथा तमोगुण के प्रमुख देवता हैं तथा शिवजी को इस भौतिक जगत के संहार हेतु शक्ति प्रदान करते हैं |

3-मोटी दृष्टि से इस संसार में रेत, पत्थर, वृक्ष, वनस्पति, खनिज, प्राणी, जल आदि पदार्थ भरे पड़े हैं। आँख से यह भू-लोक ही दीखता है। इसके भीतर वह स्थिति है। जो आँखों से तो नहीं दीखती, पर सूक्ष्मदर्शी यन्त्र की सहायता से देखी, समझी जा

सकती है, हवा में मिली हुई गैसें, जीवाणु आदि इसी श्रेणी में आते हैं।इससे भी गहरी अणु सत्ता है। उस विश्लेषण में उतरने पर इस संसार में विभिन्न प्रकार के परमाणुओं के अन्धड़ उड़ते और गुच्छक अदलते-बदलते भी दिखाई पड़ते हैं।अणु सत्ता का विश्लेषण करने पर उसके सूक्ष्म घटक कोई पदार्थ नहीं रह जाते केवल विद्युत स्फुल्लिंग पर दृष्टिगोचर होते हैं। उस स्थिति की व्याख्या की जाये तो संसार में ऊर्जा प्रवाह ही इस विश्व में एकमात्र विद्यमान सत्ता प्रतीत होगी।

4-स्थूल से सूक्ष्म की और प्रवेश करते हुए हम कहीं से कहीं जा पहुँचते हैं। फिर भी स्थान सम्बन्धी कोई परिवर्तन नहीं होता। अपने इसी स्थान में यह स्थूल से सूक्ष्म-सूक्ष्म से अति सूक्ष्म- अति सूक्ष्म से महा सूक्ष्म की स्थिति बनती चली जाती है।

सात लोकों के सम्बन्ध में यही समझा जाना चाहिए कि अपने स्थूल लोक के भीतर ही उनकी सत्ता सूक्ष्मतर-सूक्ष्मतम और अति सूक्ष्म होती चली गई है। स्थान उन सबका वही है। जिनमें कि हम निवास करते हैं। ब्रह्मांड के भीतर ब्रह्मांड की सत्ता उसी प्रकार समझी जा सकती है जिस प्रकार परमाणु की मध्यवर्ती नाभिक के अन्तर्गत को खोलने पर उसके भीतर भी एक अति सूक्ष्म किन्तु अपने इस विश्वास ब्रह्मांड का प्रतिनिधित्व करने वाला ब्रह्म बीज विद्यमान मिलता है।

5-सात लोकों के स्थान का पता लगाने के लिए ऊपर नीचे झाँकने की आवश्यकता नहीं। वे एक शरीर के भीतर अव्यव-अवयवों के भीतर माँसपेशियाँ-माँस-पेशियों के भीतर ज्ञान तन्तुओं के भीतर मस्तिष्कीय विद्युत यह कई परतें तो हैं। पर इनके लिए अलग-अलग स्थान निर्धारित करने की आवश्यकता नहीं है। वे एक के भीतर एक के क्रम से क्रमशः भीतर के भीतर

-समाये, सजायें अनुभव किये जा सकते हैं।जीव शरीर भी ब्रह्म शरीर का प्रतीक प्रतिनिधि है। उसके भीतर भी सात लोक हैं। इन्हें सात शरीर कहते है। मोटे तौर से इन्हें सप्त धातुएँ कहा जाता है।आयुर्वेद के मौलिक सिद्धान्‍तों में सप्‍त धातुओं का बहुत महत्‍व है। इनसे शरीर का धारण होता है, इसी कारण से इन्हें 'धातु' कहा जाता है (धा = धारण करना)।ये संख्‍या में सात हैं -1- रस धातु 2- रक्‍त धातु 3- मांस धातु 4- मेद धातु 5- अस्थि धातु 6- मज्‍जा धातु 7- शुक्र धातु

6-जीव शरीर भी ब्रह्म शरीर का प्रतीक प्रतिनिधि है। उसके भीतर भी सात लोक हैं। इन्हें सात शरीर कहते है। मोटे तौर से इन्हें सप्त धातुएँ कहा जाता है।आयुर्वेद के मौलिक सिद्धान्‍तों में सप्‍त धातुओं का बहुत महत्‍व है। इनसे शरीर का धारण होता है, इसी कारण से इन्हें 'धातु' कहा जाता है (धा = धारण करना)।ये संख्‍या में सात हैं -1- रस धातु 2- रक्‍त धातु 3- मांस धातु4-मेद

धातु 5- अस्थि धातु 6- मज्‍जा धातु 7- शुक्र धातु सप्‍त धातुयें वातादि दोषों से कुपित होंतीं हैं। जिस दोष की कमी या अधिकता होती है, सप्‍त धातुयें तदनुसार रोग अथवा शारीरिक विकृति उत्‍पन्‍न करती हैं। इनके स्थान अलग-अलग कोठों में नियत नहीं हैं, वरन् एक के भीतर एक समाये हुए हैं। चेतना शरीर भी इसी प्रकार से सात शरीरों से मिलाकर बना है। वे भी एक के भीतर एक के क्रम से अपना अस्तित्व बनाये हुए हैं। 7-योग शास्त्र में इन्हें चक्रों का नाम दिया गया है। छह चक्र और सातवाँ सहस्रार कमल। छह चक्रों के नाम प्रसिद्ध हैं।-(1) मूलाधार चक्र (2) स्वाधिष्ठान चक्र (3) मणिपूर चक्र (4) अनाहत चक्र (5) विशुद्ध चक्र (6) आज्ञा चक्र। इनके उपरान्त सातवाँ सहस्रार चक्र। कहीं छह- कहीं सात की गणना से किसी भ्रम में पड़ने की आवश्यकता नहीं है। सातवाँ लोक सत्यलोक है। सत्य अर्थात् पूर्ण परमात्मा।इससे नीचे के लोक भी छह ही रह जाते हैं। शरीर में भी छह धातुएँ प्रसिद्ध हैं। सातवीं ओजस् तो आत्मा की ऊर्जा मात्र है। इसी प्रकार साधना में प्रयुक्त होने वाले चक्र तो छह ही हैं। सातवाँ सहस्रार कमल तो ब्रह्मलोक है। उससे तो लय होने की यह बात है। सात या छह के भेद -भाव को इस तरह समझा जा सकता है। कि अपने स्थान से अमुक देवालय सात मील है। बीच में छह मील के पत्थर और सातवाँ मील पत्थर - प्रत्यक्ष देवालय। गणना के हिसाब से छह गिने जायें या सात इससे वस्तुस्थिति में कोई अन्तर नहीं पड़ता।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

क्या मनुष्य सत्ता के भीतर सात प्रकार के शरीर/सातलोक /सप्तदीप /सप्तसागर विद्यमान हैं?-

07 FACTS;-

1-मानवी शरीर ज्यों हाड़माँस का पुतला भर प्रतीत होता है पर उसका विश्लेषण जितनी गहराई से किया जाय उतनी एक के बाद दूसरी परत अद्भुत दिखाई देती चल जाती है। प्रभु के हाथ की इस अनुपम कला-कृति में एक से एक बढ़कर रहस्य

प्रकट होते चलते हैं।काया के भीतर रहने वाले मन की शक्ति और संभावना का तो कहना ही क्या-शरीर की संरचना भी ऐसी ही है जिसकी बारीकियाँ अपने गर्भ में न जाने कितनी विशेषतायें धारण किये प्रतीत होती हैं।शरीर शास्त्र के आधार पर देखें

तो प्रतीत होता है कि उनमें सात स्वतन्त्र तन्त्र काम कर रहे हैं। उनमें परस्पर सहयोग तो है पर साथ ही उनका क्रियाकलाप अपने आप में समग्र एवं सर्वांगपूर्ण भी है। जिस प्रकार शासन तन्त्र में गृह विभाग, अर्थ विभाग, निर्माण विभाग, संचार विभाग, विदेश विभाग, उद्योग विभाग, शिक्षा विभाग आदि अनेक उपतन्त्र होते हैं उसी प्रकार शरीर बाहर से एक दीखते हुए भी उसके भीतर सन्तरे के भीतर पाये जाने वाले स्वतंत्र घटकों की तरह सात शरीर पाये जाते हैं, उनकी विचित्रता इतनी भर है कि अपनी सीमित गतिविधियों में संलग्न रहते हुए भी परस्पर एक दूसरे के सहयोगी एवं पूरक बने रहते हैं।

2-इन सात शरीरों से काया के क्रियाकलापों का संचालन होता है सो तो है ही, साथ ही उनमें ऐसे शक्ति स्रोत भी सन्निहित हैं जिनके आधार पर मानवी व्यक्तित्व के विकास की अगणित संभावनायें मूर्तिमान होती रहती हैं। इन सात शरीरों के भी सूक्ष्म शक्ति केन्द्र हैं। इन्हें षट्चक्र और सातवाँ सहस्र दल कमल- ब्रह्मरंध्र- कहते हैं।अध्यात्म विज्ञान में सूक्ष्म शरीर के साथ सघन घनिष्ठता के साथ जुड़े हुए सप्त शक्ति चक्रों का निरूपण किया है और उन्हें सप्तदीप, सप्तसागर, सप्त नाद, सप्तपर्वत, सप्तऋषि, सप्तलोक, सप्तव्याहृति, सप्तसत्ता, सप्तसाधना के रूप में विवेचना करते हुए समग्र आत्म विद्या का कलेवर खड़ा किया है।

3-ब्रह्मशरीर के अन्तर्हित व्यापक क्षेत्र में फैले हुए पदार्थ तत्व के सात भाग हैं। उन्हें ब्रह्माण्डव्यापी प्रकृति के सात शरीर भी कह सकते हैं (1) दैवीय-डिवाइन (2) सृष्टि के प्रथम जीव से संबद्ध("एकात्मक")-मोनडिक (3) परमाणु-एटम (4) आत्मिक-स्प्रिचुअल (5) मानसिक -मेन्टल (6) सूक्ष्म- इथरिक (7) भौतिक-फिजीकल। इन सातों के भीतर ही वे अगणित सिद्धियाँ समृद्धियाँ समाविष्ट हैं- जिनके लिए हम निरन्तर लालायित रहते हैं। ब्रह्माण्ड शरीर की भाँति ही मनुष्य शरीर के भीतर भी सात परतें हैं चाहें तो इन्हें सात शरीर भी कह सकते हैं। ब्रह्म शरीर के सात आवरणों की भाँति ही मनुष्य शरीर के सात विभेद भी परस्पर घनिष्ठता पूर्वक संबद्ध हैं।

षट्चक्र एक प्रकार से छह बिजली घर हैं जिनके केन्द्रों से विभिन्न स्तरों के आकर्षण और विकर्षण शक्ति सम्पन्न कम्पन निसृत होते हैं। विश्वव्यापी शक्तियों को खींचकर अपने में धारण करने और अपनी विशेषताओं को संसार में प्रसारित करने की क्षमता इनमें भरी रहती है। मस्तिष्क भी एक सातवाँ चक्र है, जिसका केन्द्र बिन्दु सहस्रदल कमल कहलाता है। उसकी विशेषता विचारों के आदान प्रदान की है। इस प्रकार हैं... (1) अस्थि शरीर- बोन बॉडी (2) माँस शरीर- मसल्स बॉडी (3) नाड़ी शरीर- नर्व बॉडी (4) संचरण शरीर- सर्कुलेटरी बॉडी (5) लसीका शरीर- लिम्फैटिक बॉडी (6) नलिकाकार शरीर- ट्यूबूलर बॉडी (7) चर्म शरीर- स्किन बॉडी। इनमें से प्रत्येक शरीर समग्र शरीर रचना में अपना अनोखा योगदान देता है। 5 -शरीर यों एक समान ही सदा दीखता है पर वस्तुतः इसमें द्रुतगति से परिवर्तन होता रहता है। यद्यपि बाहरी पहचान नहीं बदलती तो भी भीतर ही भीतर सब कुछ आँधी तूफान की तरह चलता बदलता रहता है। दार्शनिको ने मानव शरीर की उछलते हुए फव्वारे से तुलना की है। चलता हुआ फव्वारा यद्यपि एक स्थिति में दीखता रहता है पर उसका पानी हर घड़ी निरन्तर चलता रहता है और एक क्षण पहले जो बूँद जहाँ थी वहाँ से बहुत दूर चली जाती है। कायगत कोश भी इसी तरह मरते जन्मते और चलते बदलते रहते हैं पर बाहर से यही प्रतीत होता रहता है कि शरीर ज्यों का त्यों स्थिर है।षट्चक्र एक प्रकार से छह

बिजली घर हैं जिनके केन्द्रों से विभिन्न स्तरों के आकर्षण और विकर्षण शक्ति सम्पन्न कम्पन निसृत होते हैं। विश्वव्यापी शक्तियों को खींचकर अपने में धारण करने और अपनी विशेषताओं को संसार में प्रसारित करने की क्षमता इनमें भरी रहती है। मस्तिष्क भी एक सातवाँ चक्र है, जिसका केन्द्र बिन्दु सहस्रदल कमल कहलाता है। उसकी विशेषता विचारों के आदान प्रदान की है।

6-अन्तरिक्ष में भरे ज्ञान सागर में से अपने उपयोग के मोती ढूँढ़ निकालना मस्तिष्क का काम है, साथ ही वह यह भी करता है कि अपनी विचारणा चेतना को एक छोटी नदी के समान उस अनन्त ज्ञान सागर में समर्पित करता रहे। शेष चक्रों में इन अन्य सभी शक्तियों के प्रतिनिधि केन्द्र हैं जो इस विश्व के संचालन में विभिन्न प्रकार की भूमिकायें सम्पादित करती रहती हैं।

आँखों से देखने से संसार के पदार्थ जड़ एवं स्थिर दिखाई पड़ते हैं, पर वैज्ञानिक तथ्य यह है कि स्थिरता नाम की कोई चीज कहीं नहीं है। हर वस्तु के भीतर प्रचण्ड आणविक हलचलें हो रही है और उन्हीं के आधार पर वस्तुएं, वनस्पतियाँ, जन्मती, बढ़ती, सन्तानोत्पादन करती, जीर्ण होती और मरती रहती हैं। इन गतिविधियों के पीछे परमाणुओं की निर्धारित हलचलों से लेकर अन्य अनेक ऐसे शक्तियाँ काम करती रहती हैं जिनका उद्गम अन्तर्ग्रहीय केन्द्र से रहता है।

7-यह सब मिलकर ही संसार के विभिन्न पदार्थ अपना कार्य कर रहे हैं। इन सबके पीछे जो क्रिया-कलाप चल रहा है वही मनुष्य के भीतर भी है। पर उसमें विशेषता यह है कि चल रहे प्रवाह में से इच्छानुसार अपने लिए अतिरिक्त रूप से ग्रहण कर सकता है और चाहे तो बहुत कुछ दे भी सकता है। यह पूर्णतया ऐच्छिक है।षट्चक्र साधना से मनुष्य की आन्तरिक

क्षमता बढ़ सकती है और वह अपने को एक ऐसी प्रचण्ड इकाई के रूप में विकसित कर सकता है जो संसार के अजस्र वैभव में से इच्छानुसार बहुत कुछ अधिग्रहण कर सके। यह क्षमता कई बार प्रकृति प्रदत्त भी होती है और कई बार जन्म-जन्मान्तरों के संग्रहीत संस्कारों के कारण अनायास ही विकसित हो पड़ती है। पर इतना द्वार हर किसी के लिए खुला हुआ है वह चाहे तो अपनी मानव सत्ता के साथ जुड़ी हुई चमत्कारी विशेषताओं को चाहे जितनी ऊँचाई तक विकसित कर सकता है।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

मनुष्य सत्ता के भीतर विद्यमान सात प्रकार के शरीर ;- मनुष्य के सात शरीरों का वर्णन तत्ववेत्ताओं ने किया है वे इस प्रकार हैं.. (1) स्थूल /भौतिक शरीर-फिजिकल बाड़ी (2) सूक्ष्म/भाव /आकाश शरीर- इथरिक बॉडी (3) कारण शरीर-एस्ट्रल बॉडी (4)मानस शरीर-मेन्टल बॉडी (5) आत्मिक शरीर-स्प्रिचुअल बॉडी (6) ब्रह्म शरीर -कॉस्मिक बॉडी (7) निर्वाण शरीर-बॉडीलेस बॉडी

मनुष्य सत्ता के भीतर विद्यमान सात प्रकार के शरीर/सात लोक का संक्षिप्त वर्णन ;- (1) स्थूल शरीर-फिजिकल बाड़ी;- सप्त धातुओं का बना भौतिक शरीर प्रत्यक्ष है। इसे देखा, छुआ और इन्द्रिय सहित अनुभव किया जा सकता है। जन्मतः प्राणी इसी कलेवर को धारण किये होता है। उनमें प्रायः इन्द्रिय चेतना ही जागृत होती है। भूख, सर्दी-गर्मी जैसी शरीरगत अनुभूतियाँ ही सक्षम रहती हैं, पशु शरीर आजीवन इसी स्थिति में बने रहते हैं, पर मनुष्य के सातों शरीर क्रमशः विकसित होते चलते हैं। (2) सूक्ष्म शरीर -इथरिक बॉडी ;-

03 POINTS;- 1-दो वर्ष का होते हुए उसका सूक्ष्म शरीर जागृत होने लगता है इसे भाव शरीर कहते हैं। इच्छाओं और सम्वेदनाओं के रूप में इसका विकास का परिचय मिलता है। मानापमान अपना-पराया, राग-द्वेष, सन्तोष-असन्तोष, मिलन-वियोग जैसे अनुभव भाव शरीर को होते हैं। यही सूक्ष्म शरीर है।

2-बीज में से पूर्व प्रथम अंकुर निकलता है। पीछे उसका विकास दो-तीन पत्तों के रूप में होता है। स्थूल शरीर को अंकुर कहा जाय तो सूक्ष्म शरीर को उसका पत्तों के रूप में विकसित होना माना जा सकता है। फिजिकल बॉडी तो यथास्थान बनी रहती है, पर उसमें नई शाखा भाव शरीर इथरिक बॉडी के रूप में विकसित होने लगती है।

3-यों सातों शरीरों का अस्तित्व आत्मा के साथ-साथ ही रहता है, पर उनका विकास आयु और परिस्थितियों के आधार पर धीमे अथवा तीव्र गति से - स्वल्प, अधिक मात्रा में होता चलता है। (3) कारण शरीर-एस्ट्रल बॉडी ;-

02 POINTS;- 1-तीसरा कारण शरीर विचार तक, बुद्धि से सम्बन्धित है। इसका विकास, व्यावहारिक, सभ्यता और मान्यता परक संस्कृति के आधार पर होता है। यह किशोरावस्था में प्रवेश करते-करते आरम्भ होता है। और वयस्क स्थिति तक पहुँचते-पहुँचते अपने अस्तित्व का ठीक तरह परिचय देने लगता है। बालक-मताधिकार 18 वर्ष की आयु में मिलता है।

2-अल्प वयस्कता इसी अवधि में पहुँचने पर पूरी होती है। बारह से लेकर अठारह वर्ष की आयु के कारण शरीर का काम चलाऊ विकास हो जाता है। यौन सम्वेदनाएँ भी इसी अवधि में जागृत होती हैं। NOTE ;- सामान्य मनुष्य इतनी ही ऊँचाई तक बढ़ पाते हैं, फिजिकल -इथरिक और एस्ट्रल बॉडी के तीन वस्त्र पहनकर ही लोग दिन गुजार लेते हैं। अधिकाँश लोगों की जिन्दगी इसी सीमा में रहकर समाप्त हो जाती है। इसलिए मोटे तौर से तीन शरीर की ही चर्चा होती है। प्रथम शरीर में शरीरगत अनुभूतियों का सुख-दुःख -दूसरे में भाव सम्वेदनाएँ और तीसरे में लोकाचार एवं यौनाचार की प्रौढ़ता विकसित होती है।और एक काम चलाऊ मनुष्य स्तर का ढाँचा बनकर खड़ा हो जाता है।

(4) मानस शरीर-मेन्टल बॉडी;-

04 POINTS;- 1-तीन शरीरों के बाद मनुष्य की विशिष्टताएँ आरम्भ होती हैं। मनस् शरीर में कलात्मक रसानुभूति होती है। कवित्व जगता है। कोमल सम्वेदनाएँ उभरती हैं। कलाकार, कवि, सम्वेदनाओं के भाव लोक में विचरण करने वाले भक्त-जन, दार्शनिक, करुणार्द्र, उदार, देश-भक्त इसी स्तर के विकसित होने पर बना जा सकता है।

2-यह स्तर उभरे तो पर विकृत बन चले तो व्यसन और व्याभिचार जन्य क्रीड़ा कौतुकों में रस लेने लगता है। इसी स्तर के लोग कामुक एवं रसिक पाये जाते हैं। मनस् क्षेत्र के विकसित व्यक्ति असामान्य होते हैं। उनकी पहचान रसिकता की मनःस्थिति से होती है।

3-महत्वकाँक्षाएँ इसी क्षेत्र में जागृत होती हैं। दूसरे शब्दों में उसे अहंकार भी कहा जा सकता है। महत्वाकांक्षी व्यक्ति ही भौतिक जीवन में तरह-तरह के महत्वपूर्ण प्रयास करते हैं। और असाधारण लोगों में अपनी गणना कराते हैं। इसे प्रतिभाशाली भी कह सकते हैं। प्रतिभागी लोगों का मनस् तत्व प्रबल होता है। उन्हें मनस्वी भी कहा जा सकता है।

4-बाल्मीक, अँगुलिमाल, अशोक जैसे महत्वाकांक्षी विकृत मनःस्थिति में घोर आतंकवादी रहे थे, पर जब मुड़ गये तो श्रेष्ठ मार्ग में भी उन्हें चोटी की सफलता प्राप्त करने में देर नहीं लगी। इसे मेन्टल बॉडी की प्रखरता एवं चमत्कारिता कहा जा सकता है। (5) आत्मिक शरीर-स्प्रिचुअल बॉडी ;-

02 POINTS;- 1-पाँचवाँ शरीर-आत्मिक शरीर... स्प्रिचुअल बॉडी में अतीन्द्रिय शक्तियों का निवास होता है। अचेतन मन की गहरी परतें जिनमें दिव्य अनुभूतियाँ होती हैं। इसी पाँचवें शरीर से सम्बन्धित हैं। मैस्मरेज्म, हिप्नोटिज्म, टेलीपैथी जैसे प्रयोग इसी स्तर के विकसित होने पर होते हैं । कठोर तन्त्र साधनाएँ एवं उग्र तपश्चर्याएँ इसी शरीर को परिपुष्ट बनाने के लिए की जाती हैं। संक्षेप में इसे ‘दैत्य’ सत्ता कहा जा सकता है। सिद्धि और चमत्कारों की घटनाएँ- संकल्प शक्ति के बढ़े-चढ़े प्रयोग इसी स्तर के समर्थ होने पर सम्भव होते हैं।

2-सामान्य सपने तो सभी देखते हैं। पर जब चेतना इस पाँचवे शरीर में जमी होती है तो किसी घटना का सन्देश देने वाले सपने भी दीख सकते हैं। उनमें भूत, भविष्य की जानकारियों तथा किन्हीं रहस्यमय तथ्यों का उद्घाटन भी होता है। भविष्यवक्ताओं, तान्त्रिकों एवं चमत्कारी सिद्धि पुरुषों की गणना पाँचवे शरीर की जागृति से ही सम्भव होती है।अमुक स्थान पर इतने लोग इकट्ठे हैं। इसका वर्णन वह आसानी से कर सकता है;जो ऊँचे पर खड़ा है और आँखों पर दूरबीन चढ़ाये है। नीचे खड़े व्यक्ति के लिए यह सिद्धि चमत्कार है, पर मीनार पर बैठे व्यक्ति के लिए यह दूरदर्शन नितान्त सरल और स्वाभाविक है। (6) ब्रह्म शरीर -कॉस्मिक बॉडी ;-

04 POINTS;- 1-छठे शरीर को देव शरीर कहते हैं-यही कॉस्मिक बॉडी है। ऋषि , तपस्वी, योगी इसी स्तर पर पहुँचने पर बना जा सकता है।स्वर्ग और मुक्ति इसी स्थिति पर पहुँचने पर मिलने वाला मधुर फल है। सामान्य मनुष्य चर्म चक्षुओं से देखता है, पर देव शरीर में दिव्य चक्षु खुलते हैं और “सियाराम मय सब जग जानी” की -विराट ब्रह्म दर्शन की मनःस्थिति बन जाती है।

2-कण-कण में ईश्वरीय सत्ता के दर्शन होते हैं और इस दिव्य उद्यान में सर्वत्र सुगन्ध ही महकती दिखाई पड़ती हैं। परिष्कृत दृष्टिकोण ही स्वर्ग है। स्वर्ग में देवता रहते हैं। देव शरीर में जागृत मनुष्यों के अन्दर उत्कृष्ट चिन्तन और बाहर आदर्श कर्तृत्व सक्रिय रहता है। असुर, मनुष्य और देव यह आकृति से तो एक जैसे ही होते हैं। अन्तर उनकी प्रकृति मात्र में होता है।

3-छठवीं देव भूमिका में पहुंची हुई देव आत्माएँ मात्र आदर्श और कर्त्तव्य भर को पर्याप्त मानती हैं। आत्मा और परमात्मा को सन्तोष देना ही उन्हें पर्याप्त लगता है।वे निन्दा;स्तुति की, संयोग-वियोग की, हानि-लाभ की, मानापमान की लौकिक सम्वेदनाओं से बहुत ऊँचे उठ जाते हैं। लोक मान्यताओं को वे बाल-बुद्धि की दृष्टि से देखते हैं।

4-वे अपनी गतिविधियाँ निर्धारित करते समय लोक मान्यताओं पर तनिक भी ध्यान नहीं देते वरन् उच्चस्तरीय चेतना से प्रकाश ग्रहण करते हैं। इन्हें भव-बन्धनों से मुक्त-जीवन मुक्त कहा जाता है। मुक्ति या मोक्ष प्राप्त कर लेना इसी स्थिति का नाम है। यह छोटे शरीर में --देव स्थिति में- कॉस्मिक बॉडी में विकसित आत्माओं को उपलब्ध होता है।

(7) निर्वाण शरीर-बॉडीलेस बॉडी ;-

03 POINTS;-

1-सातवाँ ब्रह्म शरीर है। इसमें आत्मा अपने शुद्ध स्वरूप में अवस्थित होता है। सभी वे शरीर झड़ जाते हैं जो किसी न किसी प्रकार भौतिक जगत से सम्बन्धित थे। उनका आदान-प्रदान प्रत्यक्ष संसार से चलता है वे उससे प्रभावित होते और प्रभावित करते हैं। ब्रह्म शरीर का सीधा सम्बन्ध परमात्मा से होता है। अस्तु उसकी स्थिति लगभग ब्रह्म स्तर की हो जाती है। ''अवतार ''इसी स्तर पर पहुँची हुई आत्माएँ बनती हैं।

2-लीला अवतरण में उनकी अपनी कोई इच्छा आकाँक्षा नहीं होती, वे ब्रह्मलोक में निवास करते हैं और जब ब्राह्मी चेतना किसी सृष्टि सन्तुलन के लिए भेजती है तो उस प्रयोजन को पूरा करके पुनः अपने लोक को वापस लौट जाते हैं। ऐसे अवतार समय-समय पर होते रहते हैं। भारत में पिछले दिनों उनकी संख्या 10 या 24 गिनी जाती है, पर वस्तुतः उनकी गणना करना कठिन है। संसार के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न प्रयोजनों के लिए वे समय-समय पर विलक्षण व्यक्तित्व सहित उतरते हैं और अपना कार्य पूरा करके वापिस चले जाते हैं।

3-ऐसे ही स्तर पर पहुँचने की स्थिति "अहं ब्रह्मास्मि", सच्चिदानन्दोऽहम्,, शिवोऽहम् ,सोऽहम्, कहने की होती है। उस चरम लक्ष्य स्थल पर पहुँचने की स्थिति को चेतना क्षेत्र में बिजली की तरह कोंधाने के लिए इन वेदान्त मन्त्रों का जप, उच्चारण एवं चिन्तन, मनन किया जाता है।

THE KEY NOTES;-

1-पाँचवें शरीर तक स्त्री-पुरुष की मान्ताएँ रहती हैं और उन्हीं मान्यताओं के कारण विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण तथा अगले जन्म में उसी लिंग का शरीर बनने की प्रक्रिया चलती रहती है। उससे आगे के छठे और सातवें शरीर में विकसित होने पर यह भेदभाव चला जाता है। तब मात्र एक आत्मा की अनुभूति होती है। स्त्री और पुरुष का आकर्षण-विकर्षण समाप्त हो जाता है। सर्वत्र एक ही आत्मा की अनुभूति होती है। अपने आपकी अन्तः स्थिति लिंग भेद से ऊपर उठी होती है यद्यपि ज्ञानेन्द्रिय के चिन्ह शरीर में अपने स्थान पर यथावत् बने रहते हैं।

2-यही बात साँसारिक स्थिति बदलने के कारण मन पर पड़ने वाली भली-बुरी प्रतिक्रिया के सम्बन्ध में भी होती है। समुद्र में लहरें उठती, गिरती रहती हैं। नाविक उनके लिए हर्ष, शोक नहीं करता- मात्र समुद्री हलचलों का आनन्द लेता है। छठे शरीर में विकसित देवात्माएँ इस स्थिति से ऊपर उठ जाती हैं उनका चेतना स्तर गीता में कहे गये स्थितिप्रज्ञ की ,ज्ञानी की और उपनिषदों में वर्णित तत्वदर्शी की बन जाती है। उसके आत्म सुख से संसार के किसी परिवर्तन में विक्षेप नहीं पड़ता। लोकाचार के लिए उपयुक्त लीला प्रदर्शन भर के लिए उसका व्यवहार चलता रहता है। यह भी छठे शरीर तक की ही बात है।

3-सातवें शरीर वाले भगवान संज्ञा से विभूषित होते हैं। उन्हें अवतारी भी कह सकते हैं। इन्हीं के लिए ब्रह्मात्मा, ब्रह्म पुरुष-शब्द प्रयुक्त होते हैं। उन्हें ब्रह्म साक्षात्कार-ब्रह्म निर्वाण

प्राप्त भी कहा जा सकता है।छठे शरीर में स्थित देव, मानव स्थितिवश शाप और वरदान देते हैं, पर सातवें शरीर वाले के पास शुभेच्छा के अतिरिक्त और कुछ बचता ही नहीं। उनके लिए पराया एवं बैरी कोई रहता ही नहीं। दोष, अपराधों को वे बाल बुद्धि मानते हैं और द्वेष दण्ड के स्थान पर करुणा और सुधार की बात भर सोचते हैं।

NEXT...

.....SHIVOHAM....