Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

देव शक्तियों को भी सम्मोहित करने में सक्षम सम्मोहन साधना/अधिक लाभ के लिये कच्चे सूत से उर्जित करें


सभी अपनों को राम राम जो साधक 22 व 23 अप्रैल को मुम्बई में मेरे साथ सम्मोहन साधना करना चाहते हैं. वे अपने मोहिनी रुद्राक्ष को आज रात गंगा जल या मिनिरल वाटर में रख दें. उसे परसों सुबह निकालकर 1 घंटे के लिये धूप में रखकर चार्ज कर लें. ये साधना देव शक्तियों को भी सम्मोहित करने में सक्षम होती है. सामान्य स्थितियों में इसकी सिद्धी में डेढ़ से तीन साल का समय लगता है. यदि इसे मोहिनी गुटिका या मोहिनी रुद्राक्ष के साथ किया जाये तो तत्काल सिद्ध हो जाती है. दरअसल ब्रह्मांड के एक क्षेत्र की उर्जाओं में सम्मोहन की बड़ी क्षमता है. सम्मोहन साधना में साधक खुद को इसी क्षेत्र की उर्जाओं से कनेक्ट करता है. इसी प्रक्रिया में लम्बा समय लगता है. एेसे में पहले से सिद्ध यानि ब्रह्मांड के सम्मोहन क्षेत्र की उर्जाओं से कनेक्ट मोहिनी गुटिका या मोहिनी रुद्राक्ष को साधना का माध्यम बनाया जाता है. जो उसी क्षण साधक को उस क्षेत्र की उर्जाओं से जोड़ देता है. पहले किसी साधना में यूज हो चुके मोहिनी रुद्राक्ष को ऊपर लिखी विधि अपनाकर दोबारा सम्मोहन साधना के लिये तैयार किया जाता है. जो लोग अपने घर में रहकर सम्मोहन साधना कर रहे हैं वे भी इसी विधि से अपने मोहिनी रुद्राक्ष को दोबारा उपयोग के लिये तैयार कर लें*

1. सम्मोहन का दुरुपयोग बिल्कुल न करें. 2. अधिक से अधिक उपयोग के लिये इसे पशु पक्षियों पर अपनायें. जो विधि कल बताई गई उससे आस पास बैठे पक्षियों को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिये प्रयोग करें. 3. कुछ ही समय में आप पाएंगे कि सिद्धी का प्रयोग करते ही पक्षी आपकी तरफ आकर्षित होने लगे. 4. पेड़ पौधों के आकर्षण के लिये भी इसका उपयोग कर सकते हैं. इससे वे साधक को अधिकाधिक उर्जायें देने लगते हैं. 5. सम्मो