Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

DIWALI VASTU


Garden bursting with colourful flowers, homes filled with mouth-watering delicacies, fireworks light up the sky, streets decorated with oil clay diyas and colourful rangolis made on the floors reflect the richness of togetherness, memories and connection to our Indian roots.

On this occasion of Diwali, decorate your home the vastu way as it doesn’t burn a hole in your pocket. You never know that even the slightest of changes could do the trick for you! The word Dhan means wealth and Terasmeans 13th day as per the Hindu calendar. ... Deepawali/Diwali, the Festival of Lights, Diyas and Crackers is celebrated by one ... The purpose of any puja or prayer is to first connect with your ... oceans, the Kamdhenu Cow was one of the 14 gems that was received. Make your Diwali Special with the following simple Vastu Tips: Secret Vastu Way to become Rich Gift yourself and your dear ones an idol of Kuber Ji and place it in the North zone.

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

DIWALI PUJAN ;-

1-The West zone is considered to be an ideal zone to worship Goddess Lakshmi in your house.

2-

;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;

Rangoli Colours For rangoli, use purple, green, red, orange and pink colours in the South or in the South-South-East vastu zones.

Family Photographs To increase family affection and bonding, place all your family photographs in the South-West vastu zone. Remove all sharp objects and Green plants from home.

Right Placement for Cleaning Items

Old tins of paints, dustbins, brooms and other cleaning items should be kept in the South-South-West zone.

Balancing is Must!

The North-East vastu zone must be clean, free of clutter and mainly painted in blue and white colours.

Diwali Gifts All the Diwali gifts should be kept in the East zone to improve all kinds of social associations. Plant Decoration A branch of a money plant in a newly bought blue flower vase kept in the North zone will attract new career opportunities.

It is believed that if we worship Goddess Laxmi in the right vastu way, it could help bring prosperity, luck and good fortune in our lives.

Make this Diwali special for you with these Vastu Tips:

Ideal Zone to Worship Goddess Lakshmi Place an idol of Goddess Lakshmi in the West vastu zone. Keep silver statues and coins of Goddess Lakshmi and Lord Ganesha in the West zone for more wealth and happiness.

Caution: Never place an Idol of Lakshmi in the South-West zone of your home.

Perfect Gift this Diwali kuber

Gift yourself and your dear ones an idol of Kuber Ji and keep it in the North zone.

Social Connectivity with Diwali Gifts Improve social connections with Diwali gifts in the East zone of your home.

Avoid the Red Colour Avoid Red coloured items in the puja room of your house.

Select the Right Painting

While buying painting for decorative purposes, hang a painting of a Lush Green landscape on the Northern wall of your house.

Make Rangoli the Vastu Way. diwali-rangoli

Select Red, Green, Orange, Purple, Pink, Cream and Yellow colours for making rangolis in your homes.This Diwali, attract health, wealth & happiness the vastu way!

!! Happy & Safe Diwali!! ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;. 5 VASTU WAYS TO CREATE AURA Have you ever felt the need to create the right aura in your living space? If, yes, then let your ambience speak for you! It’s high time when you need to take out the old stagnant energy to bring out a new one. This not only helps to peer through a new perspective, but also paves the way to create more mental clarity & wisdom.

The functionality of your home plays a vital role because your house is not only about décor and style, but also means to promote the health values, money interaction, healthy relationships and other necessary domains to focus on.

MahaVastu brings you a list of interior objects with their right placements:

1. Churning with Washing Machine -Washing Machine is known to be the symbol of purification. The East-South-East is an ideal zone for the placement of washing machine as, it is the zone of churning & analysis.

MahaVastu Tip - Never keep a washing machine in the South zone because it is the zone of Sleep and Relaxation and placing a washing machine in this zone leads to inner conflicts and struggles.

2. Placement of Bed/s - As per Vastu Shastra, each member of the family should sleep in the North or South zone with their heads in the respective directions.

3. Deal with your Dustbin - According to the principles of vastu, the dustbin should be placed in the South-South-West, East-South-East and the West-North-West zones of your house.

4. Splurge on Sofa but in the Right Direction - The East is the ideal zone for placing a sofa set, as we can utilise this area for social gatherings. As per the science of vastu, all the family discussions should be done sitting in the North-East zone.

5. Television – This is one of the prime sources of entertainment & fun. Hence, when kept in the East-North-East zone, it infuses lots of fun and happiness in one’s life. However, avoid placing it in the South-South-West vastu zone of expenditure & wastage, as it results in losses. ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;; 5 VASTU WAYS TO DOUBLE UP MONEY Do you know the importance of flowers in your life? The presence of flowers plays a vital role in your life as it helps in getting you prosperity.

Flowers are symbolical of growth, happiness, regeneration, recreation, and eternal hope. The fragrance of the flowers connects you to your spiritual Self and align the transcendental energy into its stabilizing state.

Following are a few MahaVastu Tips to Attract Positivity in Your Life: 1-Change Your Actions into Money - Place fresh flowers in the North zone of your home/office to attract new opportunities in your career and make money. 2-Strengthen Your Relationships – Keep red flowers in a green vase in the South-East vastu zone of Cash. 3-Bag Big Orders - Put flowers of different colours in a blue vase in the North zone of your house/office. 4-Attract More Wealth - Keep a yellow flower vase in the South-South-West zone of Disposal. ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;; अलकेमिस्ट कृष्ण: कर्म व फल का पंचतत्व सिद्धांत Alchemist Krishna on Panchtattva theory of Karma and Phal कर्म क्या है? कर्म ही पाप और पुण्य का फल देता है। कर्म ही हमें बांधता है स्वर्ग की लालसा में और कर्म ही हमें नरक में जाने का डर पैदा करता है। मानसिक द्वंद्व के इस दलदल में लोग फंसे हुए हैं। जैसे रण क्षेत्र में अर्जुन खुद को फंसा हुआ पाता है।

कृष्ण की दृष्टि में कर्म पंचतत्वों का संतुलन है, जो एक तत्व से दूसरे तत्वों में रूपांतरित होता है। एक अलकेमिस्ट ही पांचों तत्त्वों के संतुलन के बारे में बता सकता है, जैसा उन्होंने गीता में कहा है -

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।

मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते संगोऽस्त्वकर्मणि।।

कृष्ण आखिर इसमें क्या कह रहे हैं? इस बारे में वास्तुशास्त्री खुशदीप बंसल कहते हैं, ''ज्यादातर लोग गीता के इस खूबसूरत कथन का गलत अर्थ समझते हैं। गलत अर्थ है, 'अपना कार्य करो और फल की उम्मीद छोड़ दो। नहीं, मैं इस खूबसूरत कथन के इस अनुवाद से सहमत नहीं हूं।'' भगवत गीता में कृष्ण के कहे गए इस उल्लेख की व्याख्या करते हुए वास्तुशास्त्री कहते हैं, ''इस भौतिक संसार में कोई भी कर्म किसी न किसी इच्छित परिणाम को सामने रख कर ही किया जा सकता है। श्रीकृष्ण, जो स्वयं ईश्वर हैं, ऐसा अव्यावहारिक उपदेश दे ही नहीं सकते।''

माकर्मफलहेतुर्भूर्मा ते संगोऽस्त्वकर्मणि

कृष्ण कहते हैं, कर्म के फल के लिए मैं हमेशा कर्म के साथ हूं। वह स्पेस जो संतुलन को बनाए हुए है; उसके लिए मैं यानी कृष्ण हूं। कृष्ण यहां नियंत्रण सिद्धान्त के बारे में बात कर रहें हैं और यह नियंत्रण पंचतत्वों के माध्यम से हो रहा है।

एक अलकेमिस्ट अर्जुन से कह रहा है- तुम यह करो और बाकी सभी कुछ अपने आप होगा। तुम यहां हो उसके पीछे एक प्रयोजन है। तुम्हारे कर्म पहले से तय हैं, परंतु जिस क्षण तुमने फल पर ध्यान केन्द्रित किया, उसी क्षण वह खत्म हो गया। फल के संबंध में कृष्ण कहते हैं ''फलस्वरूप क्या होगा यह मुझ पर छोड़ दो, मुझ पर विश्वास करो क्योंकि वही होगा जो मैं चाहूंगा, लेकिन तुम इस पर ध्यान मत दो।''

वास्तुशास्त्री खुशदीप बंसल कहते हैं, ''यह बात बड़ी महत्वपूर्ण है कि पंचतत्व हमारे कर्म व फल, हमारे निवास स्थान, जीवन प्रयोजन सभी जगहों पर मौजूद हैं और यही आकाशीय अलकेमी हमारे जीवन को संचालित कर रही है।''

देवी लक्ष्मी को धन, समृद्धि और ऐश्वर्य की देवी कहा जाता है। कहा जाता है कि इनकी पूजा विधि पूर्वक करने से घर में कभी धन की कमी नहीं रहती है। इस साल 19 अक्तूबर को

दीपावली है, जिस दिन महालक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस दिन अपने घर, दफ्तर, दुकान, फैक्ट्री वगैरह में दीप जलाकर रोशनी करें। फिर विधिपूर्वक वास्तु सम्मत मां लक्ष्मी की पूजा इस तरह करें।

वास्तु की दृष्टि से महालक्ष्मी का चित्र उत्तर दिशा, पश्चिम दिशा या पूर्व-दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाने से धन, यश एवं सौंदर्य की प्राप्ति होती है। मां लक्ष्मी का ध्यान इस तरह करें- गुलाबी रंग के कमल फूल पर आसीन, कांतिमय, रेशमी वस्त्र धारण किए हुए, चार सफेद हाथी अपनी सूड़ों से अमृत कलश से अभिषेक कर रहे हैं। चारों हाथों में वरमुद्रा, अभयमुद्रा और दो कमल धारण किए हुए हैं। गरुड़ आसन एवं ऐरावत पर लक्ष्मी विराजमान हैं। मां लक्ष्मी की उत्पत्ति समुद्र मंथन में चौहद रत्नों में हुई थी। भगवान विष्णु की पत्नी देवी लक्ष्मी पालन-पोषण में सहायक एवं सुचारु व्यवस्था की अधिष्ठ देवी होने के साथ ही धन, यश एवं सौंदर्य प्रदान करती हैं। मां लक्ष्मी के प्रतीकात्मक ध्यान के साथ रहस्यमय संदेश भी आत्मसात करने चाहिए। छह पत्तियों वाली गुलाबी कमल छह संपत्ति के प्रतीक हैं-शांत मन, संयम, उर्ध्वचेतना, विश्वास, केंद्रित मन एवं सक्षमता। जबकि चारों गजराज सभी दिशाओं की शक्तियों के दोहन की क्षमता को इंगित करती हैं। मां लक्ष्मी के रेशमी वस्त्र सहजता एवं सार्थक जीवन का प्रतीक है। भगवान विष्णु की पत्नी होना इस बात का भी प्रतीक है कि पालनकर्ता की जिम्मेवारी का वहन करने पुरुष को मां का सदैव आशीर्वाद प्राप्त होता है। मां के ध्यान एवं संदेश को आत्मसात करने से ऐश्वर्य, सौभाग्य, धन व पुत्र आदि की प्राप्ति होती है।