Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—IN NUTSHELL

तंत्र सूत्र विधि—01-09 [श्‍वास-क्रिया से संबंधित नौ विधियां ]

भगवान शिव कहते है:-

तंत्र सूत्र विधि—01...FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

''हे देवी, यह अनुभव दो श्‍वासों के बीच घटित हो सकता है। जब श्‍वास भीतर अथवा नीचे को आती है उसके बाद फिर श्‍वास के लौटने के ठीक पूर्व—श्रेयस् (Superior)है। इन दो बिंदुओं के बीच होश पूर्ण होने से घटना घटती है''।

तंत्र सूत्र विधि—02..FOR WATER ELEMENT...भक्तियोग

''जब श्‍वास नीचे से ऊपर की और मुड़ती है, और फिर जब श्‍वास ऊपर से नीचे की और मुड़ती है—इन दो मोड़ों के द्वारा उपलब्‍ध हो''।

तंत्र सूत्र विधि—03...FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

''जब कभी अंत:श्‍वास और बहिर्श्‍वास एक दूसरे में विलीन होती है। उस क्षण में ऊर्जारहित, ऊर्जापूरित केंद्र को स्‍पर्श करों''।

तंत्र सूत्र विधि—04...FOR WATER ELEMENT... भक्तियोग

''या जब श्‍वास पूरी तरह बाहर गई है और स्वयं ठहरी है, या पूरी तरह भीतर आई है और ठहरी है—ऐसे जागतिक विराम के क्षण में व्‍यक्‍ति का क्षुद्र अहंकार विसर्जित हो जाता है। केवल अशुद्ध के लिए यह कठिन है''।

तंत्र सूत्र विधि—05...FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

''भृकुटियों के बीच अवधान को स्‍थिर कर विचार को मन के सामने करो।फिर सहस्‍त्रार तक रूप को श्‍वास-तत्‍व से, प्राण से भरने दो। वहां वह प्रकाश की तरह बरसेगा''।

तंत्र सूत्र विधि—06...FOR FIRE ELEMENT... कर्मयोग

''सांसारिक कामों में लगे हुए, अवधान को दो श्‍वासों के बीच टिकाओ। इस अभ्‍यास से थोड़े ही दिन में नया जन्‍म होगा''।

तंत्र सूत्र विधि—07...FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

''ललाट के मध्‍य में सूक्ष्‍म श्‍वास (प्राण) को टिकाओ।जब वह सोने के क्षण में ह्रदय तक पहुंचेगा तब स्‍वप्‍न और स्‍वयं मृत्‍यु पर अधिकार हो जाएगा''।

तंत्र सूत्र विधि—08...FOR WATER ELEMENT...भक्तियोग

''आत्‍यंतिक भक्‍ति पूर्वक श्‍वास के दो संधि-स्‍थलों पर केंद्रित होकर ज्ञाता को जान लो''।

तंत्र सूत्र विधि—09...FOR FIRE ELEMENT...कर्मयोग

'मृतवत लेटे रहो। क्रोध में क्षुब्‍ध होकर उसमे ठहरे रहो। या पुतलियों को घुमाएं बिना एकटक घूरते रहो। या कुछ चूसो और चूसना बन जाओ''।

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

तंत्र सूत्र विधि—10-12 [शिथिल होने की तीन विधियां ]

तंत्र सूत्र विधि—10

शिथिल होने की पहली विधि;-FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

''प्रिय देवी, प्रेम किए जाने के क्षण में प्रेम में ऐसे प्रवेश करो जैसे कि वह नित्‍य जीवन हो''।

तंत्र सूत्र विधि—11

शिथिल होने की दूसरी विधि;-FOR WATER ELEMENT... भक्तियोग

''जब चींटी के रेंगने की अनुभूति हो तो इंद्रियों के द्वार बंद कर दो ..तब''।

तंत्र सूत्र विधि—12

शिथिल होने की तीसरी विधि;-FOR FIRE ELEMENT...कर्मयोग

''जब किसी बिस्‍तर या आसमान पर हो तो अपने को वजनशून्‍य हो जाने दो—मन के पार''।

///////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

तंत्र सूत्र विधि—13-24 [केंद्रित होने की बारह विधियां ]

तंत्र सूत्र विधि—13

केंद्रित होने की पहिली विधि:-FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

“या कल्‍पना करो कि मयूर पूंछ के पंचरंगे वर्तुल निस्‍सीम अंतरिक्ष में तुम्‍हारी पाँच इंद्रियाँ है।अब उनके सौंदर्य को भीतर ही घुलने दो।उसी प्रकार शून्य में या दीवार पर किसी बिंदु के साथ कल्‍पना करो, जब तक कि वह बिंदु विलीन न हो जाए। तब दूसरे के लिए तुम्‍हारी कामना सच हो जाती है।”

तंत्र सूत्र विधि—14

केंद्रित होने की दूसरी विधि:-FOR WATER ELEMENT... भक्तियोग

''अपने पूरे अवधान को अपने मेरुदंड के मध्‍य में कमल-तंतु सी कोमल स्‍नायु में स्‍थित करो और इसमे रूपांतरित हो जाओ''।

तंत्र सूत्र विधि—15

केंद्रित होने की तीसरी विधि:-FOR FIRE ELEMENT...कर्मयोग

“सिर के सात द्वारों को अपने हाथों से बंद करने पर आंखों के बीच का स्‍थान सर्वग्राही हो जाता है।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—16

केंद्रित होने की चौथी विधि:-FOR WATER ELEMENT... भक्तियोग

“हे भगवती, जब इंद्रियाँ ह्रदय में विलीन हों, कमल के केंद्र पर पहुँचों।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—17

केंद्रित होने की पांचवी विधि:-FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

“मन को भूलकर मध्‍य में रहो—जब तक।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—18

केंद्रित होने की छठवीं विधि:-FOR WATER ELEMENT... भक्तियोग

“किसी विषय को प्रेमपूर्वक देखो; दूसरे विषय पर मत जाओ। यहीं विषय के मध्‍य में — आनंद।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—19

केंद्रित होने की सातवीं विधि:-FOR FIRE ELEMENT...कर्मयोग

“पाँवों या हाथों को सहारा दिए बिना सिर्फ नितंबों पर बैठो। अचानक केंद्रित हो जाओगे।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—20

केंद्रित होने की आठवीं विधि:-FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

“किसी चलते वाहन में लयवद्ध झुलने के द्वारा, अनुभव को प्राप्‍त हो। या किसी अचल वाहन में अपने को मंद से मंदतर होते अदृश्‍य वर्तृलों में झुलने देने से भी।”

विज्ञान भैरव सूत्र विधि—21

केंद्रित होने की नौवीं विधि:-FOR AIR ELEMENT... ज्ञानयोग

“अपने अमृत भरे शरीर के किसी अंग को सुई से भेदो, और भद्रता के साथ उस भेदन में प्रवेश करो, और आंतरिक शुद्धि को उपलब्‍ध होओ।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—22

केंद्रित होने की दसवीं विधि:-FOR WATER ELEMENT... भक्तियोग

“अपने अवधान को ऐसी जगह रखो, जहां अतीत की किसी घटना को देख रहे हो और अपने शरीर को भी। रूप के वर्तमान लक्षण खो जायेगे, और तुम रूपांतरित हो जाओगे।”

विज्ञान भैरव सूत्र विधि—23

केंद्रित होने की ग्‍यारहवीं विधि:-FOR FIRE ELEMENT...कर्मयोग

“अपने सामने किसी विषय को अनुभव करो।इस एक को छोड़कर अन्‍य सभी विषयों की अनुपस्‍थिति को अनुभव करो। फिर विषय-भाव और अनुपस्‍थिति भाव को भी छोड़कर आत्‍मोपलब्‍ध होओ।”

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—24

केंद्रित होने की बारहवीं विधि:-FOR FIRE ELEMENT...कर्मयोग

“जब किसी व्‍यक्‍ति के पक्ष या विपक्ष में कोई भाव उठे तो उसे उस व्‍यक्‍ति पर मत आरोपित करे।”

////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////

तंत्र सूत्र विधि—25-29 [अचानक रूकने की पांच विधियां ]

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—25

अचानक रूकने की पहली विधि:-

''जैसे ही कुछ करने की वृति हो , रूक जाओ।''

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि—26

अचानक रूकने की दूसरी विधि:

भगवान शिव कहते है: - ''जब कोई कामना उठे, उस पर विमर्श (consider ) करो। फिर, अचानक, उसे छोड़ दो।‘’

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि-- 27

अचानक रूकने की तीसरी विधि:-

भगवान शिव कहते है:- ''पूरी तरह थकनें तक घूमते रहो, और तब जमीन पर गिरकर, इस गिरने में पूर्ण होओ।''

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि-- 28

अचानक रूकने की चौथी विधि:-

भगवान शिव कहते है: - ''शक्ति या ज्ञान से धीरे- धीरे वंचित होने कि कल्पना करे, और वंचित किये जाने के समय में अतिक्रमण करे (दृष्टा बन जाए)''।

विज्ञान भैरव तंत्र सूत्र विधि-- 29

अचानक रूकने की पांचवी विधि:

भगवान शिव कहते है: - ''भक्ति मुक्त करती है''।