Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

WHAT IS THE SIGNIFICANCE OF KAURI IN WORSHIP?(IN HINDI ALSO)MISCELLANEOUS...09


1-Lakshmi is considered as the presiding deity of money. People believe that if they worship Lakshmi appropriately, they will invite more money to them. 2-According to Tantric Shastra, there are certain items that you should keep in your house to eradicate finance related doshas.It is believed that keeping the ‘Lakshmi kauri’ at the place where you keep your money will ensure that Lakshmi (wealth) stays there. 3-As per Tantra shashtras if you keep these things at your home, you will never face any financial crunch. If you worship correctly, even keeping one among these 11 can attract wealth and prosperity. 1-Shri Yantra 2-Hatha jodi 3-Moti Shankh 4-Lakshmi kauri 5-Gomti Chakra;--Gomti Chakra is found in gomti River in Dwarka, a part of Gujarat in India. Gomti Chakra is also known as Sudarshan Chakra as it resembles the divine weapon of Lord Krishna - the Sudarshan Chakra. If you keep 11 Gomti chakra in yellow clothes in your safe you will always be financially strong. 6-Aakde roots 7-Ekakshi nariyal (one-eyed coconut) 8-Dakshinavarti shankh 9-Laghu Nariyal (Small Coconut) 10-Kamal gatta 11-White Laxmi Kauri IMPORTANCE OF KAURI;---- There are three types of Kauri , viz. 1-WHITE LAKSHMI KAURI 2- BLACK KAURI 3-YELLOW KAURI 1-WHITE LAKSHMI KAURI;-- A- The ‘Lakshmi kauri’, according to Vaastu Shastra should be placed there at the right time. The time is crucial for the right results. On Friday, tie these yellow kauris in red clothe and keep them in tijori. B-Keeping Laxmi Kauri in your house or workplace helps to fetch the grace of Goddess Laxmi. Not only for pleasing goddess Laxmi but it also attracts Baglamukhi Devi. ROLE OF LAKSHMI KAURI 1-You buy it any auspicious Muhurat and worship it in Bhram Muhurat. You just need to buy 2 Laxmi Kauri. 2-Worshipping Laxmi Kauri diminishes all kind of financial problems. 3-You must place one Kauri at home and another one keep in your pocket. 4-You must keep in mind that you must not perform bad activities after keeping one kauri in your pocket otherwise you will not get positive results. 5-You must wrap Laxmi Kauri in red or yellow clothes. BENEFIT OF LAKSHMI KAURI 1-If you have been suffering from the malefic effects of the planet especially Jupiter, then you must carry Laxmi kauri as it not only balance but diminish the bad effects too. 2-This product is widely popular for flowing the wealth in life. It enhances the sourced of money to the devotee's house. 3-You can place Laxmi kauri in your case box too as it grab the prosperity. It balance's the bad effects of Jupiter&Promotes the flow of wealth in life. 2- BLACK KAURI;--- 10 FACTS;-- 2-1-Black Cowrie shell is of great significance in the worship of Goddess Maha Kaali ji and Lord Bhairav ji. 2-2-Black Kaudi helps protect from negative energies of black magic and relieves the native from the clutches of tantra. 2-3-Black Kaudi is also used during the pooja of the Das-Mahavidyaa Ten Supreme forms of the mother Goddess. 2-4-Many spiritual and tantrik pooja processes are completed successfully with the aid of Black Cowrie. 2-5-In Astrology, Black Kaudi is used to balance the planetary effect of Saturn and the malefic effects of Ketu and Rahu. 2-6-Keeping 11 Black Kaudi peeli kawdi in one's pooja place or altar bestows the blessings of Goddess Maha Kaali. 2-7-On the auspicious occassion of Diwali night and every Amawasya, Black Kaudi must be kept at pooja place after wrapping in black cloth. This ensures protection from spirits and blck magic. 2-8-People suffering from chronic diseases and the problem of mental depression get a significant relief when Black Kaudi is kept in the South West of their room. Important points for the usage of Black Kaudi or Kaali Kowdi : 2-9-Black Cowrie or Kaali Kauwdi or Black Kawdi may be used in multiples of 8 i.e. 8, 16, 24, 32 and so on. 2-10-Black Kaudi must be wrapped in a black cloth to get the fullest benefits. Ensure that the black kaudi has smooth edges and is not broken on the sides. NOTE;-Black kowdi with a ridge like structure on the smooth side are considered more auspicious than those kaudi which are smooth. 3-YELLOW KAURI;--- 1-Yellow Kaudi or Peeli Kowdi or Yellow Cowrie shell is of great significance in the worship of Goddess Mahalaxmi and Lord Vishnu. 2-Yellow Kaudi is also used during the pooja of Goddess Baglamukhi. 3-Many spiritual and tantrik pooja processes are completed successfully with the aid of Yellow Cowrie. 4-In Astrology, Yellow Kaudi is used to balance the planetary effect of Jupiter and the malefic effects of Ketu and Rahu. 5-Keeping 11 Yellow Kaudi peeli kawdi in one's place of wealth bestows the blessings of Lord Kuber and goddess Lakshmi. 6-On the auspicious occassion of Dhanteras and Akshay Triteeya, Yellow Kaudi must be kept at pooja place after wrapping in yellow cloth. This ensures a smooth flow of money in the family. 7-People suffering from minimal savings despite good earnings must keep 21 pieces of Yellow Cowrie kaudi in the north-west part of their room. 8-Yellow Cowrie or Peeli Kauwdi or Yellow Kawdi must always be used in odd numbers i.e. 1,3,5,7,9 or 11 and so on. 9-Yellow Kaudi must be wrapped in a yellow cloth to get the fullest benefits. NOTE;-- Ensure that the yellow kaudi has smooth edges and is not broken on the sides. Yellow kowdi with a ridge like structure on the smooth side are considered more auspicious than those kaudi which are smooth. 4-Kaudi Shankh /Kaudi Conch;-- Kaudi Conch is highly beneficial for success in every task in life. It is considered to be one of the most powerful conches that carry wealth, good luck and prosperity. A Kaudi Conch is an essential part of marriage attire. It brings financial prosperity and good fortune. IN HINDI;-- 1-शास्त्रों के अनुसार कौड़ी के विषय में यह मान्यता है कि लक्ष्मी और कौड़ी दोनों सगी बहने है। कौड़ी धारणकर्ता की माँ के रूप में रक्षा करती है। बुरी नजर व संकटो से बचाने की इसमे अदभुत क्षमता होती है। 2-वास्तु शास्त्र के अनुसार भवन निर्माण करते समय छत पर पहले कौड़ी डाली जाती है। फिर दरवाजे की चौखट के साथ भी सबसे पहले कौड़ियाँ ही बाँधी जाती है। 3-कौड़ी विश्वास का प्रतीक है और इसकी अनेक धार्मिक मान्यताएं भी है। 4-छोटे बच्चों के कंठुले में कौड़ी बांधी जाती है ताकि उसे नजर ना लगे। 5-विवाह के समय वर तथा वधु के हाथ में जो कंकण बांधे जाते है, कौड़ी उसमे अवश्य होती है। 6-भारत के दक्षिण क्षेत्रों में विवाह के समय जो संदूक दिया जाता है उसमे एक कौड़ी अवश्य डाली जाती है। ऐसा विश्वास है कि वधु की माँ के रूप में उसे हमेशा मान-सम्मान तथा संतुष्टि दिलाए। अनेक क्षेत्रों में लक्ष्मी का श्रृंगार कौड़ियों से किया जाता है। कौड़ीओं का प्रयोग केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशो में भी किया जाता है। यूनान की देवी वीनस को प्रसन्न करने के लिए वहां के निवासी उस पर कौड़ी ही अर्पण करते है। 7-वाहन में कौड़ी रखने से ऐसा माना जाता है कि वाहन के स्वामी को वाहन के माध्यम से धन व समृद्धि प्राप्त होगी तथा वाहन दुर्घटना से भी बचा रहता है। 8-सड़क पर पड़ी हुई कौड़ी मिलना बहुत शुभ माना जाता है। ऐसी कौड़ी को संभाल कर घर में रखने से बरकत में वृद्धि होती है। 9-इसे श्री हनुमान जी के सिन्दूर से साफ़ व स्वच्छ करने के बाद प्रयोग में लाना चाहिए। वाहन को बुरी नजर से बचाने के लिए कौड़ी को वाहन में सफ़ेद या काले धागे में बाँध कर सुविधा अनुसार कही भी लटका दें। 10-वास्तु दोष के निवारण के लिए इसे दरवाजे पर लटकाया जाता है। घर में आर्थिक सम्पन्नता के लिए इसे अपने धन स्थान पर रखे अथवा घर की उत्तर दिशा में लटका सकते है। 11-यह ध्यान रखे कि कौड़ी हमेशा तीन या पांच या फिर नौ की संख्या में ही प्रयोग में लानी चाहिए। 12-समृद्धिदायक कौड़ी - Prosperous cowrie कौड़ी भगवान शिव के वाहन नंदी को प्रिय है। इसमें भगवान शिव का वास माना जाता है। .। इसके स्पर्श एवं उपयोग से अनेक पापों से छुटकारा मिलता है। इससे दीर्घायु एवं स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। इसे घर में रखने से किसी को नजर दोष नहीं लगता है। 13-कौड़ी के उपयोग से स्नायु रोग, स्त्रियों के रोग, गले के रोग, रक्तचाप, मिरगी, दमा, नेत्र रोग, सिर दर्द आदि कई बीमारियों में लाभ होता है। श्रद्धा-भक्ति से धारण की गई कौड़ी सभी मनोकामनाएं पूरी करती है। 14-कौड़ी., कौड़ी का ब्रेसलेट धारण करने से जातक को शांति और आनंद की प्राप्ति होती है।यदि बार-बार धनहानि एवं चोरी आदि की घटनाएं हो रही हों, तो दो कौड़ियां लाल वस्त्र में बांधकर शुक्रवार को तिजोरी में रखें। 15-ज्योतिष, तांत्रिक व पौराणिक शास्त्रों में कुछ ऐसी चमत्कारी वस्तुओं का वर्णन है, जिन्हें धन संबंधित विशेष माना जाता है। इन वस्तुओं से महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है व धन में बरकत होती है। यदि कौड़ी को पर्स में रखा जाए तो लक्ष्मी कृपा जल्दी ही प्राप्त होती है। 16-शास्त्रों के अनुसार यदि कोई व्यक्ति कौड़ी धारण करता है या अपने पास रखता है तो उस पर बुरी नजर का प्रभाव नहीं होता है। इसके साथ ही ऐसे लोगों पर महालक्ष्मी के साथ ही सभी देवी-देवताओं की विशेष कृपा प्राप्त होती है। उपयोग विधि:----- श्राद्ध, होलाष्टक, सूतक आदि के माह को छोड़ कर अन्य किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के प्रथम सप्ताह के सोमवार को, सूर्याेदय के समय, उपयोग से लाभ:---- 1-किसी भी असाध्य बीमारी में लाभ पाने के लिए निरंतर कौड़ी. धारण करें। 2-पुत्रादि प्राप्ति एवं उनके सुख के लिए इसे पूजा स्थल में स्थापित कर के शिव के समान पूजा-आराधना करने से लाभ होता है। और जादू, टोने टोटके आदि से छुटकारा मिलता है। यह विशेष तौर पर बच्चे के लिए अति शुभदायक है। 3-विद्यार्थियों अथवा बौद्धिक कार्यों से संबंधित जातकों को चाहिए कि इसे धारण कर सरस्वती का स्मरण, चिंतन करें इससे आश्चर्यजनक लाभ होगा और मन एकाग्रचित्त होगा। शुद्धता एवं सावधानी:--- समृद्धिदायक कौड़ी. की शुद्धता दीर्घ समय तक बनी रहे, इसके लिए जातक को निम्न मंत्र का जप करना चाहिए। ॐ श्रां श्रीं श्रौ सः चंद्रमसे नमः। समृद्धिदायक कौड़ी. को धारण कर के मृतक शरीर के पास, प्रसूति गृह आदि में नहीं जाना चाहिए। भूल से, या अन्य किसी कारण से ब्रे अशुद्ध हो जाने पर उसे पुनः श्रद्धापूर्वक गंगाजल एवं कच्चे दूध में धो कर, सामान्य पूजन के साथ धारण करें NOTE;-- THESE THINGS ARE IMPORTANT TO ATTRACT POSITIVE RAYS ;WHICH IS HELPFUL TO DEVELOP; BUT DON'T EXPECT MORE,& DON'T FORGET THAT' HARD WORK IS THE KEY TO SUCCESS.' ......SHIVOHAM....