Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

36 विज़्डम कोट्स/WISDOM QUOTES (BY SADGURU)


1-आप जिस तरह से सांस लेते हैं, वैसे ही आप सोचते हैं। जिस तरह से आप सोचते हैं, वैसे ही आप सांस लेते हैं। 2-डर सिर्फ इसलिए पैदा होता है, क्योंकि आप जीवन के साथ नहीं जी रहे हैं - आप अपने मन में जी रहे हैं। 3-हमारा शरीर मुख्य रूप से मिट्टी और पानी है। हमारी मिट्टी और पानी की गुणवत्ता हमारे भोजन, शरीर, और हमारे जीवन की गुणवत्ता को तय करती है। 4-अगर आप जीवन के गहरे आयामों की खोज खेल-खेल में करना चाहते हैं, तो आपको एक प्रेममय हृदय, आनंदमय मन, और ऊर्जावान शरीर की जरूरत होगी। 5-जब आप अपने ऊर्जा तंत्र को कर्मों की छाप से मुक्त करते हैं, सिर्फ तभी आप अपने भाग्य को बदल सकते हैं। योग क्रियाएं इसीलिए महत्वपूर्ण हैं। 6-चाहे इसे आप एक पत्थर कहें, एक जानवर कहें, एक पेड़ कहें, एक इंसान कहें, एक दैत्य कहें, या ईश्वर कहें - हर चीज एक ही ऊर्जा है, जो स्वयं को करोड़ों भिन्न रूपों में अभिव्यक्त कर रही… 7-शरीर व्यक्तिगत होता है। मन व्यक्तिगत होता है। चेतना व्यक्तिगत नहीं हो सकती - यह सिर्फ समावेशी हो सकती है। 8-जीवन इसी के लिए है – जीवन में हमसे कहीं विशाल कोई चीज घटित होनी चाहिए। इन लाखों सालों के विकास की प्रक्रिया के यही मायने हैं। 9-कोई भी रिश्ता हमेशा एक सा नहीं होता – वह हरदम बदलता रहता है। आपको इसे रोजाना ठीक से चलाना होता है। 10-कोई भी रिश्ता हमेशा एक सा नहीं होता – वह हरदम बदलता रहता है। आपको इसे रोजाना ठीक से चलाना होता है। 11-विवशता या बाध्यता अंधेरे की तरह होती है - आप इससे लड़ नहीं सकते। आपको चेतना की रोशनी जलानी होगी। 12-दुनिया के ज्यादातर लोग व्यस्त नहीं होते, वे बस चीजों को लेकर उलझे रहते हैं। 13-आध्यात्मिक प्रक्रिया का मतलब है कि आपका जीवन आपके भौतिक प्रकृति द्वारा नहीं चलाया जाता। जीवन की जो मूल प्रज्ञा है उसको अभिव्यक्त होने की जरूरत है। 14-पानी कोई खरीद-बिक्री का सामान नहीं है, बल्कि जीवन-निर्माण करने वाला तत्व है। आपके शरीर का दो तिहाई हिस्सा पानी है; इस सच्चाई के प्रति जागरूक रहना मनुष्य के जीवन को बनाए रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 15-जीवन समय का बस एक छोटा सा अंश है। अगर आप जीवन को कीमती समझते हैं, तो आपको हर चीज सही समय पर करनी होगी। 16-अगर आप केवल अपनी तार्किक बुद्धि का इस्तेमाल करते हैं, और बुद्धि व प्रज्ञा के दूसरे पहलुओं को अनदेखा कर देते हैं, तो आप जीवन में हर छोटी चीज को लेकर भ्रम में पड़ जाएंगे। 17-अगर आप केवल अपनी तार्किक बुद्धि का इस्तेमाल करते हैं, और बुद्धि व प्रज्ञा के दूसरे पहलुओं को अनदेखा कर देते हैं, तो आप जीवन में हर छोटी चीज को लेकर भ्रम में पड़ जाएंगे। 18-निश्चलता सबसे ऊँचे स्तर की तीव्रता है। जब आपके अंदर निश्चलता आती है, तब आपके शरीर, मन और ऊर्जाओं में ज़बरदस्त तीव्रता आ जाती है। 19-आप अपनी अटूट प्रतिबद्धता से बेहद अविश्वसनीय चीजें कर सकते हैं।

20-सिर्फ पैसा कमाने के बारे में मत सोचिए – अच्छी तरह से जीने के बारे में सोचिए। अच्छी तरह से जीने का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह है कि जिन चीजों की आपको वाकई परवाह है, आप उसे करते है… 21-जब आपके अन्दर पीड़ा, दुःख या गुस्सा पैदा होता है, तो वह समय अपने भीतर झांकने का होता है न कि अपने चारों तरफ देखने का। कष्ट के डर से, आपके जीवन में जो ज़बरदस्त क्षमताएं और संभावनाएं हैं, वो नष्ट हो जाती हैं। 22-अगर आप हरदम यह याद रखते हैं कि आप नश्वर हैं, तो आप इस धरती पर शालीनता और समझदारी से चलेंगे। 23-कोई दूसरा आपसे जैसा होने की उम्मीद करता है, वैसा होने के लिए आपको प्रतिबद्ध होना जरूरी नहीं है। आप जैसा होना चाहते हैं, वैसा होने के लिए आपको प्रतिबद्ध होना चाहिए। 24-आपको अपनी शादी को सफल बनाने के लिए जिस चीज़ की जरूरत है वो एक परफेक्ट इंसान नहीं है।आपको जिस चीज़ की जरूरत है वो है संपूर्ण ईमानदारी। 25-जीवन एक प्रक्रिया है, न कि समस्या। सवाल सिर्फ ये है कि आपने खुद को इस प्रक्रिया के लिए तैयार किया है या नहीं। 26-जीवन में सही या गलत जैसी कोई चीज़ नहीं होती। सवाल ये है कि क्या आपके कार्य उचित हैं और क्या आपके कार्य की प्रकृति समावेशी है। 27-जो भी व्यक्ति अपनी साधना तीव्रता के साथ करता है, वो ये देखेगा कि समय के साथ जैसे-जैसे ऊर्जा ऊपर उठती है, शरीर के साथ उसकी पहचान कम होने लगती है। 28-जीवन की प्रकृति ऐसी है कि अगर आप इसको सुलझा कर रखते हैं और इसे प्रवाहित होने देते हैं, तो जीवन एक सुंदर अनुभव बन जाता है। अगर आप इसे रोकते हैं, तो यह कष्टदायक बन जाता है। 29-अगर हम दूसरों के प्रति घृणा और हिंसा पालते हैं, तो एक दिन, ये हमारे पास वापस लौट आएगी। 30-सत्य के साधक को निष्कर्ष के सुख का आनंद नहीं लेना चाहिए। उसमें सिर्फ तीव्रता और खोजने की ललक होनी चाहिए। 31-सिर्फ वही व्यक्ति वाकई सुरक्षित है, जिसको सुरक्षा की कोई जरूरत नहीं रह जाती। 32-अगर जीवन में, आपका जीवन और आपका जीवित होना ही सबसे महत्वपूर्ण चीज है, और अगर आप सुबह जाग जाते हैं, तो इसका मतलब है कि आप अब भी जीवित हैं - क्या इस बात से आपके चेहरे पर कम से कम एक शानदार मुस्कुराहट नहीं आनी चाहिए! 33-हम जो भी कर रहे हैं, उसमें खुद को पूरी तरह से समर्पित किए बिना, जीवन के किसी भी क्षेत्र में, किसी ने वाकई में कुछ महत्वपूर्ण हासिल नहीं किया है। 34-ज्यादातर इंसान एक ऐसे पिंजड़े की चिड़िया की तरह जीवन जीते हैं, जिसका दरवाज़ा टूट चुका है। लेकिन वे अपनी परम संभावना के आकाश में उड़ान भरने के बजाय पिंजड़े पर सोने की परत चढ़ाने में व्यस्त रहते हैं।

35-भक्ति वो अवस्था है, जहां आपका अस्तित्व नहीं रह जाता, आप मिट जाते हैं; आपसे बस जीवन प्रवाहित होता है, एक खास मधुरता और खूबसूरती के साथ। 36-जिसके अंदर आगे बढ़ने की प्रबल इच्छा है, उसे यह सुनिश्चित करना होगा कि वह कृपा के प्रति ग्रहणशील है।

...SHIVOHAM...