Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

वास्तु मण्डल के 45 देवता- PART-01


वास्तु मण्डल के 45 देवता;-

ब्रह्म के नज़दीक 4 मुख्य देवता हैं,

1]-विवस्वान् 2]-मित्र3]-अर्यमा 4]-भूदार

मुख्य देवता के 2 उप देवता हैं,

1]-विवस्वान्

1-1-इंद्र

1-2-सावित्र

2]-मित्र

2-1- रुद्र

2-2-जय

3]-अर्यमा

3-1-आपवत्स

3-2-सविता

4]-भूदार

4-1-राजपक्ष्मा

4-2-अपा

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

मुख्य देवता के 2 उप देवता तथा 8 मण्डल देवता हैं....

1]-विवस्वान्

1- उप देवता- इंद्र

2- उप देवता -सावित्र

8 मण्डल देवता;-

1-अनिल 2- पूषा 3-वितथ 4-गृहतक्षत 5-यम 6-गन्धर्व 7-भृंगराज 8-मृग

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

2]-मित्र

1- उप देवता- रुद्र

2-उप देवता- जय

8 मण्डल देवता;-

1- पितृ 2-दौवारिक 3-सुग्रीव 4-पुष्पदंत 5-वरुण 6-असुर 7-शोशा8-पापयक्षमा

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

3]-अर्यमा

1- उप देवता-आपवत्स

2- उप देवता-सविता

8 मण्डल देवता;-

1-शिखी 2-पर्जन्य 3-जयंत 4-महेंद्र 5-सूर्य 6-सत्य 7-वृष 8-अंतरिक्ष

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

4]-भूदार

2-उप देवता-अपा क्ष्मा

2-उप देवता-अपा

8 मण्डल देवता;-

1-रोग 2-अहि 3-मुख्य 4-भल्लाट 5-सोम 6-भुजंग 7-अदिति 8-दिति

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

NOTE;-

इस प्रकार वास्तु मण्डल के 45 देवता हैं