Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

संक्षेप में न्यायदर्शन ...PART-04

षड्दर्शन उन भारतीय दार्शनिक एवं धार्मिक विचारों के मंथन का परिपक्व परिणाम है जो हजारों वर्षो के चिन्तन से उतरा और हिन्दू (वैदिक) दर्शन के नाम से प्रचलित हुआ। इन्हें आस्तिक दर्शन भी कहा जाता है। दर्शन और उनके प्रणेता निम्नलिखित है। 1-पूर्व मीमांसा: महिर्ष जैमिनी 2-वेदान्त (उत्तर मीमांसा): महिर्ष बादरायण 3-सांख्य: महिर्ष कपिल 4-वैशेषिक: महिर्ष कणाद 5-न्याय: महिर्ष गौतम 6-योग: महिर्ष पतंजलि

न्यायदर्शन;-

04 FACTS;- 1-न्याय दर्शन /न्याय सूत्र के रचयिता का गौतम ( गोत्र नाम गोतम ) है और व्यक्तिगत नाम अक्षपाद है |विभिन्न प्रमाणों की सहायता से वस्तुतत्त्व की परीक्षा न्याय हैं |महिर्ष अक्षपाद गौतम द्वारा प्रणीत न्याय दर्शन एक आस्तिक दर्शन है जिसमें ईश्वर कर्म-फल प्रदाता है। इस दर्शन का मुख्य प्रतिपाद्य विषय प्रमाण है। न्याय शब्द कई अर्थों में प्रयुक्त होता है परन्तु दार्शनिक साहित्य में न्याय वह साधन है जिसकी सहायता से किसी प्रतिपाद्य विषय की सिद्ध या किसी सिद्धान्त का निराकरण होता है ।अत: न्यायदर्शन में अन्वेषण अर्थात् जाँच-पड़ताल के उपायों का वर्णन किया गया है।

2-इस ग्रन्थ में पांच अध्याय है तथा प्रत्येक अध्याय में दो दो आह्रिक हैं। कुल सूत्रों की संख्या 539 हैं।न्यायदर्शन में अन्वेषण अर्थात् जाँच-पड़ताल के उपायों का वर्णन किया गया है। कहा है कि सत्य की खोज के लिए सोलह तत्व है। उन तत्वों के द्वारा किसी भी पदार्थ की सत्यता (वास्तविकता) का पता किया जा सकता है।वैशेषिक और न्याय , इन दोनों दर्शनों के अनुसार आत्मा, आकाश, काल, दिशा, मन और परमाणु ( वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी के) नित्य हैं; और शरीर, इन्द्रियाँ, चारों स्थूलभूत ( पृथ्वी, जल. अग्नि, वायु और इनसे बनी सारी सृष्टि ) अनित्य हैं |

3-इन दोनों दर्शनों ने सांख्ययोग के सदृश परमात्मा तत्त्व को आत्मतत्त्व में सम्मिलित का दिया हैं अर्थात उसका अलग वर्णन नहीं किया हैं | इससे यह सिद्ध होता हैं कि इन्होने परमात्मा तत्त्व को अस्वीकार नहीं किया हैं |इसका कारण यह हैं कि इन दोनों दर्शनों ने वेदांत दर्शन के सम्मान –‘हेयहेतु’ अर्थात दुःख का कारण अविद्या , मिथ्या ज्ञान या अविवेक माना हैं| ‘हान’

अर्थात दुःख का अत्यंत अभाव ,स्वरुप अवस्थिति , अपवर्ग या ब्रह्मप्राप्ति बतलाया हैं ; किन्तु ‘हानोपाय’ अर्थात दुखनिवृत्ति का साधन जहाँ वेदान्त में ब्रह्म ज्ञान बतलाया हैं वहाँ इन दोनों दर्शनों ने जड़ और चेतन तत्त्व का विवेक अर्थात तत्त्व ज्ञान माना हैं |

4-सोलह पदार्थो के तत्त्व ज्ञान से मिथ्या अर्थात अविद्या का नाश होता हैं | मिथ्या ज्ञान के नाश से ( राग, द्वेष, मोह) दोषोंका नाश होता हैं | दोषों के नाश से प्रवृत्ति का नाश होता है | प्रवृत्ति के नाश से जन्म का न मिलना और जन्म के न मिलने से सब दुखो का अभाव होता है | सब

दुखों का अभाव ही अपवर्ग है |योग दर्शन और सांख्य दर्शन ने बुद्धि अर्थात चित्त को पृथक तत्त्व माना है , किन्तु न्याय दर्शन और वैशिषिक दर्शन ने इसको आत्मा में ही सम्मिलित करके आत्मा के शबल स्वरुप के धर्म , ज्ञान, प्रयत्न आदि बतलाये है |आत्मा तथा परमात्मा का अस्तित्व प्रमाण और लक्षण से सिद्ध करने के पश्चात इन दोनों दर्शनकारों ने न केवल आत्मा और परमात्मा का , किन्तु अतीन्द्रिय जड़ पदार्थों का भी वास्तविक स्वरुप जानने के लिए योग साधना का ही सहारा बतलाया है |

सोलह पदार्थो का तत्त्व ज्ञान ;-

न्यायसूत्र पांच अध्यायों में विभक्त है |इनमे षोडश पदार्थों के उद्देश्य तथा लक्षण परिक्षण किये गए है जिसका वर्णन न्याय दर्शन में है और इस प्रकार इस दर्शन शास्त्र को तर्क करने का व्याकरण कह सकते हैं। वेदार्थ जानने में तर्क का विशेष महत्व है। अत: यह दर्शन शास्त्र वेदार्थ करने में सहायक है।इन सोलह तत्वों के ज्ञान से निश्रेयस् की प्राप्ति होती है अथार्त सत्य की खोज में सफलता प्राप्ति होती है.....

1-प्रमाण – ये मुख्य चार हैं – प्रत्यक्ष , अनुमान , उपमान एवं आगम | 2- प्रमेय – ये बारह है – आत्मा, शरीर, इन्द्रियाँ, अर्थ , बुद्धि / ज्ञान / उपलब्धि , मन, प्रवृत्ति , दोष, प्रेतभाव , फल, दुःख और उपवर्ग | 3- संशय 4-प्रयोजन 5- दृष्टान्त 6-सिद्धांत – चार प्रकार के है : सर्वतंत्र सिद्धांत , प्रतितन्त्र सिद्धांत, अधिकरण सिद्धांत और अभुपगम सिद्धांत | 7-अवयव 8- तर्क 9- निर्णय 10-वाद 11-जल्प 12-वितण्डता 13- हेत्वाभास – ये पांच प्रकार के होते है : सव्यभिचार, विरुद्ध, प्रकरणसम, साध्यसम और कालातीत हेत्वाभास | 14- छल – वाक छल , सामान्य छल और उपचार छल | 15-जाती 16- निग्रहस्थान ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

न्याय दर्शन के चार विभाग;-

06 FACTS;- 1-1-सामान्य ज्ञान की समस्या का निराकरण 1-2-जगत की समस्या का निराकरण 1-3-जीवात्मा की मुक्ति 1-4-परमात्मा का ज्ञान 2-न्याय दर्शन में आघ्यात्मवाद की अपेक्षा तर्क एवं ज्ञान का आधिक्य है ।इसमें तर्क शास्त्र का प्रवेश इसलिए कराया गया क्योंकि स्पष्ट विचार एवं तर्क-संगत प्रमाण परमानन्द की प्राप्ति के लिए आवश्यक है। न्याय दर्शन में सामान्य ज्ञान ,संसार की क्लिष्टता ,जीवात्मा की मुक्ति एवं परमात्मा का ज्ञान- इन चारों गंभीर उद्देश्यों को लक्ष्य बनाकर प्रमाण आदि 16 पदार्थ उनके तार्किक समाधान के माने गये है किन्तु इन सबमे प्रमाण ही मुख्य प्रतिपाद्य विषय है। 3-किसी विषय में यथार्थ ज्ञान पर पहुंचने और अपने या दूसरे के अयथार्थ ज्ञान की त्रुटि ज्ञात करना ही इस दर्शन का मुख्य उद्देश्य है।दु:ख का अत्यन्तिक नाश ही मोक्ष है।न्याय दर्शन की अन्तिम दीक्षा यही है कि केवल ईश्वरीयता ही वांछित है, ज्ञातव्य है और प्राप्य है- यह संसार नहीं।

4-मुक्ति के लिए इन समस्याओं का समाधान आवश्यक है जो १६ पदार्थों के तत्वज्ञान से होता है। इनमें प्रमाण और प्रमेय भी है। तत्वज्ञान से मिथ्या-ज्ञान का नाश होता है। राग-द्वेष को सर्वथा नष्ट करके यही मोक्ष दिलाता है। सोलह पदार्थों का तत्व-ज्ञान क्रम से मोक्ष का हेतु बनाता है।अर्थात-दु:ख, जन्म, प्रवृति(धर्म-अधर्म),दोष (राग,द्वेष), और मिथ्या ज्ञान-इनमें से उत्तरोतर नाश द्वारा इसके पूर्व का नाश होने से अपवर्ग अर्थात् मोक्ष होता है। 5-इनमें से प्रमेय के तत्व-ज्ञान से मोक्ष की प्राप्ति होती है और प्रमाण आदि पदार्थ उस ज्ञान के साधन है। युक्ति तर्क है जो प्रमाणों की सहायता करता है।पक्ष-प्रतिपक्ष के द्वारा जो अर्थ का निश्चय है, वही निर्णय है। दूसरे अभिप्राय से कहे शब्दों का कुछ और ही अभिप्राय कल्पना करके दूषण देना छल है।

6-आत्मा, शरीर और इन्द्रियों में केवल आत्मा ही भोगने वाला है। इच्छा,द्वेष, प्रयत्न, सुख-दु:ख और ज्ञान उसके चिह्म है जिनसे वह शरीर से अलग जाना पड़ता है। उसके भोगने का घर शरीर है। भोगने के साधन इन्द्रिय है। भोगने योग्य विषय (रूप,रस,गंध, शब्द और स्पर्श) ये अर्थ है उस भोग का अनुभव बुध्दि है और अनुभव कराने वाला अंत:करण मन है। सुख-दु:ख का कराना फल है और अत्यान्तिक रूप से उससे छूटना ही मोक्ष है।

न्याय दर्शन विवेचन;-

22 FACTS;- 1-प्रमेय, संशय आदि सोलह प्रकार के प्रमाण कहे गए है|न्याय मे ये ही सोलह पदार्थ माने जाते है| जिस साधन से प्रमाता विष्यों को प्राप्त करता है, उस साधन को प्रमाण और ग्रहण किये जाने वाले विष्यों को प्रमेह कहते हैं| इस सबके तत्त्व को भली प्रकार जान लेने से मोक्ष की प्राप्ति सुलभ हो जाती है| 2- तत्त्व ज्ञान से प्राप्त होने से मिथ्या ज्ञान दूर हो जाता है और मिथ्या ज्ञान के मिटने पर राग-द्वेष आदि का नाश होता है| जब राग-द्वेष का नाश होता है तब विषयों की प्रवृत्ति भी रुक जाती है और प्रवृत्ति के नष्ट होने पर तो मानव की कर्म से निवृत्ति हो जाती है| कर्म नहीं होता तो प्रारब्ध नहीं बनता और प्रारब्ध के ना बनने से जन्म-मरण भी नहीं होता| जन्म-मरण ही सुख-दुख रूप है, जब सुख-दुख नहीं होता तो मोक्ष प्राप्त हो जाता है| इस प्रकार सुख-दुख का अत्यंत अभाव हो जाने को ही मोक्ष की प्राप्ति समझनी चाहिये| 3 - प्रमाण के चार भेद हैं| प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान और शब्द| जब किसी प्दार्थ को सिद्ध करना होता है तब इन चार प्रकारों से ही उस पदार्थ का ग्यान हो सकता है| अगले सूत्र मे प्रत्यक्ष प्रमाण के लक्षण का निरूपण करते हैं| 4- इन्द्रिया और उसके विष्य के सन्निकर्ष से जो ज्ञान उत्पन्न होता है, वह प्रत्यक्ष दिखाई देता है जैसे अमुक व्यक्ति चल रहा है, अमुक व्यक्ति भोजन कर रहा है| जब नेत्र इन विषयों को प्रत्यक्ष देखते हैं तब उसमें संदेह का प्रश्न ही नहीं उठता| नेत्र जिस दृश्य को होते हुये प्रत्यक्ष देख रहा है, वह पहले से कहा गया भी नहीं होता और प्रत्यक्ष घटित होने से वह ज्यों का त्यों दिखाई देगा, इसलिये उसके घटने बढ़ने का दोष भी नहीं होता| इसलिये जो प्रत्यक्ष है, वह प्रमाण सर्वोपरि और अकाट्य माना जाता है| अब अगले सूत्र मे अनुमान प्रमाण का विवेचन किया है| 5- लक्षण को देख कर जिस किसी वस्तु का ज्ञान होता है उसे अनुमान कहते हैं| जैसे सिंग, पूंछ के अंत मे बाल, चार पाँव, कंधा उठा हुआ और कंठ के नीचे मांस लटकता हुआ होने से गौ का अनुमान होता है| ऐसे को देखते ही सामान्य रूप से सभी लोग उसे गाय समझ लेते हैं, इसलिये इसे सामान्यतोदृश्य अनुमान कहा गया है| जहां कारण को देखकर कार्य का अनुमान हो अर्थात आम के वृक्ष को देख अनुमान किया जाये कि इस पर जो फल लगेंगे, वे आम के ही होंगे| यह पूर्ववत अनुमान है तथा कार्य को देख कर कारण का अनुमान हो, जैसे पुत्र हो तो पिता अवश्य बनेगा| ऐसा अनुमान शेषवत कहा गया है| इस प्रकार सिद्ध हुआ कि अनुमान प्रमाण के जो तीन भेद न्याय मे कहे गये है वे उचित है| अब उपमान प्रमाण का निरूपण किया जाता है| 6- किसी पदार्थ के प्रसिद्ध पदार्थ के से लक्षण हों और उसकी पहचान उस प्रसिद्ध पदार्थ का नाम लेकर कही जाये तो उसे उपमान प्रमाण कहा जायेगा| जैसा किसी नील गाय को देखकर कह दें कि यह गौ के समान अथवा नील गाय को गाय के समान देख कर यह समझ लिया लिया जाय कि यह गाय नील गाय होगी, तो ऐसा अनुमान उपमान प्रमाण कहा जाता है| 7- आप्त पुरुष उन्हे कहते है जो सदाचारी, ज्ञानी,विद्वान और मोक्ष की कामना वाले तथा मोक्ष प्राप्ति के लिये प्रयत्नशील हो। ऎसे व्यक्ति कभी मिथ्या भाषण नही करते और योग आदि की साधना मे लगे रहने से उन्हे जो सिद्दि होती है, उसके द्वारा वे सूक्ष्म से सूक्ष्म तत्त्वो को जानने से भी पूर्ण समर्थ होते है। वे अपने योगबल से अप्राप्त विषयो का भी ज्ञान प्राप्त कर लेते है। ऎसे पुरुष जो बात कहे, उसे प्रमाणित माना जाता है; इसलिये सूत्रकार ने आप्त जनो के उपदेश को शब्द प्रमाण कहा है। 8 - आप्त शब्द के भी दो भेद हैं - दृष्ट और अदृष्ट। जो विषय प्रत्यक्ष दिखाई देता हों, उसके सम्बन्ध में कहा गया शब्द 'दृष्ट' कहा गया है। जिस विषय को अनुमान से बताया गया हो, उसे अदृष्ट शब्द कहा गया है जैसे कोई कहे कि पुत्र की कामना वाला पुरुष यग्य करे, इसमें यग्य करने से उसके फल रूप पुत्र का उत्पन्न होना नेत्र से प्रत्यक्ष दिखाई देगा। परन्तु यदि कहा जाय कि 'स्वर्ग की कामना वाला पुरुष यग्य करे' तो यग्य द्वारा स्वर्ग की प्राप्ति को देख पाना इस शरीर से सम्भव नहीं है। इसलिये इसे अदृष्ट शब्द कहा गया है। अब अगले सूत्र का विवेचन करेंगे। 9- आत्मा, शरीर आदि बारह प्रकार के प्रमेह बताये है। परन्तु यथार्थ रूप मे जिसके ज्ञान से मोक्ष की प्राप्ति हो, और जिसके ज्ञान से विपरीतता होने मे बन्धन की प्राप्ति हो वही प्रमेह है। जैसे - आत्मा और परमात्मा, इस प्रकार आत्मा के दो भेद है, इन्मे परमात्मा तो निर्लिप्त और आत्मा अपने कर्म का फल भोगने वाला है। इन कर्मो के फल को भोगने के साधन इन्द्रियो से सब पदार्थ इन्द्रियो के विषय है। इनका अनुभव इन्द्रियो से ही होता है। परन्तु इन्द्रियो से सब पदार्थो का ज्ञान नही होता इसलिये परोक्ष पदार्थो का ज्ञान करने वाला मन है। मन मे राग और द्वेष दो प्रकार के भावो की उत्पत्ति होती रहती है। यह दोनो दोष है, जिसमे पदार्थो को त्यागने और ग्रहण की प्रवृत्ति होती रहती है। जन्म्-मरण प्रेत्यभाव है और अच्छे या बुरे कर्मो से दुख और अच्छे कर्मो से सुख की प्राप्ति होती है। अत्यधिक सुख की प्राप्ति ही मोक्ष है, जिसमे दुख का अत्यन्त अभाव हो जाता है। अब अगले सूत्र मे आत्मा का लक्षण कहते है। 10- आत्मा के लक्षण है - (1) इच्छा - जिस वस्तु से पहले सुख मिला, उसी वस्तु की प्राप्ति का विचार इच्छा कहलाता है। (2) द्वेष - जिस वस्तु से पहले कष्ट प्राप्त हो, उस वस्तु को देखकर उससे बचने का विचार द्वेष कहलाता है। (3) प्रयत्न - दु:ख के कारणो को दूर करने और सुख के कारणो को प्राप्त करने वाले कार्य को प्रयत्न कहते है। (4) सुख - जो शरीर को कष्ट वह सुख है। (5) दु:ख - जिसकी प्राप्ति से शरीर को कष्ट हो दु:ख कहलाता है। (6) ज्ञान - आत्मा या देह के अनुकूल पदार्थो को जानना ज्ञान कहलाता है। (6) ज्ञान - आत्मा या देह के अनुकूल पदार्थो का जानना ही ज्ञान है। अब शरीर का विवेचन करते है। 11- जीव को अपने प्रारब्ध कर्म का भोग करने के लिये जन्म धारण करना होता है। सुख और दु:ख की प्राप्ति भोग कहा गया है और जिस आधार मे रह कर आत्मा उस भोग को प्राप्त कर सके, वह आधार ही शरीर है। अब इन्द्रिय का लक्षण तथा भेद कहा जाता है। 12- पान्चो इन्द्रिया पन्चभूतो से बनी है। ये इन्द्रिया ही शरीर के आश्रित आत्मा को विभिन्न विष्यो का ग्रहण करती है। घ्राण अर्थात नासिका का कार्य सूचना और गन्ध ग्रहण करना है, रसना अर्थात जिह्वा खाद्य पदार्थ का स्वाद ग्रहण करती है। नेत्र उपस्थित दृष्य का अवलोकन करते है। त्वचा से स्पर्श की अनुभूति है। श्रोत अर्थात कान शब्द को ग्रहण करते है। इस प्रकार ये पान्चो इन्द्रिया आत्मा को गन्ध, रस, दृष्य, स्पर्श, शब्द का ज्ञान करवाती है। 13- ये पान्चो भूत परस्पर समन्वय - सम्बन्ध अर्थात सन्युक्त रूप से रहते है। ये पन्चभूत बाह्य इन्द्रियो से प्रत्यक्ष होकर आत्मा को अपने - अपने गुण का ज्ञान कराने मे समर्थ है। अब भूतो के गुणो का वर्णन करते है। 14 - पान्च भूतो के पान्च गुण है। पृ्थ्वी का गुण गन्ध है, जल गुण रस, अग्नि का गुण रूप, वायु का गुण स्पर्श और आकाश का गुण शब्द है। ये पान्च गुण ज्ञानेन्द्रियो के विषय है - नासिका का विषय गन्ध, जिह्वा का रस, नेत्र का रूप, त्वचा का विषय स्पर्श और कान का विषय शब्द है। अब अगले सूत्र मे बुद्धि का निरुपण किया जायेगा। 15- बुद्धि, उपलब्धि और ज्ञान इन तीनो के अर्थ मे कोइ अन्तर नही है। घट है, यह पट है इस प्रकार का ज्ञान कराने वाली वृत्ति बुद्धि का धर्म है और इन सबको ज्ञान कहा जाता है। इस घडे को जानता हू इस प्रकार का बोध 'उपलब्धि' है। इससे सिद्ध होता है कि बुद्धि और उपलब्धि का ज्ञान मे कोइ भेद नही है। अब मन का लक्षण कहते है। 16- आत्मा की प्रेरणा से ज्ञानेन्द्रियो या कर्मेन्द्रियो का सम्बन्ध रूप, रस, गन्ध आदि गुणो के साथ समान ज्ञान होना ही विषय ज्ञान है। तात्पर्य यह है कि मन को एक समय मे दो ज्ञान नही हो सकते। जब गन्ध का ज्ञान होगा, तब अन्य गुणो का नही होगा। रूप का होगा तब गन्ध आदि का नही होगा। इस प्रकार एक समय मे एक विषय का ज्ञान होना मन का लक्षण है। अब प्रवृत्ति का लक्षण कहते है। 17- इच्छा पूर्वक होने वाले शरीर आदि कार्यो की प्रवृत्ति जनक समझनी चाहिये। क्योन्कि यह कार्य मन, वाणी दोनो के सन्योग से होने वाला कर्म वाचिक है तथा मन, इन्द्रिया और शरीर के सन्योग से जो कार्य होता है, वह शारीरिक कहा गया है। जिस कर्म का फल सुख रूप हो, वह पुण्य कर्म है और जिसका फल दुख रूप हो उसे पाप कर्म समझना चाहिये। इस प्रकार पुण्य और पाप भेद वाली दश वृत्तिया होती है। अब दोष का विचार करेन्गे। 18- धर्म या अधर्म के हेतु प्रवृत्ति का होना दोष है अर्थात जिस प्रवृत्ति से धर्म या अधर्म कार्य की सिद्धि होती है, उसे दोष मानना चाहिये। प्रवृत्ति के कारण रूप, राग, द्वेष और मोह है। इनके होने पर ही धर्म या अधर्म कार्यो मे प्रवृत्ति होती है। 19- एक शरीर को छोडकर दूसरे शरीर मे जन्म प्रेत्यभाव है। पुनर्जन्म या पुनरूत्पति पर्यायवाची शब्द है। शरीर से इन्द्रिय और मन का सम्बन्ध टूट जाने को प्रेत कहते है। पुन: जन्म लेने को प्रेत्यभाव अर्थात मर कर जन्म लेना कहते है। तात्पर्य यह है कि सूक्षम शरीर सहित जीवात्मा का शरीर से निकलना प्रयाण है और प्रयाण करने वाले को प्रेत कहते है। उस प्रेत का दूसरे शरीर से सम्बन्ध हो जाना प्रेत्यभाव है। अब फल का निरूपण करते है। 20- सुख या दु:ख की प्राप्ति को ही फल कहते है। इसकी उत्पत्ति प्रवृत्ति और दोष से होती है। धार्मिक प्रवृत्ति से किया गया कार्य सुखकारक और अधार्मिक प्रवृत्ति वाला कार्य दु:ख उत्पन्न करने वाला होता है। 21- मन जिस किसी वस्तु को प्राप्त करना चाहता है और वह वस्तु न मिले तो उससे दुख होता है। अब मोक्ष का निरुपण करते है। 22- दु:ख तीन प्रकार के होते है आध्यात्मिक, आधिभौतिक, आधिदैविक। इन तीन प्रकार के दु:खो से छुट्कारा तभी हो सकता है जब जन्म्-मरण का चक्र समाप्त हो जाये। और यह चक्र तब समाप्त होगा जब कि प्रारब्ध कर्मो का क्षय हो। कुछ लोग शन्का करते है कि सुषुप्ति को ही मुक्ति क्यो न मान ले? क्योन्कि उसमे भी दु:ख की निवृत्ति हो जाती है इसका समाधान यह है कि सुषुप्ति मे दु:खो की निवृत्ति हो जाती है। तो इसका समाधान यह है कि सुषुप्ति मे दु:खो का आधार सूक्ष्म शरीर विद्यमान रहा है। मुक्तावस्था मे सूक्षम शरीर भी नही रहता। अब सन्शय का विवेचन करते है।

.... SHIVOHAM.....