Recent Posts

Archive

Tags

No tags yet.

ज्ञान गंगा

1-जीवन पर्यंत किया गया अभ्यास ...तो परमात्मा भी बाहें फैलाकर प्रतीक्षा करता है।

2- निराशा वह आशा है जो ईश्वर से भेंट कराती है।

3- संसार देता है और श्मशान भी सब कुछ खो कर देता है।

4- एकत्र करना है ;बांटना है; बांटते चलोगे ...तो एकत्र अपने आप हो जाएगा।

5- एकांत में तुम संसार में होते हो या खुद में। निर्णय तुम्हारा है। मैं तो सिर्फ मार्ग हूं ...चलना तुमको है।

6- धर्म पर चलने वाला कर्म को साध लेता है। यही उसे सार्थक बनाता है।

7- सार्थकता परमात्मा का वह प्रकाश है ...जो पूर्ण बनाता है।

8- अपने अंदर रहना सीखना ही खुद में खोना है।यह निरीक्षण भी है और परीक्षण भी...।

9- दो हंसों का जोड़ा प्रेम को दर्शाता है और इसकी शुद्धता ही परिपक्वता है।

10-हमें प्राप्त होता है...

निष्ठा से ~ एकाग्रता

आस्था से ~ रास्ता

विश्वास से ~ आनंद

समर्पण से ~ आत्मानुभूति

प्रेम से ~ अद्वैत

11- शिव का है...

आकार ~ गोल

निराकार~ शून्य

पत्नी ~ महामाया

दृष्टि ~ गोल

12- पैर आधार है...तो निराधार पहाड़ों को काटकर रास्ता बनाना है या खाई में गिरना है?

13- संकल्प दिशा है...और सही गलत तो खुद पर निर्भर है।

14- पाना है तो खोना है... परन्तु निरंतर चलते जाना है।

15- ना तुम... ना हम ... दोनों एक दूसरे में समझ गए ... तो इशारा बहुत है।

16- मौत आनी है ... ना डर ।तू उससे जीत ले हर पल को ... परमपिता परमात्मा का हो जा... तो मौत भी जीवन लगेगी।

17- माया बुरी... न ज्ञान ।मन बुरा... ना विचार। दोनों में सम हो जाओ ... तो यही है परम ज्ञान

18- दूध देखो... दूध की सफेदी देखो। मन देखो...यदि मन के कुकृत्य को देख लिया ... तो यही है ज्ञान।

19- ना खोना ...ना पाना। अस्तित्व में मिलकर परमात्मा में मिल जाना है।

20- कार्य तुम्हारा ... भार तुम्हारा ।आधार तुम्हारा समझ गए ... तो अंतर्मन का व्यापार तुम्हारा।

21- भक्त तू... भक्ति मेरी मिल गए... तो बने अनमोल।

22- यदि हृदय में तूने मुझे बिठा लिया तो...

प्रेम भी हमारा ...प्रीति भी हमारी... भाव भी हमारे... अभाव भी हमारे और मिलन भी हमारा।

23- ज्ञान को जानना... ज्ञान को पहचानना... अगर महसूस किया ...तो वह अनमोल है।

24- ना मान अपना ...ना अपमान ...भूलकर खो जाओ मुझमें ...तो वही है परमानंद।

....SHIVOHAM...