Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

WHAT IS THE IMPORTANCE OF KAUDI?


आईए जानें कैसे दो कौड़ी के रोडपति से करोड़पति बना जा सकता है- 1. महालक्ष्मी पर चढ़े व अभिमंत्रित कमलगट्टे, कौड़ियां, गोमती चक्र, मोती शंख व काली हल्दी गुलाबी कपड़े में बांधकर घर की उत्तरपश्चिम दिशा में छुपाकर रखें। 2. समृद्धि हेतु शुभ महूर्त में महालक्ष्मी का पूजन कर लाल कपड़े में बंधी 2 अलग अलग पीली कौड़ियां देवी पर चढाएं एक तिजोरी में रखें व दूसरी पर्स में रखें। 3. अटूट धन प्राप्ति हेतु दीपावली की रात्री महालक्ष्मी का षोडशोपचार पूजन कर केसर से रंगी कौड़ियां समर्पित कर पीले कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखें। 4. धन कुबेर की प्रसन्नता हेतु किसी श्रवण माह के सोमवार को 12 पीली कौड़ियां हरे कपड़े में बांधकर घर की उत्तर दिशा में छुपाकर रखें। 5. व्यवसायिक सफलता हेतु शरद पूर्णिमा की रात्री महालक्ष्मी का विधिवत पूजन कर 11 पीली कौडियों को चढ़ाकर ऑफिस में स्थापित करें। 6. गुप्त नवरात्र की अष्टमी के महूर्त में पूजा घर में 27 कौड़ियां स्थापित करें इससे हर दिन (नक्षत्र) में घर में लक्ष्मी का वास होता है। 7. नौकरी में सफलता हेतु शुक्रवार के दिन शुभ महूर्त में महालक्ष्मी पर चढ़ी कौड़ियां गुलाबी धागे में पिरोकर कलाई में पहने। 8. जादू टोने से बचने हेतु छिन्नमस्ता बीज से अभिमंत्रित 8 कौड़ियां काले धागे में पिरोकर धारण करें। 9. कार्य सिद्धि हेतु अक्षय तृतीया पर अभिमंत्रित 3 कौड़ियां मौली में बांधकर बाजू में धारण करें। घर में #कौड़ियां रखना बेहद #शुभ होता है किसी #शुभकाल में 11 धनदायक कौड़ियों को #हल्दी से रंगकर पीले #वस्त्र में बांधकर #धन रखने के स्थान पर रखने से #आर्थिक स्थिति में स्थिरता बनी रहती है। मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहें, इसके लिए #धनतेरस के दिन #चांदी की डिब्बी में 5 धनकारक कौड़ियां, कचनार के पत्ते व #शहद के रखने से मां लक्ष्मी व #कुबेर जी कृपा बनी रहती है। यदि आपके #व्यापार पर किसी ने #तान्त्रिक क्रिया करवा रखी है, तो #होली की रात्रि में जिस स्थान पर #होलिका दहन हो उस स्थान पर एक गडडा कर उसमें 11 अभिमंत्रित धनदायक कौड़ियां दबा दें। दूसरे दिन सुबह कौड़ियां निकालकर #व्यवसाय स्थल की मिट्टी के साथ नीले वस्त्र में बांधकर बहते हुये जल में प्रवाहित कर दें। यह क्रिया करने से व्यवसाय का बन्धन हट जायेगा एंव प्रगति होने लगेगी। यदि कोई #व्यक्ति काफी समय से रोगग्रस्त है और #स्वस्थ्य नहीं हो रहा है। तो वह प्रथम सोमवार को सफेद वस्त्र में 3 अभिमंत्रित गोमती चक्र, 11 नागकेसर के जोड़े व 7 धनदायक कौड़ियां बांधकर कपड़ें पर #हरसिंगार का #इत्र लगाकर व्यक्ति के उपर से 9 बार उतार कर किसी #शिव #मन्दिर में अर्पित कर दें। लाभ अवश्य मिलेगा। यदि आप कोई #साक्षात्कार देने जा रहें है, तो 5 अभिमंत्रित कोडि़यों पर हल्दी का #तिलकलगाकर उपने उपर से 7 बार उतार कर किसी हरिजन को 21 रूपये के साथ दे दें। आपको #सफलता अवश्य प्राप्त होगी। अभिमंत्रित कौड़ी में छेद कर #बच्चे के गलें में काले धागे के साथ धारण करवाने से बच्चा सदैव बुरी नजर व उपरी हवा से बचा रहता है।

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

एक समुद्री जीव के शरीर का ठोस आवरण कौड़ी कहलाता है। एक समय में इसका व्यापक प्रयोग मुद्रा के चलन के रूप में होता था। समय के साथ-साथ मुद्रा का रूप-रंग बदलता चला गया। तीन-चार दशक पूर्व तक इसका चलन चौसर, चौपड़ आदि खेलों में पासे के रूप में खूब होता था। बच्चों को कौड़ी से खेलते हुए प्रायः देखा जाता था। जीवों के संरक्षण नियमों के कारण धीरे-धीरे कौड़ी आज प्रायः दुर्लभ हो गयी । तंत्र में हो रहे व्यापक प्रयोग के कारण भी अच्छी श्रेणी की कौड़ी की न्यूनता होने लगी। तथापि् सौभाग्य से उच्च श्रेणी की कौड़ियाँ सुलभ हो जाएं तो आप भी सरल उपायों द्वारा लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

शास्त्रों के अनुसार कौड़ी के विषय में यह मान्यता है कि लक्ष्मी और कौड़ी दोनों सगी बहने है। कौड़ी धारणकर्ता की माँ के रूप में रक्षा करती है। बुरी नजर व संकटो से बचाने की इसमे अदभुत क्षमता होती है।वास्तु शास्त्र के अनुसार भवन निर्माण करते समय छत प