Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

विज्ञान भैरव तंत्र की ध्यान संबंधित 28 वीं विधि (अचानक रूकने की पाँच विधियां)का क्या विवेचनहै?


विज्ञान भैरव तंत्र की ध्यान विधि 28;-

(अचानक रूकने की पहली विधि ) 12 FACTS;- 1-भगवान शिव कहते है:- ''कल्पना करो कि तुम धीरे-धीरे शक्ति या ज्ञान से वंचित किए जा रहे हो।वंचित किए जाने के क्षण में अतिक्रमण करो।'' 2-इस विधि का प्रयोग किसी यथार्थ स्थिति में भी किया जा सकता है और तुम ऐसी स्थिति की कल्पना भी कर सकते हो। उदाहरण के लिए लेट जाओ, शिथिल हो जाओ और भाव करो कि तुम्हारा शरीर मर रहा है। आंखें बंद कर लो और भाव करो कि मैं मर रहा हूं।जल्दी ही तुम महसूस करोगे कि मेरा शरीर भारी हो रहा है।भाव करो.. ‘मैं मर रहा हूं, मैं मर रहा हूं, मैं मर रहा हूं।''अगर भाव प्रामाणिक है तो तुम्हारा शरीर भारी होने लगेगा। तुम्हें महसूस होगा कि मेरा शरीर पत्थर जैसा हो गया है। तुम अपने हाथ हिलाना चाहोगे। लेकिन हिला नहीं पाओगे, क्योंकि वह इतना भारी और मुर्दा हो गया है।भाव किए जाओ कि ''मैं मर रहा हूं। मैं मर रहा हूं, मैं मर रहा हूं''।और जब तुम्हें मालूम हो कि अब वह क्ष