Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

श्रीविद्या साधना(IN NUTSHELL)


श्रीविद्या साधना;- श्रीविद्या साधना संसार कीश्रीविद्या साधना(IN NUTSHELL) सर्वश्रेष्ठ साधनाओ मे से एक हैं।ध्यान के बिना केवल मन्त्र का जाप करना श्री विद्या साधना नही है।बिना ध्यान के केवल दस प्रतिशत का ही लाभ मिल सकता है।श्रीविद्या साधना में ध्यान का विशेष महत्व हैं। इसलिए पहले ध्यान का अभ्यास करे व साथ-साथ जप करे,अन्त मे केवल ध्यान करें। 1- श्री बाल सुंदरी >8 वर्षीया कन्या रूप में>धर्म, श्रीबाला-त्रिपुर-सुंदरी मंत्र:- ॐ - ऐं - क्लीं – सौः मंत्र कब होता है सिद्ध... 04 लाख बार जपने पर 2- षोडशी त्रिपुर सुंदरी >16 वर्षीया सुंदरी>अर्थ 3-षोडशी त्रिपुर सुंदरी(पंचदशी मंत्र):- ॐ क ए इ ल ह्रीं । ह स क ह ल ह्रीं। स क ल ह्रीं ॥ मंत्र कब होता है सिद्ध .. 16 लाख बार जपने पर सिद्ध हो जाता है । 3-श्रीराज-राजेश्वरी>युवा स्वरूप>काम षोडशाक्षरी विद्या मंत्र:- ''ॐ क ए इ ल ह्रीं ।ह स क ह ल ह्रीं। स क ल ह्रीं श्रीं॥ मंत्र कब होता है सिद्ध ..21 लाख बार जपने पर सिद्ध हो जाता है। 4- श्रीललिता त्रिपुर सुंदरी > वृद्धा रूप>मोक्ष ललिता माता का पवित्र मंत्र :- 'ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं सौ: ॐ ह्रीं श्रीं क ए ई ल ह्रीं ह स क ह ल ह्रीं सकल ह्रीं सौ: ऐं क्लीं ह्रीं श्रीं नम:।' मंत्र कब होता है सिद्ध ..21 लाख बार जपने पर सिद्ध हो जाता है।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

1-कोई भी शुभ कार्य आरम्भ करते समय विघ्नहरण भगवान गणेशजी की पूजा होती है, जो कि समस्त विघ्नों को दूर करके साधक की साधना पूर्ण करते हैं:-

1-1-मंत्र

गजाननं भूतगणादि सेवितं,

कपित्‍थ जम्बूफल चारु भक्षणम्।

उमासुतं शोक विनाशकारकम्

नमामि विघ्नेश्वर पाद पंकजम्।

उपरोक्त मंत्र पाठ करके हाथ में रखा अक्षत (चावल) गणेशजी की प्रतिमा के सम्मुख रख दें और मन ही मन प्रार्थना करें:-

'हे गणेशजी! आप समस्त विघ्नों का हरण करने वाले हैं।'

हे उमासुत! आप समस्त बाधाओं का नाश करने वाले हैं।

हे प्रभु! आपके चरण कमलों की मैं वंदना करता हूं।

1-2-किसी भी धार्मिक कृत्य, पूजा-पाठ व मंत्र आदि के जप से पूर्व होने वाली सूक्ष्म क्रियाओं संकल्प, विनियोग, न्यास व ध्यान आदि से आम जन सामान्यतः अनभिज्ञ होता है।आखिर ये सब जानने की हमें आवश्यकता क्यों हैं ..इसका उत्तर तो यही हैं की जब तक साधना क्षेत्र के बारे में ज्ञान का वह आवश्यक भाव भूमि हमारे जीवन में ना आ जाये सफलता कैसे प्राप्त होगी।हाँ सामान्य साधना में सफ़लत संभव हो सकती हैं पर उच्च स्तरीय साधना में सफलता पर प्रश्न वाचक चिन्ह ही हैं ।हर साधक को यह जानना चाहिए।मन्त्र जपने के पहले 'संकल्प' होता है | संकल्प के पश्चात विनियोग करें....

2-विनियोग;-

2-1-प्रक्रिया सरल हैं...एक उदाहरण लेते हैं....

''अस्यश्री श्रीविद्यापञ्चदशाक्षरी महा मन्त्रस्य -- आनन्दभैरव ऋषिः – गायत्रीछन्दः -- पञ्चदशाक्षर्यधिष्ठात्री ललितामहात्रिपुरसुन्दरी देवता ॥क ए ई ल ह्रीं बीजं॥ स क ल ह्रीं शक्तिः॥हस क ह ल ह्रीं कीलकम् ॥श्री ललितामहात्रिपुरसुन्दरी दर्शन भाषण सिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः॥"

सीधे हाँथ में थोडा सा जल लेकर ऊपर लिखे शब्दोंका उच्चारण करे, इसके बाद उस जल को जमीन पर डाल दे।परन्तु हमें ये जानना चाहिए की इसका क्या अर्थ हैं.. क्या शब्द इसमें उपयोगित हुए हैं।

2-2-उच्चारण करते समय कहाँ- कहाँ ध्यान होना चाहिए। एक एक करके हम इन्हें समझने की कोशिश करते हैं।साधना जगत के उच्च लोगों के लिए "मन्त्र पुरुष"अपरिचित शब्द नहीं हैं। हर मंत्र का एक रूप मंत्रपुरुष के रूप में होता हैं। जब साधक किसी मन्त्र की पूर्ण सिद्धि प्राप्त कर लेता हैं तब यह मंत्र पुरुष उस साधक के सामने प्रत्यक्ष होता ही हैं । पर यह बात तो सच नहीं लगती ,ना किसी ने इसके बारे में कभी लिखा , ना हमने सुना , तो बिस्वास करना कठिन सा हैं।जब इन शब्द का उच्चारण करते हैं तब इनका अर्थ या भावभूमि होती हैं।

ऋषि -----इसका उच्चारण करते समय सिर के उपरी के भाग में इनकी अवस्था मानी जाती हैं।छंद ------- गर्दन में

देवता ----- ह्रदय में

उत्कीलन ---- नाभि स्थान

परबीजं ------ कामिन्द्रिय स्थान

परशक्ति --- पैरों में (निचले हिस्से पर)

कीलक --- हांथो में

2-3-वास्तव में यह विनियोग एक प्रकार का समझौता , दिव्यता की साक्षी में होता हैं।जब भी आप इस विनियोग शब्द का उच्चारित करेंगे तो आप जानते हैं कि कहाँ- कहाँ भावना रखनी हैं ।

3-करन्यास;-

तत्पश्चात न्यास करें..

3-1-ॐ क ए ई ल ह्रीं - अंगुष्ठाभ्यां नम:।

3-2- ह स क ह ल ह्रीं - तर्जनीभ्यां नम:।

3-3- स क ल ह्रीं - मध्यामाभ्यां नम:।

3-4- ॐ क ए ई ल ह्रीं - अनामिकाभ्यां नम:।

3-5- ह स क ह ल ह्रीं - कनिष्ठिकाभ्यां नम:।

3-6-स क ल ह्रीं -करतलकरपृष्ठाभ्यां नम:।

कर न्यास करने का सही तरीका क्या हैं?-

05 FACTS;- 1-करन्यास की प्रक्रिया को समझने से पहले हमें यह समझना होगा की हम भारतीय किस तरीके से नमस्कार करते हैं । इसमें हमारे दोनों हाँथ की हथेली आपस में जुडी रहती हैं।साथ -साथ दोनों हांथो की हर अंगुली ,ठीक अपने कमांक की दुसरे हाँथ की अंगुली से जुडी होती हैं। ठीक इसी तरह से यह न्यास की प्रक्रिया भी.... 2-यहाँ पर हमें जो प्रक्रिया करना हैं वह कम से धीरे धीरे एक पूर्ण नमस्कार तक जाना हैं। तात्पर्य ये हैं की जव् आप पहली लाइन के मन्त्र का उच्चारण करेंगे तब केबल दोनों हांथो के अंगूठे को आपस में जोड़ देंगेऔर जब तर्जनीभ्याम वाली लाइन का उच्चारण होगा तब दोनों हांथो की तर्जनी अंगुली को आपस में जोड़ ले।

3-यहाँ पर ध्यान रखे की अभी भी दोनों अंगूठे के अंतिम सिरे आपस में जुड़े ही रहेंगे , इसके बाद मध्यमाभ्यम वाली लाइन के दौरान हम दोनों हांथो की मध्यमा अंगुली को जोड़ दे। पर यहा भी पहले जुडी हुए अंगुली ..अभी भी जुडी ही रहेंगी. .. इसी तरह से आगे की लाइन के बारे में क्रमशः करते जाये ।और अंत में करतल कर वाली लाइन के समय एक हाँथ की हथेली की पृष्ठ भाग को दुसरे हाँथ से स्पर्श करे। और फिर दूसरी हाँथ के लिए भी यही प्रक्रिया करे। ॐ क ए ई ल ह्रींअंगुष्ठ भ्याम नमः ---- दोनों अंगूठो के अंतिम सिरे को आपस में स्पर्श कराये । ह स क ह ल ह्रींतर्जनी भ्याम नमः ---- दोनों तर्जनी अंगुली के अंतिम सिरे को आपस में मिलाये। (यहाँ पर अंगूठे मिले ही रहेंगे ), स क ल ह्रीं मध्यमाभ्याम नमः --- दोनों मध्यमा अंगुली के अंतिम सिरे को आपस में मिलाये ।(यहाँ पर अंगूठे, तर्जनी मिले ही रहेंगे ), ॐ क ए ई ल ह्रीं -अनामिकाभ्याम नमः ----दोनों अनामिका अंगुली के अंतिम सिरे को आपस में मिलाये ।(यहाँ पर अंगूठे, तर्जनी, मध्यमा मिले हीरहेंगे ), ह स क ह ल ह्रीं कनिष्ठिकाभ्याम नमः ---दोनों कनिष्ठिका अंगुली के अंतिम सिरे को आपस में मिलाये ।(यहाँ पर अंगूठे, तर्जनी, मध्यमा, अनामिकामिले ही रहेंगे ), स क ल ह्रीं करतल कर प्रष्टाभ्याम नमः -- - दोनों हांथो की हथेली के पिछले भाग को दूसरी हथेली से स्पर्श करे।

4-अंग न्यास:

1-ॐक ए ई ल ह्रीं - हृदयाय नम:।

2- ह स क ह ल ह्रीं - शिरसे स्वाहा।

3- स क ल ह्रीं - शिखायै वषट्।

4 -ॐ क ए ई ल ह्रीं - कवचाय हुम्।

5- ह स क ह ल ह्रीं - नेत्रत्रयाय वौषट्।

6-स क ल ह्रीं - अस्त्राय फट्। अंगन्यास करने का सही तरीका क्या हैं?- अंग न्यास ... सीधे हाँथ के अंगूठे ओर अनामिका अंगुली को आपस में जोड़ ले। सम्बंधित मंत्र का उच्चारण करते जाये , शरीर के जिन-जिन भागों का नाम लिया जा रहा हैं उन्हें स्पर्श करते हुए यह भावना रखे की... वे भाग अधिक शक्तिशाली और पवित्र होते जा रहे हैं। . उदहारण ॐक ए ई ल ह्रीं ह्रदयाय नमः ----- बतलाई गयी उन्ही दो अंगुली से अपने ह्रदय स्थल को स्पर्श करे ह स क ह ल ह्रीं ---- अपने सिर को स क ल ह्रीं शिखाये फट ---- अपनी शिखा को (जोकि सिर के उपरी पिछले भाग में स्थित होती हैं ) ॐक ए ई ल ह्रीं - कवचाय हुम् --- अपने बाहों को ह स क ह ल ह्रीं नेत्र त्रयाय वौषट-----अपने आँखों को स क ल ह्रीं अस्त्राय फट् --- तीन बार ताली बजाये

( हम तीन बार ताली बजाते क्यों है?वास्तव में , हम हमेशा से बहुत शक्तियों से घिरे रहते हैं और जो हमेशा से हमारे द्वारा किये जाने वाले मंत्र जप को हमसे छीनते जाते हैं , तो तीन बार सीधे हाँथ की हथेली को सिर के चारो ओर चक्कर लगाये / सिर के चारो तरफ वृत्ताकार में घुमाये ,इसके पहले यह देख ले की किस नासिका द्वारा हमारा स्वर चल रहा हैं , यदि सीधे हाँथ की ओर वाला स्वर चल रहा हैं तब ताली बजाते समय उलटे हाँथ को नीचे रख कर सीधे हाँथ से ताली बजाये . ओर यदि नासिका स्वर उलटे हाथ की ओर / लेफ्ट साइड का चल रहा हैं तो सीधे हाँथ की हथेली को नीचे रख कर उलटे (Left) हाँथ से ताली उस पर बजाये ) इस तरीके से करने पर हमारा मन्त्र जप सुरक्षित रहा हैं ,सभी साधको को इस तथ्य पर ध्यान देना ही चाहिए)

5-ध्यान मंत्र;-

उपरोक्त विधि से न्यास करने के उपरान्त देव के स्वरूप का ध्यान करते हुए 'ध्यान मंत्र' का

पाठ करें। ध्‍यान के बाद मानस पूजा करें। मानस पूजा में देव को मन की कल्पना से रचित पुष्प, नैवेद्य, अर्घ्य, पाद्य आदि अर्पित किया जाता है, जैसे मन ही मन सुन्दर पुष्प की कल्पना करके कहें- हे देव! यह सुन्दर पुष्प मैं आपको अर्पित करता हूं। कृपालु होकर पुष्प स्वीकार करें और मुझे मनोवां‍छित फल प्रदान करें। इसी प्रकार अन्य क्रिया करें।तत्पश्चात ' मंत्र' का जप करें।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

बालामन्त्र जप(BALA Mantra Japa);- Seating: While doing Bala mantra japa, one has to either face East or North. If one does not have a guru, contemplate on Lord Dkṣiṇāmūrti and mentally accept Him as Guru. 1. Curse removal mantra: बालामन्त्रजपत्वेन शापविमोचनमन्त्रं करिष्ये। हसैं हसकरीं हसैं hasaiṁ hasakarīṁ hasaiṁ (to be recited 100 times before the commencement of daily japa. The recitation of this mantra can be dispensed with after reciting 100 times for the first few days.) 2. विनियोगः- अस्य श्री बालात्रिपुरसुन्दरी महा मन्त्रस्य। द्क्षिणामूर्ति ऋषिः। पङ्क्ति छन्दः। बालात्रिपुरसुन्दरी देवता॥ऐं बीजं। सौः शक्तिः। क्लीं कीलकम्॥श्री बालात्रिपुरसुन्दरी दर्शन भाषण सिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः॥ (open both the palms and run them over all parts of the body; from head to feet)|| 3. Karanyāsaḥ करन्यासः ऐं - अङ्गुष्ठाभ्याम् नमः। (use both the index fingers and run them on both the thumbs) क्लीं - तर्जनीभ्यां नमः। (use both the thumbs and run them on both the index fingers) सौः- मध्यमाभ्यां नमः। (both the thumbs on the middle fingers) ऐं - अनामिकाभ्यां नमः। aiṁ - anāmikābhyāṁ namaḥ| (both the thumbs on the ring fingers) क्लीं - कनिष्ठीकाभ्यां नमः। klīṁ - kaniṣṭhīkābhyāṁ namaḥ| (both the thumbs on the little fingers) सौः - करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः। sauḥ - karatalakarapṛṣṭhābhyāṁ namaḥ| (open both the palms; run the opened palms of the right hand on the front and back sides of the left palm and repeat the same for the other palm) 4. Hrdayādi nyāsaḥ ह्र्दयादि न्यासः ऐं- ह्र्दयाय नमः। aiṁ - hrdayāya namaḥ| (open index, middle and ring fingers of the right hand and place them on the heart chakra) क्लीं - शिरसे स्वाहा। klīṁ - śirase svāhā| (open middle and ring fingers of the right hand and touch the top of the forehead) सौः - शिखायै वषट्। sauḥ - śikhāyai vaṣaṭ| (open the right thumb and touch the back of the head. This is the point where tuft is kept) ऐं - कवचाय हुं। aiṁ - kavacāya huṁ| (cross both the hands and run the fully opened palms from shoulders to finger tips) क्लीं - नेत्रत्रयाय वौषट्। klīṁ - netratrayāya vauṣaṭ| (open the index, middle and ring fingers of the right hand; touch both the eyes using index and ring fingers and touch the point between the two eyebrows (ājñā cakra) with the middle finger. सौः - अस्त्राय फट्॥ sauḥ - astrāya phaṭ|| भूर्भुवस्सुवरोमिति दिग्बन्धः॥ bhūrbhuvassuvaromiti digbandhaḥ|| ध्यानम्;- रक्तकलाम्बरां चन्द्रकलावतं सां समुद्यदादित्यनिभां त्रिनेत्रां। विद्याक्षमालाभयदामहस्तां ध्यायामि बालामरुणाम्बुजस्थाम्॥ (Meaning of dhyāna verse for easy contemplation of Her form: I meditate upon the Bālā Devi, clad in red garments whose forehead is decorated with a crescent moon, who has three eyes, whose brilliance is like that of the rising sun, who is seated on a red lotus and who holds in her four bands a sacred book, rosary, abhaya and varada mudras.) 6. Pañcapūjā पञ्चपूजा (follow as per Karanyāsa) लं - पृथिव्यात्मिकायै गन्धं समर्पयामि। हं - आकाशात्मिकायै पुष्पैः पूजयामि। यं - वाय्वात्मिकायै धूपमाघ्रापयामि। रं - अग्न्यात्मिकायै धीपं दर्शयामि। वं अमृतात्मिकायै अमृतं महानैवेद्यं निवेदयामि। सं - सर्वात्मिकायै सर्वोपचार पूजाम् समर्पयामि॥ 7. Bālā mantraḥ बाला मन्त्रः There are three types of Bālā mantra-s and they are known by different names. One has to choose any one of the following. Out of the three, Bālā navākṣarī mantra is very powerful and is the best mantra for recitation. It is capable of giving material comforts. The three syllable mantra is related to herbs. Those who make sacred herbal medicines should recite this mantra. The second six syllable mantra is capable of providing liberation from transmigration. 1. Bālā mantra consists of three bījākṣara-s – ॐ - ऐं - क्लीं – सौः (om - aiṁ - klīṁ - sauḥ) 2. Bālātripurasundarī mantra consists of six bījākṣara-s - ॐ - ऐं - क्लीं - सौः -- सौः - क्लीं – ऐं (om - aiṁ - klīṁ - sauḥ -- sauḥ - klīṁ - aiṁ) 3. Bālā navākṣarī mantra - ॐ - ऐं - क्लीं - सौः -- सौः - क्लीं - ऐं -- ऐं - क्लीं – सौः (om - aiṁ - klīṁ - sauḥ -- sauḥ - klīṁ - aiṁ -- aiṁ - klīṁ - sauḥ)

8-. Samarpaṇam समर्पनम् गुह्यातिगुह्यगोप्त्री त्वं गृहाणास्मात्कृतं जपम्। सिद्धिर्भवतु मे देवि त्वत्प्रसादान्मयि स्तिरा॥

(Meaning: You sustain the secret of all secrets. Please accept this japa performed by me and bestow Your perpetual Grace on me.) ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

श्रीविद्यापञ्चदशाक्षरी मन्त्रजप ŚRIVIDYA PANCHADASHAKSARI MANTRA JAPA This is the simple way of doing Panchadasaksari mantra japa, Seating: While doing Panchadasaksari mantra japa, one has to either face East or North. If one does not have a guru, contemplate on Lord Dkṣiṇāmūrti and mentally accept Him as Guru.

1. Curse Removal Mantra: श्रीविद्यापञ्चदशाक्षरी जपत्वेन शापविमोचनमन्त्रम् करिष्ये।

First Part – Should Be Recited Seven Times: ई ए क ल ह्रीं स क ल ह्रीं Second Part – Should Be Recited Three Times: ह स क ह स क ह ल ह्रीं स क ल ह्रीं ई ए क ल ह्रीं

Third Part – Should Be Recited One Time. ह ल भ भ भ भ भ अ 2- विनियोग;- अस्यश्री श्रीविद्यापञ्चदशाक्षरी महा मन्त्रस्य -- आनन्दभैरव ऋषिः – गायत्रीछन्दः -- पञ्चदशाक्षर्यधिष्ठात्री ललितामहात्रिपुरसुन्दरी देवता ॥क ए ई ल ह्रीं बीजं॥ स क ल ह्रीं शक्तिः॥ह स क ह ल ह्रीं कीलकम् ॥श्री ललितामहात्रिपुरसुन्दरी दर्शन भाषण सिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः॥

3 करन्यासःKARA-NYASAH क ए ई ल ह्रीं अङ्गुष्ठाभ्याम् नमः (Use both the index fingers and run them on both the thumbs) ह स क ह ल ह्रीं तर्जनीभ्यां नमः (Use both the thumbs and run them on both the index fingers स क ल ह्रीं मध्यमाभ्यां नमः (Both the thumbs on the middle fingers) क ए ई ल ह्रीं अनामिकाभ्यां नमः (Both the thumbs on the ring fingers) ह स क ह ल ह्रीं कनिष्ठीकाभ्यां नमः (Both the thumbs on the little fingers)

स क ल ह्रीं करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः (Open both the palms; run the opened palms of the right hand on the front and back sides of the left palm and repeat the same for the other palm) 4-ह्र्दयादि न्यासः- क ए ई ल ह्रीं ह्र्दयाय नमः (Open index, middle and ring fingers of the right hand and place them on the HEART chakra) ह स क ह ल ह्रीं शिरसे स्वाहा (Open middle and ring fingers of the right hand and touch the top of the forehead)

स क ल ह्रीं शिखायै वषट् (Open the right thumb and touch the back of the head. This is the point where tuft is kept)

क ए ई ल ह्रीं कवचाय हुं (Cross both the hands and run the fully opened palms from shoulders to finger tips)

ह स क ह ल ह्रीं नेत्रत्रयाय वौषट् (Open the index, middle and ring fingers of the right hand; touch both the eyes using index and ring fingers and touch the point between the two eyebrows ( AJNA chakra) with the middle finger.)

स क ल ह्रीं अस्त्राय फट् (Open up the left palm and strike it three times with index and middle fingers of the right hand)

भूर्भुवस्सुवरोमिति दिग्बन्धः॥ (By using right hand thumb and middle fingers make rattle around the head)

5- ध्यानम् DHYANAM

अरुणां करुणा-तरंगिताक्षीं धृत-पाशांकुश-पुष्प-बाण-चापाम्। अणिमादिबिरावृताम् मयूखै-रहमित्येव विभावये भवानीम्॥

The meaning for this verse is –'' I meditate on Bhavanī, the supreme happiness, whose colour is like the sun at dawn i.e. red in colour and from whom rays of light are emanating. This confirms Her red complexion discussed in the previous verse. Her compassion for Her devotees comes out of Her eyes like waves of ocean. In this verse She is described with four hands. In the rear hands She has two weapons called pasam (like a rope) and aṅkuśa (a sharp edged metal weapon normally used to control elephants). In the front hands she holds a bow made out of sugar cane and arrows made out of flowers. A detailed study of Her weaponries is discussed later in this Sahasranama. They represent four of Her premier assistants. She is surrounded by aṣṭama siddhi-s. Each siddhi is represented by a goddess in Śri Chakra. I meditate on Her form called Bhavanī, a state of supreme happiness with beams of light.''

6- पञ्चपूजा (Follow As Per Karanyasa) लं - पृथिव्यात्मिकायै गन्धं समर्पयामि। हं - आकाशात्मिकायै पुष्पैः पूजयामि। यं - वाय्वात्मिकायै धूपमाघ्रापयामि। रं - अग्न्यात्मिकायै दीपं दर्शयामि। वं अमृतात्मिकायै अमृतं महानैवेद्यं निवेदयामि। सं - सर्वात्मिकायै सर्वोपचार पूजाम् समर्पयामि॥ 7- श्रीविद्यापञ्चदशाक्षरी मन्त्रः

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं क ए ई ल ह्रीं - ह स क ह ल ह्रीं - स क ल ह्रीं om aiṁ hriṁ sriṁ ka e i la hriṁ - ha sa ka ha la hriṁ - sa ka la hriṁ 8-समर्पनम्Samarpaṇam गुह्याति गुह्य गोप्त्री त्वं गृहाणास्मत्-कृतं जपम्। सिद्धिर्भवतु मे देवि त्वत्प्रसादान्मयि स्तिरा॥

MEANING: -

(You sustain the secret of all secrets. Please accept this japa performed by me and bestow Your perpetual Grace on me.)

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

NOTE;-

सौभाग्यविद्या पञ्चदशाक्षरी ...

''ऐं क ए ई ल ह्रीं - क्लीं ह स क ह ल ह्रीं - सौः स क ल ह्रीं''

There is another mantra by name (Saubhagyavidya Pancadasakṣari ), in which aiṁ - klīṁ - Sauḥ is prefixed before each kuṭa. In that case, mantra will be like this:

aiṁ ka ei la hriṁ - kliṁ ha sa ka ha la hriṁ - sauḥ sa ka la hriṁ

Accordingly NYASA- will also change. Rest remains the same.

MEANING OF 25 BIJA-AKSHARS;---

.1-AIM

Acquisition of knowledge..

2-RHIM

Acquisition of worldly happiness..

3- AM

Achieving the impossible.....

4-DRAM

Longevity..

5- OM JUM SAHA Acquisition of good health and prevention of untimely death........

6-SOUM

Progress and prosperity in all spheres ...

7-KLIM

Fulfillment of wishes.....

8- NAMAHA

Successful completion of actions(sampannakaran).....

9 -RHOM

Satisfaction, Serenity....

10 -IHIM

Winning debates...

11- HUM/हुं

Hatred (Dvesh),Anger and courage, to frighten one’s enemy....

12-TAM TAM

Hindering others progress....

13-KHEM KHEM

Killing (maran).....

14-BIRUM

Hypnotising (sammohan)...

15-VASHAT/वषट्

Controlling someone else’s mind(vashikaran),A spiritual emotion of destroying the enemy......

16.VOUSHAT/वौषट्

Attraction (akarshan)To create conflicts or opposition among enemies, to acquire power and wealth....

17--SVAHA/स्वाहा

Destruction of harmful energy, for instance curing a disease and doing good to others, appeasing the deity of the mantra with offerings;

18--PHAT/फट्

A spiritual emotion of attacking the enemy, to drive the enemy away. Explosive reaffirmation (without doubt)

19-SVADHA

Self-contentment, strengthening oneself;-

20--GLAUM This is a Mantra of Ganesha. Ga means Ganesha. La means that which pervades. Au means lustre or brilliance.

21-H00M In this Mantra, Ha is Shiva. U is Bhairava.

22-GAM

This is the Ganesha-Bija. Ga means Ganesha

23-JUM

quickening, animation, inspiration

24-SAH

sa is “air or wind”, and it invokes “universal soul”

25-TAM

This beej mantra is for getting rid of disease, worry, fear and illusions.

BEEJ-MANTRAS OF CHAKRAS, & ORGANS ;--

1. Muladhar> Lam, Lrum >The anus

2. Svadhishthan >Vam >The sex organs

3. Manipur> Ram, rum >The organs of digestion

4. Anahat> Yam > The heart and lungs

5. Vishuddha>Ham> The organs of speech

6. Adnya Om >The nervous system (mind and intellect)

..SHIVOHAM...